Home मैगज़ीन डिटेल
मैगज़ीन डिटेल

हसीना की जीत से उम्मीदें बढ़ीं

हालिया चुनाव में अवामी लीग की अगुआई वाले महागठबंधन की बड़ी जीत भारत के लिए सुखद लेकिन चुनौतियां भी हैं कई

सबका साथ, सबको आरक्षण

घटती सरकारी नौकरियों और बरसों तक लाखों पदों को न भरने की केंद्र और राज्य सरकारों की लापरवाही के बीच यह कदम कितने लोगों को फायदा पहुंचा पाएगा? लेकिन चुनाव जीतने के लिए सब कुछ जायज जो है

गांठें जुड़ीं, पारा चढ़ा

अखिलेश और मायावती की मुलाकात के बाद तेजी से घूमा सियासी चक्र

बिना जमीन बेमानी प्रोजेक्ट

सुशासन बाबू के राज में जमीन अधिग्रहण न हो पाने या दबंगों के कब्जे और घपले-घोटालों में दशकों से लंबित केंद्रीय परियोजनाएं

पहले विवादित, अब वफादार कल्लूरी !

विवादास्पद आइपीएस कल्लूरी को अहम पद देने से उठ रहे सवाल

कर्जमाफी फर्ज या फायदा

आम चुनाव के मद्देनजर किसान आया केंद्र में तो दलीलें भी तरह-तरह की उभरीं, क्या हैं राजनैतिक समीकरण और क्या है समाधान

कर्ज की खेती

देश के किसानों पर कैसे-कैसे बढ़ा कर्ज, यह है लगातार कर्ज से कर्ज की दौड़

डेढ़ साल बाद भी राहत का इंतजार

शर्तों में बार-बार बदलाव, 29 लाख किसानों को अब तक नहीं मिला कर्जमाफी का फायदा

आंशिक माफी से गुस्सा

किसानों को कर्ज मुक्त करने का कांग्रेस ने किया था वादा

दावा पूरा फायदा अधूरा

सरकार के दावे के मुताबिक किसानों को फायदा नहीं, गाइडलाइन पर उठे सवाल

महज रस्म अदायगी न हो

कमलनाथ ने किया कर्जमाफी का ऐलान, लेकिन सभी किसानों को फायदे की उम्मीद कम

तस्वीर अभी धुंधली

कर्जमाफी के मापदंड तय करने में जुटी सरकार

पूरी राहत की चाह

सरकारी बैंकों से लिए गए कर्ज पर स्थिति अस्पष्ट

कर्जमाफी फौरी, बड़े हल की सोच जरूरी

मौसम और कीमत में गिरावट से खड़े होने वाले जोखिम से सुरक्षा के लिए नीतिगत कदम उठाए जाएं

फायदा कम, नुकसान ज्यादा

इससे किसानों के एक वर्ग को कुछ फौरी राहत जरूर मिलती है लेकिन इससे संकट बढ़ता ही है

गलत नीतियों से बढ़ा संकट

आज के दौर में कर्जमाफी राजनैतिक नहीं बल्कि जरूरत भरा कदम, तभी मिलेगी किसानों को राहत

कंगारू हुए पस्त, दुनिया हुई दंग

भारत ने ऑस्ट्रेलिया में पहली बार टेस्ट सीरीज जीतकर रचा इतिहास, चार मैचों की सीरीज में 2-1 से जीत के नायक रहे तेज गेंदबाज और पुजारा

राष्ट्रवाद की नई खुराक

कट्टर राष्ट्रवाद, खास विचारधारा से ओत-प्रोत राजनैतिक किरदार वाली फिल्में क्या विशेष विचार को स्वीकृति दिलाने की कोशिश?

दक्खिनी कलाओं के व्याकरण

दक्षिण भारत की समृद्ध परंपरा से अछूते उत्तर भारत ने एक सेमिनार से जाना वहां की नृत्यकला को

राफेल राग दरबारी

मोदी सरकार के रक्षा सौदे का रहस्य गहराया, बना चुनावी सियासत का मुद्दा

वोटरों और वरिष्ठों का आया ख्याल

आर्थिक आधार पर आरक्षण के प्रस्ताव के जरिए सवर्णों और पार्टी दिग्गजों को महती जिम्मेदारी देकर की नाराजगी दूर, आम चुनाव जीतने का तैयार किया फॉर्मूला

जन-धन योजनाः बैंक करने लगे तौबा

पंजाब, हरियाणा में बंद हुए जीरो बैलेंस वाले 16 लाख खाते

संभावना और चुनौती

नई सोच से युवा बदल रहे हैं सामाजिक सरोकार, संस्कृति, व्यवसाय और राजनीति मगर चुनौतियां कई

एकमुश्त पूरी कर्जमाफी जरूरी

कांग्रेस ने संपूर्ण कर्जमाफी का वादा किया। ऐसे में अब दो लाख रुपये की सीमा तय करने का क्या मतलब है? जिन राज्यों में कर्जमाफी हुई है, वह भी आधी-अधूरी ही है

“किसानों को लेकर गंभीर नहीं मोदी”

सांसद और स्वाभिमानी शेतकारी संघटना के प्रमुख राजू शेट्टी से कंचन श्रीवास्तव की बातचीत के कुछ अंशः

एक कर्मयोगी का जीवन

द्योगपति समाजसेवी एम.आर. मोरारका के जीवन फलक पर दृष्‍टि डालने पर यही सिद्ध होता है

आस्था, लोकतंत्र और संविधान

अवैज्ञानिक दृष्टिकोण न सिर्फ संविधान की अवेहलना करता है बल्कि विकास को पीछे धकेल देता है

कलाकारों से रोशन लाल किला

ऐतिहासिक इमारत में शिल्पकार बुनकर हुए सम्मानित

कर्ज उर्फ वोट

बड़ा कर्जदार जब तक इंडिया में होता है, बहुतों को अपने साथ उड़ाता है। बाद में खुद उड़ लेता है वहां, जहां से उसके लौटने की बस आशा ही रह जाती है

समांतर सिनेमा का पुरोधा

कलकत्ता के सिने आकाश में चमकते बंगत्रयी में से मृणाल सेन को उनका स्पष्ट दृष्टिकोण बनाता था खास