Home राजनीति जनादेश प.बंगाल भाजपा प्रमुख ने कहा, हमारे पास राज्य में चुनाव जिताने वाले उम्मीदवार नहीं

प.बंगाल भाजपा प्रमुख ने कहा, हमारे पास राज्य में चुनाव जिताने वाले उम्मीदवार नहीं

आउटलुक टीम - MAR 16 , 2019
प.बंगाल भाजपा प्रमुख ने कहा, हमारे पास राज्य में चुनाव जिताने वाले उम्मीदवार नहीं
प.बंगाल भाजपा प्रमुख ने कहा, हमारे पास राज्य में चुनाव जिताने वाले उम्मीदवारों नहीं
आउटलुक टीम

आगामी आम चुनाव के लिए पश्चिम बंगाल में जब भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह अपनी पूरी ताकत झोंक रहे हैं, पार्टी उम्मीद कर रही है कि उत्तर प्रदेश की सीटों के नुकसान की भरपाई वह पश्चिम बंगाल से करेगी ऐसे में राज्य के पार्टी प्रमुख दिलीप घोष का कहना है कि राज्य की कई लोकसभा सीटों के लिए पर्याप्त नेताओं का अभाव है।

सबके लिए खुले दरवाजे

दिलीप घोष का कहना है कि अन्य संगठनों के नेताओं के लिए उनकी पार्टी का "दरवाजा खुला" है। जो उनके साथ काम करना चाहते हैं आ जाएं। घोष का कहना है कि "यह सच है कि हमारी राज्य इकाई के पास पर्याप्त नेता नहीं हैं जो यहां संसदीय चुनाव जीत सकें। हम लोग दूसरे दलों से नेता ले रहे हैं। जो लोग हमारी पार्टी के साथ काम करना चाहते हैं और विकास के (प्रधानमंत्री) साथ हैं उनका स्वागत है।

विपक्षी दल साथ जुड़ रहा

घोष का दावा है कि विपक्षी दलों के नेता हमारे साथ हैं और अन्य नेता अधिक तेजी से जुड़ रहे हैं। आने वाले दिनों में यह संख्या और बढ़ेगी। लोकसभा चुनाव की हमारी उम्मीदवार सूची कुछ दिनों में घोषित कर दी जाएगी। आप देखेंगे कि हम कैसे जवाबी हमला करते हैं। उनकी यह टिप्पणी सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के विधायक अर्जुन सिंह के भाजपा में शामिल होने के एक दिन बाद आई। तृणमूल से सौमित्र खान और अनुपम हाजरा, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के खगेन मुर्मू-मार्क्सवादी और कांग्रेस के दुलाल बार सहित अन्य दलों के कई नेता हाल के हफ्तों में भगवा ब्रिगेड में शामिल हुए हैं।

उम्मीदवार बहुत जिताऊ कम

घोष ने कहा कि हालांकि उनके पास भाजपा के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए पार्टी को बंगाल से 350 से अधिक आवेदन मिले हैं। हमारी पार्टी के करीब 50 नेता संभावित उम्मीदवार हैं। इसलिए 400 से अधिक नाम हैं। हम हर सीट के लिए तीन-चार नामों को छांटेंगे और पार्टी के संसदीय बोर्ड को भेजेंगे। अंतिम निर्णय उनके द्वारा लिया जाएगा। उन्होंने कहा, "हर चुनाव का एक निश्चित कद होता है। इसलिए उस कद के नेताओं को लोकसभा चुनाव में लड़ने और संसद में हमारा प्रतिनिधित्व करने का मौका दिया जाएगा।"

अति संवेदनशील राज्य की मांग

बंगाल को "अति-संवेदनशील राज्य" घोषित करने की भाजपा की मांग पर सवाल उठाने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर कटाक्ष करते हुए, घोष ने दावा किया कि बनर्जी और उनकी पार्टी केंद्रीय बलों का विरोध कर रही है क्योंकि वे वोटों में हेराफेरी नहीं कर पाएंगे। घोष ने कहा, "जब वह 2009 में विपक्ष में थी, तो उनकी भी यही मांग थी। हमारे पास चुनाव आयोग को उनके द्वारा सौंपी गई अर्जी की एक प्रति है। लेकिन अब वह ऐसा नहीं चाहती क्योंकि वोटों में हेराफेरी करके चुनाव जीतना उनकी आदत बन गई है।" उन्होंने कहा, "अगर बंगाल के सभी बूथों को संवेदनशील घोषित किया जाता है, तो बनर्जी चुनावों का बहिष्कार कर सकती हैं। वह अब लोगों के फैसले से डर गई हैं," उन्होंने कहा, यही कारण है कि दो निगमों और 15 नगर पालिकाओं के चुनाव स्थगित कर दिए गए हैं।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से