Home मैगज़ीन डिटेल
मैगज़ीन डिटेल

आवरण कथा/आलेख : नृशंस साम्राज्य

ऐसा प्रचंड संकट आजादी के बाद से नहीं आया था, अब तो मोदी समर्थक भी मानने लगे हैं कि महामारी में सरकार का रवैया सारे दायित्व से हाथ झाड़ लेने का रहा है

महाराष्ट्र : नहीं मिलेगा कोटा

केंद्र और राज्य सुप्रीम कोर्ट को यह समझाने में नाकाम रहे कि मराठा वर्ग को आरक्षण की जरूरत क्यों है

पंजाब : बेअदबी मामले पर कांग्रेस में बगावती सुर

एसआइटी की रिपोर्ट हाइकोर्ट में खारिज होने के बाद पार्टी के नेताओं ने अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला

जनादेश’21/उत्तर प्रदेश : पंचायतों में भगवा पेच ढीला

ग्राम पंचायत और जिला परिषद चुनावों में भाजपा के लिए खतरे की घंटी, विपक्षी दलों को मिली संजीवनी

आवरण कथा/नजरिया : आम लोगों के पीएम मोदी

प्रधानमंत्री कोविड संकट से देश को बाहर निकालने के प्रति बेहद संजीदा हैं, जैसे वे हर संकट में रहते हैं

आवरण कथा/दूसरी लहर का प्रकोप : कराहते गांव, सिसकते शहर

खांसी, बुखार और सांस में तकलीफ से लोग दम तोड़ रहे, लेकिन जांच के अभाव में ‘कोरोना से मौत’ में उनकी गणना नहीं

आवरण कथा/संस्थाएं : जंतर मंतर पर सन्नाटा

देश में संस्थाओं और आंदोलनों का इतिहास कमोबेश एक जैसा है, बेहद नेक इरादों से शुरू होकर भी गहरे गर्त में फंस जाना मानो नियति है

आवरण कथा/सात साल का हाल : सातवां अध्याय

भारत में महामारी की दूसरी लहर ने कैसा विध्वंस मचाया है। सरकार को वैक्सीन का निर्यात रोकना पड़ा और ऑक्सीजन तथा वेंटिलेटर का आयात करना पड़ा।

आवरण कथा/नजरिया : मुकम्मल कोविड आरोप-पत्र

इस संकट में सरकार और अधिकारियों का स्याह चेहरा नजर आया, जो बेहद निष्ठुर और संवेदनशून्य है

आवरण कथा/सेंट्रल विस्टा : हठ का प्रोजेक्ट!

कोरोना से मौत के बीच दिल्ली में सभी निर्माण कार्यों पर रोक, लेकिन प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट में तीनों शिफ्ट में काम जारी

सप्‍तरंग

ग्लैमर जगत की हलचल

बॉलीवुड : भाईजान प्रोटोकॉल

‘‘ईद का कमिटमेंट था, ईद पर ही आएंगे, क्योंकि एक बार जो मैंने ...’’

कोविड-19/दूसरी लहर में इलाज : दिशाहीन इलाज ने बदतर किए हालात

सरकार अभी तक इलाज का ठोस प्रोटोकॉल नहीं बना पाई, जिम्मेदार पदों पर बैठे लोगों की बयानबाजी से बढ़ा भ्रम

जनादेश’21 : ताकतवर क्षत्रपों की वापसी

चार राज्यों और एक केंद्रशासित प्रदेश के विधानसभा चुनावों में क्षेत्रीय नेता ताकतवर होकर उभरे, जो केंद्र को हर मायने में चुनौती देने को तैयार

इंटरव्यू/मां शीला आनंद

भगवान ने कहा था, “शीला लौट आ सकती है... लेकिन मेरे लिए वक्त जीवन में आगे बढ़ने का था”

संपादक की कलम से: बेसहारा और लाचार

इस महामारी ने जरूर हमें दुबक जाने पर मजबूर किया है, लेकिन साथ ही इसने हमारे सामने नेताओं की असलियत भी उजागर कर दी है।

अंदरखाने

सियासी दुनिया की हलचल

शहरनामा: इलाहाबाद

इलाहाबाद की माटी और हवा का असर है कि यहां के बालक तक डरते नहीं, बल्कि अक्सर घुस के तमाशा देखने में विश्वास करते हैं। इसीलिए सब गर्व से कहते हैं कि हम इलाहाबादी हैं।

खबर चक्र

चर्चा में रहे जो

संपादक के नाम पत्र

पिछले अंक पर आईं प्रतिक्रियाएं