Home » रहन-सहन » रहन-सहन » टीबी मरीज : सरकारी अस्पतालों में आधार नहीं तो नकद छूट नहीं

टीबी मरीज : सरकारी अस्पतालों में आधार नहीं तो नकद छूट नहीं

JUN 22 , 2017

एक अंग्रेजी दैनिक की रिपोर्ट में कहा गया है कि मरीजों का परीक्षण और इलाज आधार की वजह से प्रभावित नहीं होगा लेकिन यदि मरीज द्वारा अस्पताल से नकद के मामले में कोई छूट चाहेंगे तो आधार नंबर जरूरी होगा। मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि झूठे दावों, सही व्यक्ति तक नकद की छूट का लाभ न पहुंचने की वजह से यह कदम उठाया गया है। वैसे कागजों में तो यह योजना काफी अच्छी लग रही है लेकिन इसे लागू करने में बहुत सी चुनौतियां होंगी। मरीज के तीमारदारों को ऐसे किसी फायदे की योजना के बारे में जानकारी के अभाव में संभवतः सही लोगों तक यह फायदा पहुंच ही न पाए।

जिस भारत में नेटवर्क के लिए पेड़ पर चढ़ना पड़ता हो, पीडीएस स्कीम का राशन सही लोगों तक न पहुंचता हो वहां एक और योजना में आधार लागू करने से पहले ग्राउंड चैक करना बहुत जरूरी है। पूरी दुनिया में हर साल लगभग 1.8 मिलियन लोग टीबी के कारण दम तोड़ देते हैं। इनमें से आधी संख्या भारत के लोगों की होती है।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.