Home रहन-सहन फिटनेस फंडा गुर्दे की बीमारियों में प्रभावी हो सकतें हर्बल, रिसर्च जनरल में खुलासा

गुर्दे की बीमारियों में प्रभावी हो सकतें हर्बल, रिसर्च जनरल में खुलासा

आउटलुक टीम - MAR 13 , 2019
गुर्दे की बीमारियों में प्रभावी हो सकतें हर्बल, रिसर्च जनरल में खुलासा
विश्व किडनी दिवस : गुर्दे की बीमारियों में प्रभावी हो सकती है जड़ी-बूटी
आउटलुक टीम

देश में गुर्दे की बीमारी बढ़ती जा रही है। ऐसे में गुर्दे की बीमारी से पीड़ित मरीजों के लिए गंभीर स्थिति में पहुंचने पर डायलिसिस ही जीवन जीने का एक तरीका बचता है। एलोपैथी में गुर्दे की बीमारी के इलाज के लिए सीमित विकल्पों के मद्देनजर, पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली की बात करने वाले विशेषज्ञों ने विश्व किडनी दिवस की पूर्व संध्या पर दावा किया कि जड़ी-बूटी इस रोग की प्रगति को धीमा कर सकती है और यदि सावधानी से आहार लिया जाए, व्यायाम के साथ लक्षणों को पहचाना जाए तो मरीजों को बहुत राहत मिल सकती है।

हीमोग्लोबिन में भी सुधार

हाल ही के दो वैज्ञानिक अध्ययनों ने दावा किया है कि पारंपरिक औषधीय पौधा पुनर्नवा पर आधारित हर्बल फॉर्मुलेशन किडनी संबंधित बीमारियों को रोकने में प्रभावी हो सकता है। एक अध्ययन के अनुसार, गुर्दे की बीमारी से पीड़ित एक महिला को एक महीने के लिए पुनर्नवा का सिरप दिया गया। यह सिरप पीने के बाद मरीज के रक्त में क्रिएटिनिन और यूरिया स्तर काफी हद तक स्वस्थ स्तर पर चला गया था। इसके अलावा, उनके हीमोग्लोबिन के स्तर में भी सुधार हुआ। इससे निष्कर्ष निकला कि पुनर्नवा आधारित दवाएं न केवल गुर्दे के कामकाज में सुधार करती हैं, बल्कि हीमोग्लोबिन के स्तर में भी सुधार करती हैं।

 इंडो अमेरिकन जर्नल ऑफ फार्मास्यूटिकल रिसर्च ने माना

यह अध्ययन बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) में आयोजित किया गया था और  2017 में विश्व जर्नल ऑफ फार्मेसी और फार्मास्यूटिकल्स साइंस में प्रकाशित किया गया था। इंडो अमेरिकन जर्नल ऑफ फार्मास्यूटिकल रिसर्च में प्रकाशित एक अन्य अध्ययन ने भी माना कि गुर्दे की बीमारी में कमल के पत्ते, पत्थरचूर और अन्य प्रमुख जड़ी बूटियों सहित पुनर्नवा आधारित हर्बल प्रभावकारी होती हैं। अध्ययन में यह भी पाया गया कि इस दवा ने यूरिक एसिड और इलेक्ट्रोलाइट्स के उच्च स्तर को कम करने के अलावा, गुर्दे के हिस्टोलॉजिकल पैरामीटर को बनाए रखने में मदद की थी।

संतुलित आहार भी जरूरी

बीएचयू के विभागाध्यक्ष के एन द्विवेदी ने कहा कि हर्बल दवा कुछ हद तक डायलिसिस का विकल्प हो सकता है। "वास्तव में, किडनी उपचार के लिए एलोपैथी में सीमित विकल्पों के कारण, जो बदलती जीवनशैली के कारण बढ़ती प्रवृत्ति को देख रहा है, अब आयुर्वेदिक दवाओं पर जोर दिया जा रहा है।" सर गंगा राम अस्पताल के वरिष्ठ नेफ्रोलॉजिस्ट मनीष मलिक ने कहा कि एलोपैथी में किडनी की बीमारियों के इलाज का दायरा सीमित, महंगा और पूरी तरह से सफल नहीं है। इसलिए, संतुलित आहार और आयुर्वेदिक लागत प्रभावी दवाएं जैसे नीरी केएफटी, जड़ी बूटियों पर आधारित पुनर्नवा उन सभी गुर्दा रोगियों की मदद कर सकती हैं जो नियमित डायलिसिस कराते हैं।  

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से