Home मैगज़ीन डिटेल
मैगज़ीन डिटेल

बड़े बेनजर छोटे पर फंदा

नशे का गोरखधंधा देश में तकरीबन 10 लाख करोड़ रुपये का होने का अनुमान मगर सरकारी एजेंसियों को प्रतिबंधित मादक पदार्थों के धंधेबाजों और गिरोहों के पीछे नहीं, छोटी मछलियों पर फंदा डालने में दिलचस्पी

हर कोई खेले दलित दांव

सत्तारूढ़ एनडीए और विपक्षी महागठबंधन ही नहीं, बाहरी दलित पार्टियों की बिहार में दिलचस्पी से दलितों पर फोकस बढ़ा

आसान नहीं भाजपा की डगर

नेता प्रतिपक्ष के मामले में गेंद अब विधानसभा अध्यक्ष के पाले में

वर्दी गई तो हुए खौफजदा

कभी खौफ का पर्याय रहे पंजाब के पूर्व डीजीपी सैनी पर पुराने कारनामों का साया हुआ घना

रिया जैसे रोल मॉडल पर नरमी ठीक नहीं

एनसीबी के महानिदेशक राकेश अस्थाना का कहना है कि रिया का मामला लोगों के लिए एक उदाहरण होगा और एजेंसी इसके लिए लगातार जरूरी साक्ष्य जुटा रही है।

रुपहले परदे का स्याह सच

सुशांत मामले में हालिया खुलासे ने बॉलीवुड के लिए भानुमती का पिटारा खोल दिया

“अब मुझे इस सब में न घसीटें”

सुमन इस बात पर जोर देते हैं कि वे जीवन में आगे बढ़ चुके हैं और अतीत को याद करना पसंद नहीं करेंगे

उलझन का मकड़जाल

नीतियों की वैज्ञानिक नजरिए से समीक्षा का यही मौका है, इसे राजनैतिक स्वार्थ सिद्धि के लिए उलझाए नहीं

दवा ही बनी मर्ज

इलाज की दवाओं के नशे के लिए इस्तेमाल में हुई बढोतरी, इस ओर ध्यान देना सबसे जरूरी

कच्ची उम्र, पक्का नशा

आसान उपलब्धोता ने छोटी उम्र से ही स्कूली बच्चों में नशे के सेवन की प्रवृति बढ़ाई, हालात खतरनाक मोड़ तक पहुंचे

नहीं उतरा उड़ता पंजाब

चार हफ्ते में नशे का जाल खत्म करने का कैप्टन अमरिंदर का वादा साढ़े तीन साल में भी अधूरा

अफीम का ठिकाना

यूपी, एमपी, राजस्थान, दिल्ली, गुजरात, बिहार से जुड़ा है कनेक्शन

सप्तरंग

ग्लैमर जगत की खबरें

सुधार से ज्यादा विरोधियों पर नजर

लेटर बम के बाद संगठनात्मक बदलाव तो हुए लेकिन उसमें चुनाव जीतने से ज्यादा पार्टी असंतुष्टों को शांत करने पर जोर

‘सुधार’ बना गले की फांस

कृषि सुधारों के नाम पर जारी तीन अध्यादेशों के विधेयक लाने की तैयारी, इनसे छोटे किसानों को नुकसान

1962 जैसी जंग के आसार?

चीन का अति महत्वाकांक्षी नेतृत्व सीमा पर जिस तरह की परिस्थितियां पैदा कर रहा है, उसे देखते हुए क्या युद्ध की आशंका है?

तिब्बत नीति का राज

वाजपेयी ने तिब्बत को चीन का हिस्सा मान लिया था, मोदी के पास उस फैसले की समीक्षा का मौका

प्रतिबंध पर हावी बाजार

सरकार ने पबजी मोबाइल पर रोक लगाई तो कोरियाई मातृ कंपनी ने चाइनीज कंपनी को बिजनेस से किया अलग

गर्त में रोशनी की खोज

अर्थव्यवस्था का बड़ा हिस्सा संकट में, एकमात्र सहारा सरकार का खर्च बजट लक्ष्य से भी पीछे

फर्जी एवरेस्ट फतह

नाम और पैसा कमाने के लोभ में एवरेस्ट पर चढ़ाई का झूठा दावा करने वालों की तादाद बढ़ी

‘क्वीन’ राजनीति

भाजपा से जुड़ाव और 'हिमाचल की बेटी' की अपनी नई पहचान के साथ क्या कंगना राजनीति में उतरने की तैयारी में? क्या यह सब तैयार पटकथा जैसा है?

“हमने घोटाले छिपाए नहीं, उन्हें उजागर किया है”

घोटालों और उनके उजागर होने में सरकार की भूमिका पर साक्षात्कार

“मैं कफील मिश्रा या कुमार होता तो भी यही होता”

जेल, प्रताड़ना और रिहा होने की कहानी बताई डॉ. कफील खान ने

“मोदी के बुलावे पर वापस आया”

भाजपा में वापसी और अपनी पार्टी के विलय के बारे में मरांडी ने रखा अपना पक्ष

ऐसे बंधे राष्ट्र के सूत्र

कई रियासत भारत में विलय के खिलाफ थे, आखिर वे कैसे इसके लिए राजी हुए

...प्रवासी मजदूर वोटबैंक होता!

आधिकारिक आंकड़ा उपलब्ध नहीं क्योंकि देश की सियासत में उन्हें किसी ने वोट बैंक नहीं समझा

पत्र संपादक के नाम

चिट्ठियां

खबरचक्र

जो चर्चा में है

अंदरखाने

सियासी गलियारों की हलचल

2020 के अव्वल

देश की टॉप यूनिवर्सिटी आउटलुक-आइ-केयर रैंकिंग 2020

वंचितों के लिए बने खाद

रघुवंश प्रसाद सिंह को ब्रह्म बाबा कहा जाता था

हर कट्टरता के विरुद्ध

सामाजिक न्याय और धर्मनिरपेक्षता के प्रमुख पहरेदारों में एक, स्वामी अग्निवेश संसार से विदा ले ली