Home मैगज़ीन डिटेल
मैगज़ीन डिटेल

जन्म की लॉटरी और जाति का सच

हमारा जन्म पूर्णत: एक संयोग है लेकिन यह संयोग ही हमारे समूचे जीवन की दिशा-दशा निर्धारित करता है

नई राजनीति की डोर कमजोर

कभी देश भर में नई राजनीति की उम्मीद जगाने वाली आम आदमी पार्टी की दिल्ली के स्थानीय चुनावों में हार से उठे कई सवाल, आखिर आंदोलन से निकली राजनीति मुख्यधारा में आकर क्यों तोड़ने लगती है दम

‘हम अलग हैं, अलग साबित होगे’

यह हमारी नाकामी है कि हम दिल्ली नगर निगम के चुनाव को राष्ट्रीय चुनाव जैसा बनने से रोक नहीं पाए।

मास्टर ब्लास्टर की बॉक्स ऑफिस पर नई इनिंग

सचिन पर बनी और जल्द ही प्रदर्शित होने वाली एक डॉक्यू-फिल्म को लेकर उनके चाहने वाले बहुत उत्साह में हैं लेकिन उनके इंतजार के साथ असल न्याय तब होगा जब फिल्म नायक के जीवन में आए उतार-चढ़ाव को समान ढंग से दिखाएगी

चांदी के तबले वाला संगीतकार

भोला श्रेष्ठ अच्छे संगीतकार और तबलावादक थे, उनके गीतों में अलग ही तरह की मिठास थी

लाल माटी में फिर-फिर बहता लहू

सुकमा के बुर्कापाल की घटना से सरकार की माओवाद से निपटने की रणनीति और सुरक्षा बलों में तालमेल की कमी पर लगे सवालिया निशान

गैर भाजपावाद की परीक्षा होगा राष्ट्रपति चुनाव

विपक्ष अगर आपसी मतभेद और छोटे राजनैतिक हितों को भुलाकर एकजुट हुआ तो मोदी के लिए होगी बड़ी चुनौती

लाल चौक, लड़की, पत्थर और लाल गेंद

श्रीनगर में छात्राओं की पत्थरवाजी से घाटी में उभरी बगावत की नई तस्वीर

योगी वादों की कीमत भारी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ताबड़तोड़ फैसले सरकारी खजाने को कर सकते हैं खाली

यूपी में पिटती पुलिस, नए राज में नई गुंडागर्दी

भाजपा और हिंदुत्ववादी कार्यकर्ताओं के साथ सांसदों-विधायकों की दबंगई बनी आफत

जानलेवा सड़कें बनीं चुनौती

उत्तराखंड में हर साल 900 लोगों की हादसों में मौत, राज्य में चारधाम यात्रा सुरक्षित कराना प्रशासन के लिए है बड़ी जिम्मेदारी

झुनझुना थमाने का तामझाम

नौकरियों के सिकुड़ने के दौर में पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने की मोदी सरकार की पहल में किंतु-परंतु

साहित्य में शंख (उद्)घोष

बांग्लाभाषी यह कवि जीवन-मर्म से कविताएं निकालते हैं और ऊर्जा-उष्मा में पिरोते हैं

इस बेरुखी का तो कोई टीका भी नहीं

उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में सही से लागू नहीं हो पा रहे हैं केंद्र के टीकाकरण कार्यक्रम, जमीनी हकीकत उजागर करती विशेष रिपोर्ट

काला कुर्ता, सफेद धोती और कुछ यादें

बॉलीवुड में हैंडसम शब्द सही मायनों में विनोद खन्ना पर ही फबता था