Home राजनीति सामान्य डीके शिवकुमार की गिरफ्तारी के विरोध में कांग्रेस, जेडीएस और वोक्कालिगा समुदाय का प्रदर्शन

डीके शिवकुमार की गिरफ्तारी के विरोध में कांग्रेस, जेडीएस और वोक्कालिगा समुदाय का प्रदर्शन

आउटलुक टीम - SEP 11 , 2019
डीके शिवकुमार की गिरफ्तारी के विरोध में कांग्रेस, जेडीएस और वोक्कालिगा समुदाय का प्रदर्शन
डीके शिवकुमार की गिरफ्तारी के विरोध में कांग्रेस, जेडीएस और वोक्कालिगा समुदाय का प्रदर्शन
File Photo
आउटलुक टीम

कर्नाटक के बेंगलुरू में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डीके शिवकुमार की गिरफ्तारी के खिलाफ वोक्कालिगा समुदाय के हजारों लोगों ने बुधवार को प्रदर्शन किया। समुदाय के विभिन्न संगठनों की तरफ से ‘‘राजभवन चलो’ के आह्वान के बाद राज्य के विभिन्न हिस्से से प्रदर्शनकारी शहर में आए। इनमें ज्यादातर लोग वोक्कालिगा के मजबूत गढ़ पुराने मैसूरु क्षेत्र से आए। इस प्रदर्शन में कांग्रेस और जेडीएस कार्यकर्ता भी शामिल हुए।

कर्नाटक में वोक्कालिगा और लिंगायत दो प्रभावशाली समुदाय हैं। कर्नाटक के प्रभावशाली कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री शिवकुमार को प्रवर्तन निदेशालय ने कथित धनशोधन के मामले में तीन सितंबर को गिरफ्तार किया था और वह तब से एजेंसी की हिरासत में हैं। इसके बाद लोगों में आक्रोश फैल गया है आज पार्टी नेता के लिए लोग सड़कों पर उतर आए। कॉलेज मैदान से फ्रीडम पार्क तक मार्च निकाला गया और फिर प्रदर्शनकारी राजभवन की ओर बढ़े। 

मनी लॉन्ड्रिंग का केस नहीं बनता: अभिषेक मनु सिंघवी

वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि आयकर विभाग ने जिन सेक्शन के तहत कार्रवाई की है उनके आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग का केस नहीं बनता। उन्होंने कहा कि आरोपी को मौखिक अर्जी के आधार पर भी जमानत दी जा सकती है। क्या अपने ऑडिटर का नाम न बताना जांच में सहयोग न करना है? सिंघवी ने कहा कि एजेंसी क्या चाहती है, शिवकुमार क्या गुनाह कबूल कर लें! उन्हें किसी भी शर्त पर बेल दी जाए।

उन्होंने कहा कि उन्हें एक दिन दिन या मिनट की रिमांड नहीं देनी चाहिए। डीके शिवकुमार को दवाई और प्रॉपर खाने की जरूरत है जो उन्हें मिलना चाहिए। आज भी उन्हें खाना नहीं दिया गया। उन्हें टॉर्चर किया जा रहा है।

जेडीएस और कांग्रेस का समर्थन

प्रदर्शन को विपक्षी कांग्रेस और जद (एस) का समर्थन था। हाथों में तख्तियां, बैनर और शिवकुमार के पोस्टर लिए हुए लोगों ने भाजपा विरोधी नारेबाजी की। कानून-व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए मार्ग में हजारों पुलिसकर्मियों की तैनाती की गयी थी।

पुलिस रही सतर्क

हजारों लोगों के आने की संभावना को देखते हुए पुलिस ने कई जगह यातायात को दूसरी ओर मोड़ दिया था लेकिन यातायात पर असर पड़ा। ईडी ने पूर्व मंत्री के खिलाफ अपनी जांच के मामले में शिवकुमार की बेटी ऐश्वर्या को समन किया था। उन्हें 12 सितंबर को मामले के जांच अधिकारी के सामने गवाही देने के लिए कहा गया है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से