Home » राजनीति » सामान्य » पटाखा बैन को लेकर बोले त्रिपुरा के गवर्नर, पटाखों से ध्वनि प्रदूषण तो अजान के स्पीकर पर चुप्पी क्यों?

पटाखा बैन को लेकर बोले त्रिपुरा के गवर्नर, पटाखों से ध्वनि प्रदूषण तो अजान के स्पीकर पर चुप्पी क्यों?

OCT 18 , 2017

त्रिपुरा के गवर्नर तथागत रॉय ने पटाखा बैन को लेकर एक बार फिर विवादित बयान दे डाला। अपने ट्विटर अकाउंट के माध्यम से लगातार तीन ट्वीट्स करते हुए अजान की तुलना दीपावली के पटाखों से होने वाले ध्वनि प्रदूषण से की है। दिल्ली-एनसीआर में 31 अक्टूबर तक पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध को लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेशों पर तथागत रॉय ने लगातार दूसरी बार इस तरह का विवादित बयान दिया है।

राज्यपाल ने ट्वीट कर उन लोगों से सवाल पूछा है तो दीपावली के दौरान पटाखों से ध्वनि प्रदूषण की शिकायत करते हैं। रॉय ने लिखा है कि हर दीपावली में पटाखों से होने वाले ध्वनि प्रदूषण पर अक्सर वाद-विवाद होता है, जो साल में कुछ दिन होते हैं, लेकिन हर रोज सुबह 4.30 बजे से लाउडस्पीकर पर अजान पर कोई बात नहीं होती।

रॉय ने लिखा है कि लाउडस्पीकर पर अजान से होने वाला ध्वनि प्रदूष पर सेक्यूलर लोगों की चुप्पी हैरान करती है। कुरान या हदीस में लाउडस्पीकर पर अजान की बात नहीं की गई है। रॉय ने लिखा है कि मुअज्जिन को मीनर पर तेज आवाज में आजान करना होता है ऐसे में मीनारें बनाई गई है, लाउडस्पीकर का प्रयोग इस्लाम के खिलाफ हैं।

Advertisement




बता दें कि रॉय का यह बयान ऐसे समय में आया है जब पश्चिम बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की अगुवाई वाली तृणमूल सरकार ने 19 अक्टूबर, दीपावली को रात 10 बजे से 20 अक्टूबर की सुबह 6 बजे तक पटखों पर पाबंदी लगाई है।

हालांकि, इससे पहले भी सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिल्ली-एनसीआर में पटाखों पर बैन लगाने के फैसले पर त्रिपुरा के गवर्नर तथागत रॉय के ट्विट ने सोशल मीडिया पर काफी हंगामा मचा दिया था। अपने ट्वीट में रॉय ने लिखा था, 'कभी दही हांडी, आज पटाखा, कल को हो सकता है कि प्रदूषण का हवाला देकर अवॉर्ड वापसी गैंग हिंदुओं की चिता जलाने पर भी याचिका डाल दे।' तथागत रॉय के इस ट्वीट के बाद कई लोगों ने उन्हें अपने निशाने पर लिया है।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.