Home » राजनीति » जनादेश » भाजपा के हाथों से गई गुरदासपुर लोकसभा सीट, 1.93 लाख वोटों से जीते कांग्रेस के जाखड़

भाजपा के हाथों से गई गुरदासपुर लोकसभा सीट, 1.93 लाख वोटों से जीते कांग्रेस के जाखड़

OCT 15 , 2017

पंजाब की गुरदासपुर लोकसभा सीट के लिए हुए उपचुनाव में कांग्रेस ने बड़ी जीत हासिल की है। रविवार को मतों की गिनती के बाद चौंकाने वाले नतीजे सामने आए हैं।  कांग्रेस के उम्‍मीदवार सुनील जाखड़ 1.93 लाख वोटों से जीत दर्ज कर ली है। 


Advertisement

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक कांग्रेस के उम्मीदवार सुनील जाखड लगभग 1,93,219 मतों बड़ी कामयाबी पाई है। कांग्रेस प्रत्‍याशी सुनील जाखड़ अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के स्‍वर्ण सलरिया बुरी तरह हराया है।

गुरदासपुर लोकसभा सीट दिवंगत भाजपा सांसद विनोद खन्ना के निधन की वजह से रिक्त हुई थी। जिस पर कांग्रेस ने प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ को मैदान में उतारा तो भाजपा ने स्वर्ण सलारिया और आम आदमी पार्टी ने मेजर जनरल सुरेश खजारिया पर दांव खेला था।

11 अक्टूबर को हुए इस चुनाव को भाजपा और कांग्रेस के लिए अग्नि परीक्षा के तौर पर देखा जा रहा है। इस उपचुनाव में 56 फीसदी मतदान हुआ जो 2014 के लोकसभा चुनाव के मुकाबले काफी कम है। 2014 में इस सीट पर 70.03 फीसद मतदान हुआ था।

किनके खाते में कितना वोट ?

कांग्रेस: 4,99,752,

भाजपा: 3,06,533,

आप: 23,579 


 

केरल में मुस्लिम लीग को कामयाबी

केरल के वेनगना सीट पर हुए उपचुनाव में इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML) के केएनए कादर 23,310 वोटों से जीते. इस सीट पर कादर को जहां 64860 वोट मिले, तो वहीं उन्हें करीबी माकपा प्रतिद्वंद्वि पीपी बशीर को 41917 वोट मिले, वहीं भाजपा के उम्मीदवार के जनचंद्रन को 5728 वोट मिले और वह चौथे स्थान पर रहे।


कौन हैं सुनील जाखड़
 पंजाब में कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में गिने जाने वाले सुनील जाखड़ फिलहाल पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी यानि पीपीसीसी के अध्यक्ष हैं। वह 2002 से पंजाब की अबोहार सीट से लगातार तीन बार विधायक रहे हैं। जाखड़ 2012 से लेकर 2017 तक पंजाब विधानसभा में नेता विपक्ष की भूमिका में भी रहे।

सुनील जाखड़ पंजाब में सबसे साफ छवि के नेताओं में गिने जाते हैं। वह साल 2002 में अबोहार सीट जीतकर पहली बार विधायक बने थे। इसके बाद 2007 और 2012 के चुनावों में वो फिर से विधायक चुने गए।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.