Home » बोलती तस्वीर » सामान्य » कोरिया के राष्ट्रपति की पत्नी भारत में मनाएंगी दिवाली, 2000 साल पुराना है अयोध्या कनेक्शन

कोरिया के राष्ट्रपति की पत्नी भारत में मनाएंगी दिवाली, 2000 साल पुराना है अयोध्या कनेक्शन

NOV 01 , 2018

दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला किम जोंग-सूक 4 से 7 नवंबर तक भारत की यात्रा पर आ रही हैं और इस दौरान वह धार्मिक नगरी अयोध्या में दिवाली मनाएंगी। वह 6 नवंबर को उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से आयोजित ‘दीपोत्सव’ समारोह में मुख्य अतिथि होंगी।

इस यात्रा के दौरान किम जोंग-सूक प्राचीन कोरियाई राज्य कारक के संस्थापक राजा किम सू-रो की भारतीय पत्नी, महारानी हौ के स्मारक पर भी जाएंगी। महारानी हौ का स्मारक अयोध्या में सरयू नदी के किनारे पर स्थित है।

बता दें कि दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन की पत्नी किम जोंग-सूक का दिवाली में हिस्सा लेने के पीछे 2000 साल पुराने इतिहास की कहानी है। इसके पीछे एक ऐसी दिलचस्प घटना है जिसने दो अलग-अलग सभ्यताओं को प्रभावित किया। नतीजतन दक्षिण कोरिया में रहने वाले लाखों कारक गोत्र वाले लोग खुद को अयोध्या (साकेत) से जोड़ते हैं।

सुरीरत्ना, जो अयोध्या से किमहये पहुंची

कोरिया के इतिहास में कहा गया है कि भारत के अयोध्या (उस समय के साकेत) से 2000 साल पहले 'अयोध्या की राजकुमारी' सुरीरत्ना नी हु ह्वांग ओक-अयुता भारत से दक्षिण कोरिया के ग्योंगसांग प्रांत के किमहये शहर गई थीं।

चीनी भाषा में दर्ज दस्तावेज सामगुक युसा में कहा गया है कि ईश्वर ने अयोध्या की राजकुमारी के पिता को स्वप्न में आकर ये निर्देश दिया था कि वो अपनी बेटी को उनके भाई के साथ राजा किम सू-रो से विवाह करने के लिए किमहये शहर भेजें।

कारक गोत्र के लोग आते हैं अयोध्या

आज कोरिया में कारक गोत्र के लगभग 60 लाख लोग स्वयं को को राजा किम सू-रो और अयोध्या की राजकुमारी के वंश का बताते हैं। कहा जाता है कि दक्षिण कोरिया में राजकुमारी की कब्र में लगा पत्थर अयोध्या से ही गया था। कारक वंश के लोगों का एक समूह हर साल फरवरी-मार्च के दौरान इस राजकुमारी की मातृभूमि अयोध्या पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करने आता रहा है।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.