Advertisement
Home राजनीति विपक्ष को एकजुट करने की कवायद, सोनिया को मना पाएंगे लालू?

विपक्ष को एकजुट करने की कवायद, सोनिया को मना पाएंगे लालू?

आउटलुक टीम - SEP 22 , 2022
विपक्ष को एकजुट करने की कवायद, सोनिया को मना पाएंगे लालू?
विपक्ष को एकजुट करने की कवायद, सोनिया को मना पाएंगे लालू?
आउटलुक टीम

राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद ने बुधवार को कहा कि वह बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ 2024 के लोकसभा चुनावों से पहले सभी प्रमुख गैर-भाजपा दलों को एकजुट करने के प्रयास में जल्द ही दिल्ली में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करेंगे। लालू के इस बयान के बाद अब सबकी निगाहें उनकी मुलाकात पर टिक गई है।

उन्होंने दावा किया कि लोगों को परेशान कर रहे वास्तविक मुद्दों को छिपाने के लिए भाजपा समाज में सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ना चाहती है। “मैं नीतीश कुमार जी के साथ दिल्ली में सोनिया (गांधी) जी से मिलूंगा।  मैं राहुल गांधी की पदयात्रा पूरी होने के बाद उनसे भी मिलूंगा...  अगले लोकसभा चुनाव में एकजुट विपक्ष भाजपा को सत्ता से बाहर कर देगा।'

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बिहार के सीमांचल इलाके के आगामी दौरे का जिक्र करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों को सतर्क और सावधान रहने की जरूरत है।

  “भाजपा नेता राज्य में विभिन्न समुदायों के लोगों को आपस में लड़ने के लिए उकसा सकते हैं।  केंद्रीय गृह मंत्री के इस दौरे को लेकर नीतीश जी भी काफी सावधान हैं।'

सीमांचल क्षेत्र में मुस्लिम आबादी का भारी घनत्व है।  शाह 23 और 24 सितंबर को क्रमश: पूर्णिया और किशनगंज जिलों में दो रैलियों को संबोधित करने वाले हैं।

पार्टी के प्रमुख रणनीतिकार माने जाने वाले शाह की यह राज्य की पहली यात्रा होगी, क्योंकि राजनीतिक उथल-पुथल ने भाजपा की सत्ता छीन ली।

  “उनका (भाजपा नेताओं का) एजेंडा समाज में सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ना है और लोगों को वास्तविक मुद्दों पर बहस करने की अनुमति नहीं देना है…।  कई राजनीतिक दलों ने बीजेपी के साथ समझौता किया लेकिन मैंने ऐसा कभी नहीं किया।'

  शाह के दौरे के बाद महागठबंधन के सहयोगियों ने सीमांचल क्षेत्र में कम से कम तीन रैलियों की योजना बनाई है।

राजद सुप्रीमो, जिनकी तबीयत ठीक नहीं है, उनके साथ मंच पर राजद की राज्य इकाई के अध्यक्ष जगदानंद सिंह, उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव और समाजवादी नेता शरद यादव थे।

इसी साल 20 मार्च को दिल्ली में तेजस्वी यादव की मौजूदगी में शरद यादव ने अपने लोकतांत्रिक जनता दल का राजद में विलय कर दिया।

 

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से

Advertisement
Advertisement