Home » मैगज़ीन

मैगज़ीन

आंकड़ों में नदारद मगर जेब पर भारी पड़ती कीमतों का आइए जाने रहस्य, चुनावी वर्ष में तेल के चढ़ने और रुपये के गिरने से आम आदमी पर कितना बोझ बढ़ा
प्रशांत श्रीवास्तव

न्यू एज बैंकिंग में, आपकी जमा-पूंजी को तरह-तरह के खुले-छुपे फीस से बैंकों ने बनाया मोटी कमाई का जरिया और फर्जीवाड़ा करने वालों की भी हुई चांदी
प्रश्‍ाांत श्रीवास्‍तव

मराठा ही नहीं, पाटीदार और जाट आंदोलनों में नई हलचल से आरक्षण का मुद्दा फिर गरमाया, 2019 के आम चुनावों पर इसके गहरे साए की संभावना से सियासी सक्रियता भी बढ़ी
हरिमोहन मिश्र और चंदन कुमार

कुछ ऐसे उद्यमी जिन्होंने अपने नए सोच, नवाचार और हौसले से देश की अर्थव्यवस्था को नए क्षेत्रों में दिया विस्तार
हरवीर ‌स‌िंह

पंजाब में नशे से मौतों का सिलसिला बढ़ा तो पड़ाेसी हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल, जम्मू में भी बेरोजगार पीढ़ी लत में लस्त-पस्त
चंडीगढ़ से हरीश मानव

खासकर शहरों में टूटते-बिखरते सामाजिक ताने-बाने से नयों से मेलजोल बढ़ाने की चाहत में डेटिंग के चलन में आई छलांग, डेटिंग ऐप कंपनियों का बाजार भी बेतहाशा बढ़ा
अजीत स‌िंह

भाजपा के पीडीपी से मतभेदों के अलावा गठबंधन तोड़ने की सियासी वजहें और भी बड़ी, केंद्र के लिए अब कश्मीर एक नई चुनौती
श्रीनगर से नसीर गनई

लगातार पैदावार की घटती कीमतों पर काबू पाने में मोदी सरकार की नाकाम योजनाओं से किसानों की नाराजगी बनने लगी 2019 के लिए बड़ी चुनौती, किसान संगठन और विपक्ष मोर्चे पर मुस्तैद
हरवीर ‌स‌िंह

कहीं कतार टूटी तो किसी ओर बढ़ा रुझान, कुछ अनूठे कोर्स भी उभरे इंजीनियरिंग कॉलेजों में कुछ मायूसी, मेडिकल की सीटों की ओर छात्रों का रुझान तेजी से बढ़ा और कुछ अनजाने पाठ्यक्रम रैंक में ऊपर उठे, इस साल हमारी रैंकिंग से उभरी कहानी में कई दिलचस्प और अनोखे पहलू
अरिंदम मुखर्जी

कर्नाटक चुनावों ने देश की राजनीति को एक नए मोड़ पर ला दिया, एकतरफा जीत का रुझान बदला, गठजोड़ों की सियासत के द्वार खुले
हरिमोहन मिश्र


Copyright © 2016 by Outlook Hindi.