Home » रहन-सहन » रहन-सहन » टीबी मरीज : सरकारी अस्पतालों में आधार नहीं तो नकद छूट नहीं

टीबी मरीज : सरकारी अस्पतालों में आधार नहीं तो नकद छूट नहीं

JUN 22 , 2017
हाल केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा हाल ही में जारी किए गए एक नोटिफिकेशन में उन लोगों के लिए आधार जरूरी कर दिया है जो तपेदिक (टीबी) के इलाज के सरकार की ओर से टीबी उन्मूलन के लिए चलाई जा रही स्कीमों में कैश बेनिफिट लेते थे। राष्ट्रीय टीबी नियंत्रण कार्यक्रम के रिवाइज्ड कार्यक्रम में बताया गया है कि अब आधार जरूरी होगा।

एक अंग्रेजी दैनिक की रिपोर्ट में कहा गया है कि मरीजों का परीक्षण और इलाज आधार की वजह से प्रभावित नहीं होगा लेकिन यदि मरीज द्वारा अस्पताल से नकद के मामले में कोई छूट चाहेंगे तो आधार नंबर जरूरी होगा। मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि झूठे दावों, सही व्यक्ति तक नकद की छूट का लाभ न पहुंचने की वजह से यह कदम उठाया गया है। वैसे कागजों में तो यह योजना काफी अच्छी लग रही है लेकिन इसे लागू करने में बहुत सी चुनौतियां होंगी। मरीज के तीमारदारों को ऐसे किसी फायदे की योजना के बारे में जानकारी के अभाव में संभवतः सही लोगों तक यह फायदा पहुंच ही न पाए।

Advertisement

जिस भारत में नेटवर्क के लिए पेड़ पर चढ़ना पड़ता हो, पीडीएस स्कीम का राशन सही लोगों तक न पहुंचता हो वहां एक और योजना में आधार लागू करने से पहले ग्राउंड चैक करना बहुत जरूरी है। पूरी दुनिया में हर साल लगभग 1.8 मिलियन लोग टीबी के कारण दम तोड़ देते हैं। इनमें से आधी संख्या भारत के लोगों की होती है।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.