Home राजनीति सामान्य सीएए पर पीएम के बयान से रामकृष्ण मिशन ने दूरी बनाई, टिप्पणी करने से इन्कार

सीएए पर पीएम के बयान से रामकृष्ण मिशन ने दूरी बनाई, टिप्पणी करने से इन्कार

आउटलुक टीम - JAN 12 , 2020
सीएए पर पीएम के बयान से रामकृष्ण मिशन ने दूरी बनाई, टिप्पणी करने से इन्कार
सीएए पर पीएम के बयास से रामकृष्ण मिशन ने दूरी बनाई, टिप्पणी करने से इन्कार
आउटलुक टीम

पश्चिम बंगाल के बेलूर स्थित रामकृष्ण मठ और मिशन ने नागरिकता संशोधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान से दूरी बना ली। मिशन ने कहा कि वह गैर राजनीतिक संगठन है। इसलिए ऐसे मामलों पर वह कोई टिप्पणी नहीं करेगा। पीएम ने यहां अपने भाषण में कहा था कि नए कानून में किसी की नागरिकता छीनने की कोई बात नहीं है और समाज का एक वर्ग इस मुद्दे पर युवाओं को गुमराह कर रहा है।

हम गैर राजनीतिक संगठन

मिशन के महासचिव स्वामी सुवीरानंद ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि संगठन पीएम के बयान पर कोई टिप्पणी नहीं करेगा क्योंकि हम गैर राजनीतिक संगठन हैं। हम अपना घर छोड़कर यहां चिरकालिक विषयों पर विचार करने के लिए आए हैं। हम ऐसे क्षणभंगुर मुद्दों पर बात नहीं करते हैं। उन्होंने कहा कि मोदी हमारे मेहमान थे। यह उनकी मर्जी है, वह क्या बोलते हैं।

पीएम ने कहा- कुछ युवा भ्रम के शिकार

पीएम मोदी ने मिशन में कहा था कि इतनी स्पष्टता के बावजूद, कुछ लोग नागरिकता कानून को लेकर भ्रम फैला रहे हैं। जो बात यहां बैठे बच्चों को समझ में आ गई वह कई राजनीतिक दलों के लोगों को समझ में नहीं आई। दरअसल, वे समझना ही नहीं चाहते। मोदी ने कहा कि सीएए को लेकर देश भर में चर्चा हो रही है। इस कानून को लेकर कुछ युवा भ्रम के शिकार हैं। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल की धरती से एक बार फिर से वे लोगों को आश्वस्त करना चाहेंगे कि ये कानून नागरिकता देने के लिए बना है। छीनने के लिए नहीं।

राजनीति का खेल खेलने वाले लोग नहीं समझना चाहते

पीएम मोदी ने कहा, “आपने इसे बहुत स्पष्ट रूप से समझा। लेकिन राजनीतिक खेल खेलने वाले जानबूझकर समझने से इनकार करते हैं। सीएए पर लोगों को गुमराह किया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बेलूर मठ में मौजूद लोगों से पूछा कि क्या भारत आए शरणार्थियों को मरने के लिए छोड़ देना चाहिए, क्या उन्हें लेकर हमारी जिम्मेदारी नहीं है। पीएम ने कहा कि इतनी स्पष्टता के बावजूद, कुछ लोग सिटिजनशिप अमेंडमेंट एक्ट को लेकर भ्रम फैला रहे हैं। मुझे खुशी है कि आज का युवा ही ऐसे लोगों का भ्रम भी दूर कर रहा है।

कोलकाता बंदरगाह श्याम प्रसाद मुखर्जी के नाम पर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोलकाता बंदरगाह न्यास का नाम श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर रखा जाएगा। मोदी ने कोलकाता बंदरगाह न्यास की स्थापना के 150 वर्ष पूरे होने पर कहा कि देश के तट विकास के प्रवेश द्वार हैं और हमारी सरकार ने संपर्क में सुधार करने के लिए सागरमाला कार्यक्रम की शुरुआत की।

पश्चिम बंगाल के कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज का ये दिन कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट के लिए, इससे जुड़े लोगों के लिए, यहां काम कर चुके साथियों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण अवसर है। भारत में पोर्ट डेवलपमेंट को नई ऊर्जा देने का इससे बड़ा कोई अवसर नहीं हो सकता।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से