Home » राजनीति » विश्लेषण » गुजरात के इन तीन युवा नेताओं को साधने में सफल हुई कांग्रेस?

गुजरात के इन तीन युवा नेताओं को साधने में सफल हुई कांग्रेस?

OCT 22 , 2017

गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर सियासी दलों के द्वारा समीकरण बनाने का खेल शुरू हो गया है। भाजपा को सत्ता से बेदखल करने के लिए प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस हरसंभव प्रयास करती दिखाई दे रही है।

अब कांग्रेस ने भाजपा को रोकने के लिए गुजरात के तीन युवा नेताओं- हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाणी को साधने का कदम उठाया है। साथ ही संकेत भी मिल रहे हैं कि इस योजना में कांग्रेस कामयाबी की ओर है। दरअसल, कांग्रेस ने इन तीन युवा नेताओं को चुनाव लड़ने का न्यौता दिया। गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष भरत सिंह सोलंकी ने इन तीनों को कांग्रेस तरफ से चुनाव लड़ने का निमंत्रण दिया।

जिसके बाद इन तीन नेताओं के द्वारा प्रतिक्रिया भी आई हार्दिक पटेल ने ट्वीट कर कांग्रेस के चुनाव लड़ने के प्रस्ताव को तो ठुकरा दिया लेकिन पटेल ने ट्वीट कर कहा, “उन्हें चुनाव लड़ने की इच्छा नहीं है। उन्होंने लिखा कि हम सभी अधिकार और न्याय चाहते हैं। हम अहंकार के सामने लड़ रहें हैं। जीत हमारी होगी” हार्दिक ने यह भी कहा, “हालांकि मुझे विश्वास है कि हमें भाजपा के खिलाफ एकजुट होना चाहिए, यह भाजपा-कांग्रेस का चुनाव नहीं है बल्कि गुजरात के 6 करोड़ लोगों का चुनाव है।”

Advertisement

पटेल की प्रतिक्रिया को कांग्रेस के समर्थन के तौर पर देखा जा रहा है। यानी वह चुनाव नहीं लड़ेंगे लेकिन भाजपा के खिलाफ अभियान तेज कर कांग्रेस की मदद करेंगे।

वहीं ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर सोलंकी और गहलोत के साथ राहुल गांधी से मिलने दिल्ली पहुंचे। अल्पेश 23 अक्टूबर को कांग्रेस में शामिल होने का ऐलान करेंगे। ओबीसी एससी/एसटी एकता मंच के संयोजक अल्पेश ठाकोर ने कहा कि 23 अक्टूबर को अहमदाबाद में होने वाली रैली में राहुल गांधी आएंगे। जहां वे कांग्रेस प्रवेश करेंगे।

हालांकि दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने अभी अपना पत्ता नहीं खोला है। उन्होंने कहा कि वे अन्य दलित संगठनों से बातचीत करके ही इस पर कोई निर्णय लेंगे। न्यूज18 के मुताबिक मेवाणी ने कहा कि कुछ दिन में वे कोई फैसला लेंगे, हालांकि एक चीज तय है कि वर्तमान बीजेपी सरकार को सत्ता से हटाना जरूरी है।

इस तरह देखा जाए तो कांग्रेस इन तीनों युवा नेताओं के सहारे भाजपा को टक्कर देने के लिए तैयार हो गई है। जहां अल्पेश ठाकोर सार्वजनिक मंच से कांग्रेस में शामिल होने की घोषणा कर चुके हैं। वहीं पाटीदारों की आरक्षण मांग पूरी न होने की वजह से हार्दिक पटेल भी भाजपा के खिलाफ खुलेआम मोर्चा खोल चुके हैं। जिग्नेश मेवाणी भी गुजरात में दलितों पर अत्याचार के खिलाफ भाजपा सरकार को घेरते रहे हैं। ऐसे में कांग्रेस द्वारा इन तीनों युवा नेताओं को भाजपा के विरोध में न्योता देना तुरुप का इक्का साबित हो सकता है।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.