Home मैगज़ीन डिटेल
मैगज़ीन डिटेल

नई लीला के राम

अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण से राजनीति और सामाजिक नैरेशन और ताने-बाने में कई बदलावों की संभावना, लेकिन कई सवाल भी

कोरोना काल में बाढ़ की डूब

बाढ़ प्रभावित 45 लाख लोगों के लिए सिर्फ 19 राहत शिविर, यहां दो गज की दूरी रखना मुमकिन नहीं

संकट कोरोना का, सुर्खियां चुनाव की

कोरोना संक्रमण पर जल्द ही काबू न किया गया तो लोगों के बढ़ते गुस्से का सत्तारूढ़ गठबंधन को उठाना पड़ सकता है खामियाजा

दबाव और खींचतान की उलझन

गठबंधन सहयोगी कांग्रेस का सोरेन सरकार पर दबाव बढ़ा, तो भाजपा भी सक्रिय हुई

कैप्टन की कमान ढीली

अवैध शराब से मौतों से घोषणा-पत्र के ‘नौ नुक्तों’ पर अपनों की ही नुक्ता-चीनी में घिरी अमरिंदर सरकार

सरकारी दखल पर कई बवाल

चारधाम समेत 51 मंदिरों पर नियंत्रण के लिए बोर्ड बनाने का विरोध, इसे धामों की गुल्लक पर कब्जे का प्रयास बताया, भाजपा में ही असंतोष

चीन छोड़ो तो आओ म्हारे देस

विदेशी कंपनियों को निवेश के लिए आकर्षित करने की खट्टर सरकार की ख्वाहिश, पर इन्फ्रास्ट्रक्चर और दूसरी तैयारियों पर सवाल

धर्म की राजनीति का अंत हो

मंदिर-मस्जिद की दीवारों को तोड़ आर्थिक उन्नति के नए संकल्प का सूत्रपात ही अयोध्या का बड़ा सबक

पौराणिक पॉप

टीवी धारावाहिकों और अंग्रेजी पॉप साहित्य की देखादेखी हिंदी के लोकप्रिय साहित्य में पौराणिक पात्रों के इर्दगिर्द किस्सागोई की ओर युवा लेखकों और प्रकाशकों का रुझान बढ़ा

कॉमिक्स पुराण

पौराणिक पात्रों ने एनिमेशन इंडस्ट्री में जान फूंक दी है, विदेशी कंपनियां देसी कंटेट बनाने पर हुई मजबूर

“हैरी पॉटर की लोकप्रियता से बढ़ा पौराणिक गल्प”

अंग्रेजी में पौराणिक पात्रों के इर्द-गिर्द कथा बुनकर कई किताबों और फिल्मों में अपनी आमद-रफ्त से मशहूर हुए देवदत्त पटनायक से आकांक्षा पारे काशिव की बातचीत के अंशः

कन्ट्रोवर्सी मार्केटिंग स्ट्रेटजी है

कंटेंट तो अहम है, उसी से दिलचस्पी पैदा होती है, जरूरी यह भी है कि किताबें ज्यादा लोगों तक पहुंचे

मौत पर मंडराता रहस्य

सुशांत सिंह राजपूत की हत्या या आत्महत्या की उलझी गुत्थी की जांच पर भिड़े बिहार और महाराष्ट्र

“मैं पैसे के लिए कभी नफरत नहीं बेचूंगा”

निर्माता-निर्देशक विधु विनोद चोपड़ा ने पहली बार कश्मीर की पृष्ठभूमि पर थ्रिलर फिल्म खामोश (1985) बनाई थी।

सप्तरंग

ग्लैमर जगत की खबरें

अब दारोमदार अमल पर

पहली और दूसरी शिक्षा नीति के अनेक प्रस्तावों पर अमल नहीं, इसलिए तीसरी नीति पर संशय

उलझन जो सुलझे ना

क्या कांग्रेस की वंशवादी नेताओं के बदले जमीनी कार्यकर्ताओं को तरजीह देने की नीति कारगर होगी?

पैकेज बिना सब सूना

मुख्य आर्थिक सलाहकार के अनुसार दूसरा राहत पैकेज कोरोना का वैक्सीन आने के बाद, लेकिन पैकेज को अनिश्चितता से जोड़ना कितना उचित

रोबोट लाओ, लोग हटाओ

कोरोना की वजह से तेजी से बढ़ रहा रोबोट का इस्तेमाल, सुविधाएं तो बढ़ेंगी लेकिन बड़े पैमाने पर नौकरियां खत्म होने का डर

“21वीं सदी की मांग पूरी करेगी नई शिक्षा नीति”

नई शिक्षा नीति-2020 का उद्देश्य भारत को एक ज्ञान आधारित समाज के रूप में विकसित करना और उसे सुपरपावर बनाना है।

शहरनामा/अयोध्या

अगर आप पहले अयोध्या नहीं आए हैं, तो एक बार जरूर आइए

पर्यावरण पर नई दृष्टि जरूरी

बहुविषयक पढ़ाई पर्यावरण समझ विकसित करने में मददगार, मगर प्रयोगधर्मी शिक्षा भी अनिवार्य

भारतीय रंगमंच के पितामह

इब्राहिम अल्काजी थिएटर में क्रांति के जनक थे, उन्होंने इसे आधुनिक बनाकर उसकी दिशा बदल दी