Home मैगज़ीन डिटेल
मैगज़ीन डिटेल

प्रथम दृष्टि: कब कहें अलविदा

एक समय ऐसा भी आया जब अमिताभ के पास कोई काम नहीं था। यह उनके लिए सबक रहा होगा और इसलिए वे तब तक काम जारी रखना चाहते हैं जब तक उन्हें लोगों का प्यार मिलता रहे

लखीमपुर खीरी कांड: दबंगई का क्रूर नजारा

प्रदर्शनकारी किसानों को गाड़ियों से कुचलने की घटना से भाजपा बैकफुट पर, लेकिन अगले साल विधानसभा चुनाव में इसका असर कितना

उत्तर प्रदेश: पिछड़ों पर सबकी नजर

भाजपा ने पिछड़े-दलितों को तरजीह देकर जाति गणित साधने के संकेत दिए मगर विपक्ष इसे छलावा बताकर अपनी कवायद में जुटा

हरियाणा: प्रतिष्ठा और अस्तित्व की लड़ाई

ऐलनाबाद उपचुनाव कृषि कानूनों के विरोध के बीच सरकार की अग्निपरीक्षा तो दूसरों के लिए पहचान बरकरार रखने की कवायद

आवरण कथा/कांग्रेस: गढ़ में रिश्ते छत्तीस

डेढ़ दशक बाद छत्तीसगढ़ में आई कांग्रेस की कलह दूर करने का उपाय नेतृत्व के पास नहीं

आवरण कथा/कांग्रेस: युवा तुर्क बनाम ओल्ड गार्ड

राहुल-प्रियंका की जोड़ी ने कमान पर मजबूत पकड़ बनाई तो कांग्रेस के पुराने दिग्गजों से टकराव चरम पर पहुंचा, युवा चेहरों को जोड़कर क्या पार्टी का कायाकल्प संभव?

आवरण कथा/कांग्रेस: इंटरव्यू/जिग्नेश मेवाणीः “दलित मुद्दों पर आवाज ना उठा पाया तो मैं जिग्नेश नहीं”

गुजरात के दलित एक्टिविस्ट जिग्नेश मेवाणी 2016 में ऊना कांड और रोहित वेमुला कांड जैसी घटनाओं के खिलाफ मजबूत आवाज बनकर उभरे थे

आवरण कथा/कांग्रेस: पंजाब में सियासी भंवर

कलह दूर करने के कांग्रेस आलाकमान के तरीके से बला की बिजलियों को बुलावा

आवरण कथा/कांग्रेस: बिहार में बहार दूर की कौड़ी

कन्हैया के आने से कांग्रेस में जान डालने की उम्मीद संदिग्ध, राजद से गठबंधन में भी तनाव

आवरण कथा/नजरिया: कांग्रेस का भविष्य

नेहरू की राजनीतिक विरासत का लाभ लेने के साथ नेहरू की वैचारिक विरासत को भी स्वीकार करना चाहिए

टी-20 वर्ल्ड कप: भारत के दबदबे में सब दबे

टूर्नामेंट में लाखों डॉलर की इनामी राशि जो भारतीय कंपनियां देंगी, इससे दूसरे देश चिंतित

अस्सी के अमिताभ/जन्मदिन विशेष: नाबाद महानायक के मददगार

सहस्त्राब्दी के आरम्भ में बीबीसी द्वारा ‘स्टार ऑफ द मिलेनियम’ की उपाधि से नवाजे जाने वाले अमिताभ भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे बहुमुखी अभिनेताओं में एक रहे हैं

सप्तरंग

ग्लैमर जगत की हलचल

सप्तरंग

ग्लैमर जगत की हलचल

ड्रग्स मामला: नशे पर सियासी कुहरा

शाहरुख के बेटे की गिरफ्तारी और मुंद्रा बंदरगाह पर भारी मात्रा में हेरोइन पकड़े जाने से फिर ड्रग्स मामले सुर्खियों में

एयर इंडिया: लुटकर वापस हुए महाराजा

भ्रष्टाचार और काम की ‘सरकारी संस्कृति’ के कारण ही निजीकरण की नौबत, टाटा के लिए भी एयर इंडिया के पुराने दिनों को लौटा पाना बेहद मुश्किल

पैंडोरा पेपर्स: पैसे छिपाने के नए ठिकाने

कमाई छिपाने के लिए अमीर उन देशों में पैसे भेज रहे जहां टैक्स की दर बहुत कम, लगातार होती घटनाएं बताती हैं कि आर्थिक अपराध रोकने के कानून बेमानी

नोबेल विजेता: क्योंकि शांति के लिए जरूरी है शब्दों की सच्चाई

खास बात यह है कि इस साल साहित्य का नोबेल जितना अप्रत्याशित रहा है, उतना ही शांति का भी

संपादक के नाम पत्र

भारत भर से आईं पाठकों की चिट्ठियां

खबर चक्र

चर्चा में रहे जो

शहरनामा/नागपुर

संतरे और राजनीति का गढ़