Home राजनीति जनादेश जीत के बाद बोले मोदी- सरकार भले बहुमत की हो लेकिन देश सर्वमत से चलता है

जीत के बाद बोले मोदी- सरकार भले बहुमत की हो लेकिन देश सर्वमत से चलता है

आउटलुक टीम - MAY 23 , 2019
जीत के बाद बोले मोदी- सरकार भले बहुमत की हो लेकिन देश सर्वमत से चलता है
जीत के बाद बोले मोदी- हम दो से दोबारा आ गए, हम नम्रता, आदर्श और अपने संस्कार नहीं छोड़ेंगे
ANI
आउटलुक टीम

लोकसभा चुनावों के रूझानों और नतीजों से साफ हो गया है कि एक बार फिर देश में मोदी सरकार बनने जा रही है। अभी तक के जनादेश से साफ है कि मोदी सरकार पिछली बार से ज्यादा सीटों से सरकार बनाने जा रही है। भाजपा+ अब तक 203 सीटों पर जीत हासिल कर चुकी है जबकि 147 सीटों पर आगे चल रही है। कांग्रेस+ 53 सीटों पर जीत हासिल कर 40 सीटों पर बढ़त बनाई हुई है। अन्य जहां 47 सीटों पर जीत चुके हैं वहीं 52 पर बढ़त बनाए हुए हैं।

विजय भाषण के लिए प्रधानमंत्री भाजपा हेडक्वार्टर पहुंचे। प्रधानमंत्री मोदी ने बारिश की तरफ इशारा करते हुए कहा कि आज मेघराज भी इस उत्सव में शरीक होने के लिए हमारे बीच हैं। उन्होंने कहा कि 2019 लोकसभा का जनादेश हम सब देशवासियों के पास नये भारत के लिए जनादेश लेने के लिए गए थे। आज हम देख रहे हैं, देश के कोटि-कोटि नागरिकों ने इस फकीर की झोली को भर दिया है। 

'अब तक के चुनावों में सबसे ज्यादा मतदान'

मोदी ने कहा कि मैं भारत के 130 करोड़ नागरिकों का सर झुकाकर नमन करता हूं। 2019 का मतदान का आंकड़ा है, यह अपने आप में लोकतांत्रिक विश्व के इतिहास की सबसे बड़ी घटना है। देश आजाद हुआ, इतने लोकसभा के चुनाव हुए लेकिन सबसे अधिक मतदान इस चुनाव में हुआ और वो भी 40-42 डिग्री गर्मी के बीच में। ये भारत के मतदाताओं की जागरुकता, लोकतंत्र के प्रति भारत की प्रतिबद्धता, पूरे विश्व को इसे रजिस्टर करना होगा।

'जनता जनार्दन के चरणों में विजय समर्पित'

उन्होंने कहा कि मैंने पहले दिन से कहा था कि ये चुनाव कोई दल, कोई उम्मीदवार, कोई नेता नहीं लड़ रहा है, ये चुनाव देश की जनता लड़ रही है। मेरी इस भावना को जनता जनार्दन ने प्रकट कर दिया है। अगर कोई विजयी हुआ है तो हिंदुस्तान विजयी हुआ है, लोकतंत्र विजयी हुआ है, जनता जनार्दन विजयी हुई है। हम सभी भाजपा के कार्यकर्ता, एनडीए के साथी नम्रतापूर्वक इस विजय को जनता जनार्दन के चरणों में समर्पित करते हैं।

'हम दो से दोबारा आ गए'

मोदी ने कहा कि हम कभी दो भी हो गए लेकिन आदर्शों से विचलित नहीं हुए। लेकिन कभी थके नहीं, झुके नहीं। आज हम दो से दोबारा आ गए। जब दो थे तब भी हम ऐसे ही थे। आज जब दोबारा आए हैं तब भी न हम नम्रता छोड़ेंगे, न आदर्श छोड़ेंगे, न संस्कार छोड़ेंगे।

'ये ईमानदारी के लिए तड़पती जनता की विजय'

मोदी ने कहा कि 21वीं सदी के सपनों को लेकर चलने वाले नौजवान की विजय है। ये विजय ईमानदारी के लिए तड़पती जनता की विजय है। एक शौचालय के लिए तड़पती मां की विजय है। देश के किसानों की विजय है, जो पसीना बहाकर राष्ट्र का पेट भरने के लिए अपने पेट को परेशान करता है। यह 40 करोड़ असंगठित मजदूरों की विजय है। लेफ्ट वालों ने विचार तो बहुत दिए होंगे लेकिन एक सरकार जिस पर लेफ्ट का लेबल नहीं है, उन्होंने मजदूरों के लिए पेंशन की व्यवस्था की। 2022 तक जिनके घर बनने वाले हैं, ये उनकी विजय है।

'सेक्युलरिज्म, महंगाई और भ्रष्टाचार चुनाव में मुद्दा नहीं रहा'

उन्होंने कहा कि बहुत दिनों से ये ड्रामेबाजी चल रही है। कोई सेक्युलरिज्म का नकली टैग लगा लेता है। पूरे चुनाव में एक भी राजनीतिक दल सेक्युलरिज्म का टैग ओढ़कर नहीं गया। महंगाई को लेकर किसी विरोधी दल ने आरोप नहीं लगाया। पहले के सब चुनाव भ्रष्टाचार के मुद्दे पर लड़े गए। ये पहला चुनाव था, जिसमें कोई दल भ्रष्टाचार का एक आरोप नहीं लगा पाया। इसीलिए पॉलिटिकल पंडितों को समझ में नहीं आ रहा था कि किस तराजू से चीजों को तौला जाए।

'देश मे दो ही जातियां'

मोदी ने कहा कि देश में दो ही जातियां हैं- एक गरीब और दूसरी देश को गरीबी से मुक्ति दिलाने वालों की। सरकार भले बहुमत की हो लेकिन देश सर्वमत से चलता है। चुनाव में किसने क्या बोला, वो बात बीत चुकी है। हमें आगे देखना है। हमें सबको साथ लेकर चलना है। घोर विरोधियों को भी साथ लेकर चलना है और पूरी नम्रता के साथ चलना है। लोकतंत्र के दायरे में चलना है। संविधान ही हमारा सुप्रीम है। उसी की छाया में चलना है। देश ने हमें बहुत दिया है। मैं देशवासियों को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि आपने इस फकीर की झोली तो भर दी

उन्होंने कहा कि मैं देश को कहूंगा कि आपने 2014 में मुझे ज्यादा जानते नहीं थे लेकिन 2019 में आपने मुझे और ज्यादा जानने के बाद और ज्यादा ताकत दी। मैं इसके पीछे की भावना को भली भांति समझता हूं। भरोसा बढ़ता है तो जिम्मेदारी और बढ़ती है।

'मुझे इन तीन तराजू पर तोलिएगा'

उन्होंने कहा कि आपने मुझे जो दायित्व दिया है, एनडीए के साथियों ने भी मेहनत की है, तब जाकर मैं देशवासियों से आज जरूर कहना चाहूंगा और इसे मेरा वादा मानिए, मेरा संकल्प मानिए, समर्पण मानिए, प्रतिबद्धता मानिए, आपने जो मुझे काम दिया, मैं आने वाले दिनों में बदइरादे और बदनीयत से कोई काम नहीं करूंगा। दूसरा, मैं मेरे लिए कुछ नहीं करूंगा। तीसरा, मेरे समय का पल-पल, मेरे शरीर का कण-कण सिर्फ और सिर्फ देशवासियों के लिए है।

मोदी ने कहा कि मेरे देशवासी आप जब भी मेरा मूल्यांकन करें इन तीन तराजू पर मुझे कसते रहना। कभी कोई कमी रह जाए तो मुझे कोसते रहना लेकिन मैं देशवासियों को विश्वास दिलाता हूं मैं सार्वजनिक रूप से जो बातें बताता हूं उसे जीने के लिए भरपूर प्रयास करता हूं। पन्ना प्रमुख से लेकर राष्ट्रीय प्रमुख तक उनकी प्रतिबद्धता को बहुत-बहुत धन्यवाद करता हूं।

अमित शाह ने क्या कहा

अमित शाह ने कहा कि कार्यकर्ताओं और जनता को प्रणाम किया। इसे उन्होंने ऐतिहासिक विजय बताया। उन्होंने कहा- इस ऐतिहासिक विजय के लिए मैं भाजपा की ओर से देश के सवा सौ करोड़ जनता का धन्यवाद करता हूं। यह देश की जनता की विजय है। बूथ से लेकर हर स्तर पर काम करने वाले 11 करोड़ कार्यकर्ताओं के परिश्रम की विजय है। सबका साथ, सबका विकास की नीति है। यह पीएम मोदी की लोकप्रियता की विजय है।

शाह ने कहा कि पांच साल में देश के 28 करोड़ गरीब परिवार के जीवन स्तर को उठाने के लिए काम किया।आने वाले दिनों में परिवारवादी, जातिवादी और तुष्टिकरण करने वाली पार्टियों का कोई स्थान नहीं रहने वाला है।टुकड़े-टुकड़े गैंग के खिलाफ मोदी जी के सबका साथ-सबका विकास की जीत है। विपक्ष नकारात्मक एजेंडा लेकर चला। अनर्गल आरोप मोदी जी पर लगाता रहा और भारत की जमीन से कटी हुई विचारधारा को लेकर वो चलते रहे, जिन्हें हराने का काम भारत की जनता ने किया।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से