Home राजनीति विश्लेषण कभी राजनाथ सिंह के बेहद खास रहे वरूण गांधी को भाजपा ने कैसे किनारे लगा दिया? कई मामले दे रहे हैं गवाही

कभी राजनाथ सिंह के बेहद खास रहे वरूण गांधी को भाजपा ने कैसे किनारे लगा दिया? कई मामले दे रहे हैं गवाही

आउटलुक ब्यूरो - OCT 13 , 2021
कभी राजनाथ सिंह के बेहद खास रहे वरूण गांधी को भाजपा ने कैसे किनारे लगा दिया? कई मामले दे रहे हैं गवाही

File Photo
आउटलुक ब्यूरो

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता वरुण गांधी को अब पार्टी किनारे लगाने की तैयारी में दिखाई दे रही है। वरूण गांधी साल 2004 में पार्टी में शामिल हुए थे। उन्हें उस वक्त भाजपा के मुख्य रणनीतिकारों लालकृष्ण आडवाणी और प्रमोद महाजन का भरपूर समर्थन प्राप्त था। इसके पीछे की बड़ी वजह से ये थी कि पार्टी के शीर्ष आलाकमानों का मानना था कि कांग्रेस के गांधी परिवार का का मुकाबला एक गांधी परिवार ही कर सकता है। 

वरूण गांधी को राजनाथ सिंह के बेहद करीबी लोगों में से एक माना जाता है। जब तक बीजेपी की कमान राजनाथ सिंह के पास थी, तब तक वरुण गांधी का पार्टी में सम्मानजनक ओहदा था। उन्हें पार्टी के महासचिव की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। इसके अलावा उन्हें पश्चिम बंगाल में पार्टी का प्रभारी भी बनाया गया था।

लेकिन, अब वरूण गांधी पार्टी की तरफ से सिर्फ एक चुने हुए सांसद हैं। दरअसल, पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने अहम बदलाव के साथ अपनी नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी घोषित पिछले सप्ताह की। इस नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी में 80 सदस्य शामिल हैं, जिस सूची में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और मुरली मनोहर जोशी का नाम भी शामिल हैं। इतना ही नहीं, लिस्ट में लालकृष्ण आडवाणी को भी शामिल किया गया। लेकिन, दिलचस्प है कि इसमें वरुण गांधी और मेनका गांधी को जगह नहीं दी गई।

वरूण गांधी अपने मुखर बयान के लिए जाने जाते हैं। लखीमपुर खीरी हिंसा और किसान आंदोलन को लेकर वो अपनी ही सरकार के खिलाफ लगातार हमवालर दिखाई दे रहे हैं। यही वजह माना जा रहा है कि उन्हें पार्टी से छुट्टी कर दी गई है।

दरअसल, वरूण गांधी और भाजपा के बीच टक्करार कोई नया नहीं है। जब साल 2014 लोकसभा चुनाव को लेकर बीजेपी में नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार घोषित किए जाने को लेकर उठापटक जारी था, तब वरुण ने राजनाथ की तुलना अटल बिहारी वाजपेयी से की थी और उन्हें पीएम उम्मीदवार बनाने की वक़ालत की थी।

मोदी के अलावा अमित शाह से भी वरूण गांधी के अच्छे तालुकात बहुत कम दिखाई दिए हैं। राजनाथ सिंह के बाद जब बीजेपी की कमान मौजूदा गृहमंत्री अमित शाह के जिम्मे आई तो उन्होंने वरुण गांधी को पार्टी महासचिव के पद से से हटा दिया। इतना ही नहीं, बंगाल की भी जिम्मेदारी उनसे वापस ले ली गई।

अब सवाल उठ रहा है कि क्या वरूण गांधी भाजपा छोड़ देंगे? पिछले दिनों उन्होंने सोशल मीडिया प्रोफाइल के बायो से अपनी पार्टी भाजपा का नाम हटा दिया था। वहीं, कांग्रेस पार्टी उनको चुनौती दे रही है। 

कांग्रेस नेता अलका लांबा ने पिछले दिनों ये भी कहा था कि अगर वरुण गांधी को लगता है कि उन्हें अगले कैबिनेट विस्तार में मंत्री पद दिया जाएगा तो वे गलत होंगे। लांबा ने कहा, "मैं वरुण गांधी को सुझाव दूंगी कि अगर उनमें थोड़ा भी स्वाभिमान बचा है और अगर वह लखीमपुर खीरी में कुचले गए किसानों के लिए अपनी लड़ाई को लेकर ईमानदार हैं, तो उन्हें ट्विटर पर लड़ाई लड़ने के बजाय बाहर आना चाहिए।" आगे उन्होंने कहा, "यदि उन्हें लगता है कि उन्हें कैबिनेट के अगले विस्तार में शामिल किया जाएगा, तो मुझे लगता है कि वो गलत हैं। उन्हें अभी फैसला करना होगा।"

 

 
अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से