Home मैगज़ीन डिटेल
मैगज़ीन डिटेल

मन युवा मगर खासे परंपरावादी

इस युवा मन सर्वेक्षण से खुलासा होता है कि पीढ़ीगत खाई उतनी चौड़ी नहीं, जैसा अमूमन दावा किया जाता है। देश के युवाओं के बीच ज्यादातर लोकप्रिय विचार और धारणाएं मां-बाप की उम्मीदों के अनुरूप ही

मीडिया, राजनीति और स्वतंत्रता

व्यक्तिगत स्वतंत्रता और अभिव्यक्ति की आजादी पर अंकुश लगाने के लिए सत्ता के दुरुपयोग की बढ़ती मिसालें बेहद चिंताजनक हैं। सो, मानहानि को दीवानी मामला बनाना भी जरूरी

देश के बेस्ट प्रोफेशनल कॉलेज

कॉलेजों की रैंकिंग

गांठें खुलने की माया

गठबंधन का गणित मुंह के बल गिरा तो गांठ खुलने लगी, अलबत्ता बसपा को फायदा, फिर भी मायावती के बिफरने का गणित क्या

उच्च शिक्षा आमूल-चूल बदलाव की दरकार

मोदी 2.0 सरकार के पास उच्च शिक्षा के क्षेत्र में बड़ा बदलाव लाने का मौका, जो इसे संकट से उबारने के लिए आज बेहद जरूरी

नारी अधिकारों की पढ़ाई में कई पचड़े

समाज में स्‍त्री-पुरुष गैर-बराबरी के अध्ययन के लिए वुमन स्टडीज अपेक्षाकृत नया विषय, लेकिन बजट में कटौती से छाए पाठ्यक्रम पर संकट के बादल, छात्र दूसरे विकल्प तलाशने पर मजबूर

लिबरल आर्ट्सः सोच-समझ का दायरा बढ़ाने की नई पढ़ाई

कई लिबरल आर्ट्स यूनिवर्सिटी अब विभिन्न विषयों के समन्वय, शोध पर जोर देकर सामान्य पाठ्यक्रम के अलावा छात्रों की सोच प्रक्रिया को दे रहीं बढ़ावा

हमारी तरजीह घटने के मायने

अमेरिका चिकित्सा उपकरणों पर मूल्य नियंत्रण को सरल बनाने के साथ कृषि उत्पादों, डेयरी और पोल्ट्री में बाजार पहुंच बढ़ाने की मांग कर रहा, इनमें हर क्षेत्र भारतीय घरेलू बाजार के लिए अहम

जीवनियों से नया साक्षात्कार

रज़ा फाउंडेशन की महत्वपूर्ण योजना से हिंदी में अच्छी जीवनियों का अकाल शायद दूर हो

हिंदी का राजनैतिक महत्व चुक गया है!

लगभग पांच वर्षों के प्रयास के बाद आए नई शिक्षा नीति के प्रारूप में हिंदी को लेकर उभरे विवाद की वजह से फौरन संशोधन ही नहीं करना पड़ा, बल्कि शिक्षा की नई दिशा के बारे में भी इसमें कोई खास नयापन नहीं

हिंदी का राजनैतिक महत्व चुक गया है!

लगभग पांच वर्षों के प्रयास के बाद आए नई शिक्षा नीति के प्रारूप में हिंदी को लेकर उभरे विवाद की वजह से फौरन संशोधन ही नहीं करना पड़ा, बल्कि शिक्षा की नई दिशा के बारे में भी इसमें कोई खास नयापन नहीं

यक्ष प्रश्न से वाबस्ता राहुल

लगातार दूसरी हार से जमीन लुटी तो गुटबाजी और नेतृत्व को लेकर पार्टी में असमंजस चुनौती बन खड़ी

ज्यादा से ज्यादा मौके मुहैया कराने के शैक्षणिक औजार

नौकरी के बाजार के लिए पढ़ाई के साथ-साथ व्यावहारिक और प्रयोगधर्मी होना भी जरूरी