Home राजनीति विश्लेषण कांग्रेस के भीतर संघर्ष थमने के संकेत? राहुल, गुलाम नबी आजाद एक साथ आए नजर

कांग्रेस के भीतर संघर्ष थमने के संकेत? राहुल, गुलाम नबी आजाद एक साथ आए नजर

आउटलुक टीम - OCT 14 , 2021
कांग्रेस के भीतर संघर्ष थमने के संकेत? राहुल, गुलाम नबी आजाद एक साथ आए नजर
राष्ट्रपति कोविंद से मुलाकात करते राहुल, ग़ुलाम नबी आजाद समेत अन्य कांग्रेस नेता
आउटलुक टीम

कांग्रेस के भीतर जारी संघर्ष अब थमता दिख रहा है। दरअसल, कांग्रेस नेता राहुल गांधी और गुलाम नबी आजाद पार्टी के दो कार्यक्रमों पहला बांग्लादेश युद्ध की फोटो प्रदर्शनी में और दूसरा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के साथ प्रतिनिधिमंडल की बैठक के दौरान साथ नजर आए।

शनिवार को होने वाली कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक (सीडब्ल्यूसी) से पहले यह तस्वीर पार्टी के लिए राहत का संकेत है। आजाद ही थे जिन्होंने सीडब्ल्यूसी की बैठक बुलाने के लिए अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा था।

प्रियंका गांधी वाड्रा के नेतृत्व में जी-23 के नेताओं के साथ पर्दे के पीछे से संघर्ष विराम पर काम किया जा रहा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ असंतुष्ट समूह से बात कर रहे हैं और प्रियंका भी भूपिंदर हुड्डा के बेटे दीपेंद्र हुड्डा को लखीमपुर खीरी हिंसा के विरोध में शामिल करके जी -23 तक पहुंचने की कोशिश कर रही हैं। वह अपनी रैली के लिए जूनियर हुड्डा को वाराणसी भी ले गईं।

लखीमपुर खीरी कांड पर एक ज्ञापन सौंपने के लिए राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से मिलने जा रहे कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल से संघर्ष विराम के संकेत मिले। प्रतिनिधिमंडल में राहुल गांधी के साथ गुलाम नबी आजाद भी शामिल थे, जो कि जी-23 द्वारा एक साल पहले पत्र लिखने वाले नेताओं में से एक हैं।

कांग्रेस पिछले साल अगस्त 2020 से आंतरिक कलह से घिरी हुई है, नेताओं द्वारा जब सोनिया गांधी को दृश्यमान और प्रभावी नेतृत्व के लिए एक पत्र लिखा गया था। पिछले महीने गुलाम नबी आजाद ने फिर सोनिया गांधी को सीडब्ल्यूसी की बैठक बुलाने के लिए पत्र लिखा था और अब कांग्रेस आलाकमान ने 16 अक्टूबर को बैठक बुलाई है।

पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने हाल ही में कहा था: "हमारी पार्टी में कोई अध्यक्ष नहीं है, इसलिए हमें नहीं पता कि सभी निर्णय कौन ले रहा है। हम इसे जानते हैं, फिर भी हम नहीं जानते, मेरे एक वरिष्ठ सहयोगी ने शायद लिखा है या सीडब्ल्यूसी की तत्काल बैठक बुलाने के लिए अंतरिम अध्यक्ष को पत्र लिखने वाला है ताकि बातचीत शुरू की जा सके।"

लेकिन लखीमपुर खीरी कांड के बाद जी-23 ने अपने बयानों में नरमी ला दी है। G-23 नेताओं में से एक आनंद शर्मा गांधी परिवार की प्रशंसा करते रहे हैं। उन्होंने राहुल गांधी और प्रियंका की "उन किसानों के साथ करुणा और एकजुटता के साहसी कार्य की सराहना की।"



अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से