Home मैगज़ीन डिटेल
मैगज़ीन डिटेल

आवरण कथा/छोटे शहरों में प्रदूषण: दहकते, दमघोंटू बेजुबान शहर

धू-धू कर जलती झारखंड में झरिया की जमीन और देश में, खासकर गंगा के मैदान में बसे छोटे और दूरदराज के नगरों-शहरों में जानलेवा प्रदूषण स्तर सरकारी अनदेखी और लापरवाही की ऐसी मिसाल, जो लोगों के लिए जानलेवा बन गई

राजनीति: ममता महत्वाकांक्षा के मायने

राज्यों में कांग्रेस को कमजोर कर रही तृणमूल, लेकिन क्या अन्य पार्टियां बिना कांग्रेस विपक्षी गठबंधन के लिए राजी होंगी

जनादेश 2022/पंजाब: ‘आप’ के अपने हो रहे दूर

20 में से नौ विधायक पार्टी छोड़ चुके, मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित न होने से नेताओं में नाराजगी

जनादेश 2022/पंजाब: भाजपा की सेंध नीति

शिरोमणि अकाली दल के नेताओं को तोड़ने की कोशिश में पार्टी

बिहार: विश्वविद्यालय... नहीं, घोटालों का अड्डा कहिए

मगध विश्वविद्यालय के कुलपति के यहां छापे में मिले 30 करोड़ की हेराफेरी के दस्तावेज, कई अन्य संस्थानों में भी घोटालों की जांच

मध्य प्रदेश: तालाब बदलेंगे गांव की तस्वीर

गांवों के विकास के लिए शिवराज सरकार का पुष्कर धरोहर समृद्धि अभियान

छत्तीसगढ़: राजनीति में सबके अपने राम

राम की एंट्री से भाजपाइयों को मुद्दा छिनने की आशंका, तो हार्डकोर हिंदुत्व का जवाब सॉफ्ट हिंदुत्व से देने की कांग्रेस की कोशिश

उत्तराखंड: जोर पकड़ता भूमि कानून का मुद्दा

खास समुदाय के लोगों के जमीन खरीदने के विरोध के साथ भूमि खरीद कानून बदलने की मांग

आवरण कथा/छोटे शहरों में प्रदूषण/आपबीती: “लगता है किसी अलग ग्रह पर हूं”

मेरी आंख सुलगते, धधकते कोयले और धुएं के गुबार वाले शहर झरिया में ही खुली थी

आवरण कथा/छोटे शहरों में प्रदूषण/साक्षात्कार: “पुनर्वास बीसीसीएल की जिम्मेदारी नहीं”

एलटीएच की भी सूची बनी है, पर कागजात की जांच नहीं हुई। उन्हें हटाने का काम जेआरडीए का है

आवरण कथा/वायु प्रदूषण: धुआं होती जिंदगी

गैस चैंबर बने दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत के बड़े इलाके में वायु प्रदूषण लगातार गंभीर, सरकारी उपाय कामचलाऊ

आवरण कथा/नजरिया: झारखंड को बंजर बनाती आग

झरिया में तो शायद बहुत देर हो चुकी, लेकिन अन्य जगहों पर जल्द आग नियंत्रित करने के उपायों की जरूरत

यॉर्कर: नई पिच पर खेलेगी क्रिकेट की तिकड़ी

पहली बार गांगुली, द्रविड़ और लक्ष्मण जैसे बड़े खिलाड़ी एक साथ प्रबंधकीय भूमिकाओं में

बॉलीवुड/इंटरव्यू/रवीना टंडन: “बड़ी अभिनेत्रियां भी कंफर्ट जोन से बाहर निकलने में कतराती हैं”

बॉलीवुड में 30 साल पहले पत्थर के फूल (1991) से एंट्री लेने वाली 47 साल की रवीना टंडन अब नेटफ्लिक्स पर आ रहे थ्रिलर अरण्यक के साथ ओटीटी पर शुरुआत कर रही हैं

सप्तरंग

ग्लैमर जगत की हलचल

भारतीय प्रतिभा: भारतवंशियों का बढ़ता दबदबा

गूगल, माइक्रोसॉफ्ट, आइबीएम जैसी कंपनियों के बाद अब ट्विटर का नेतृत्व भी भारतवंशियों के जिम्मे

नजरिया/हिंदी: बोली की महत्ता बताने वाली जिज्जी

भाषा का मतलब शुद्ध उच्चारण और मानक प्रयोग से कहीं ज्यादा है, बच्चों पर इसका दबाव नहीं होना चाहिए

प्रथम दृष्टि: हर सांस है कीमती

विडंबना यह है कि यह चुनावी मुद्दा नहीं है, इसलिए प्रदूषण से लड़ना सियासी पार्टियों के लिए प्राथमिकता नहीं है

संपादक के नाम पत्र

भारत भर से आईं पाठकों की चिट्ठियां

खबर चक्र/बहुआयामी गरीबी सूचकांक में बिहार सबसे ऊपर

अब तक गरीबी सूचकांक में सिर्फ आमदनी को देखा जाता था। पहली बार इसे तीन मानकों- स्वास्थ्य, शिक्षा और जीवन स्तर पर आंका गया है

शहरनामा/देवास

आध्यात्मिक और लोकसंगीत की संगत वाला शहर