Home रूबरू सामान्य ज्यादातर कांग्रेस नेता चाहते हैं ‘आप’ के साथ हो गठबंधन: पी सी चाको

ज्यादातर कांग्रेस नेता चाहते हैं ‘आप’ के साथ हो गठबंधन: पी सी चाको

प्रीथा नायर - MAR 15 , 2019
ज्यादातर कांग्रेस नेता चाहते हैं ‘आप’ के साथ हो गठबंधन: पी सी चाको
ज्यादातर कांग्रेस नेता चाहते हैं ‘आप’ के साथ हो गठबंधन, पीसी चाको ने आउटलुक को बताई पूरी बात

आम आदमी पार्टी के साथ संभावित गठबंधन को लेकर कांग्रेस की ओर से अपने कार्यकर्ताओं से विचार-विमर्श करने के एक दिन बाद, दिल्ली प्रदेश कांग्रेस प्रभारी पी सी चाको ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को हराने के लिए गठबंधन ही एकमात्र रास्ता है। आउटलुक से बात करते हुए चाको ने कहा कि दिल्ली कांग्रेस प्रमुख शीला दीक्षित गठबंधन तय करने में अंतिम अथॉरिटी नहीं हैं।

शीला दीक्षित लगातार आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन के लिए नहींकह रही हैं। क्या इस मुद्दे को लेकर दिल्ली इकाई में दरार है?

इसे लेकर राज्य इकाइयों में मतभेद है। दिल्ली में शीला दीक्षित सहित छह कांग्रेस अध्यक्ष हैं और उनमें से पांच गठबंधन के पक्ष में हैं। इसी तरह, 14 जिला समितियां भी सभी गठबंधन के पक्ष में हैं। हमारा विचार है कि दिल्ली में कांग्रेस अकेले नहीं जीत सकती। गठबंधन कार्य समिति द्वारा तय की गई नीति है।

क्या यह दीक्षित की जिद थी जिसके कारण दोनों पक्षों के बीच बातचीत नहीं हुई?

दीक्षित का मानना है कि वह ‘आप’  के साथ गठबंधन नहीं करना चाहते हैं। उसका कारण यह है कि केजरीवाल विश्वसनीय व्यक्ति नहीं हैं। लेकिन उन्हें इस सवाल का जवाब देना चाहिए कि हम दिल्ली में सात सीटें कैसे जीतेंगे? वह उस सवाल का जवाब नहीं दे रही हैं। मुझे लगता है, एक वरिष्ठ नेता के रूप में उन्हें स्थिति को समझना चाहिए।

आप आप के साथ गठबंधन के पक्ष में क्यों हैं?

मुझे लगता है कि दिल्ली में टाई-अप एक राजनीतिक आवश्यकता है। कांग्रेस के पास 20-22 प्रतिशत वोट है और आप  के पास 35 -40 प्रतिशत है। भाजपा का वोट शेयर लगभग 45 प्रतिशत है और उन्हें पुलवामा के बाद थोड़ी बढ़त मिल सकती है। यह सरल तर्क है कि आप और कांग्रेस का एक साथ आना भाजपा के लिए हानिकारक होगा।

क्या आपने दीक्षित को गठबंधन की आवश्यकता के बारे में समझाने की कोशिश की?

मैं उन्हें समझाने की कोशिश कर रहा हूं कि केजरीवाल के साथ संबंध नहीं होने का कोई वाजिब कारण नहीं है। हम भाजपा को हराने के उद्देश्य से डीएमके, एनसीपी, टीडीपी और आरजेडी जैसी पार्टियों के साथ जा रहे हैं। अगर दिल्ली की सात सीटें भाजपा के पास जाती हैं, तो यह उनके लिए नैतिक बढ़त होगी और ऐसा नहीं होना चाहिए। हालांकि, वह फैसला करने वाली अंतिम अथॉरिटी नहीं है। पार्टी कार्यसमिति ने विभिन्न राज्यों में गठजोड़ तय करने के लिए एके एंटनी के तहत एक समिति का गठन किया है। यह सामान्य प्रक्रिया है कि हम आगे बढ़ने से पहले डीपीसीसी की राय लेते हैं।

यहां तक कि राहुल गांधी ने कहा कि हमें दिल्ली में सभी सीटों पर जीत हासिल करनी है। उस संदेश का क्या मतलब है?

राहुल गांधी ने यह नहीं कहा कि हम चुनाव में अकेले जा रहे हैं।

क्या जनमत सर्वेक्षण के नतीजों से राहुल गांधी आगे बढ़ेंगे?

राजनीतिक निर्णय विभिन्न मापदंडों पर लिए जाते हैं। यह उनमें से एक है। केंद्रीय नेतृत्व अंतिम फैसला करेगा। 2-3 दिनों में, आपको अच्छी खबर का पता चल जाएगा।

लेकिन आपने कहा कि वे आगे बढ़ रहे हैं क्योंकि कांग्रेस फैसला लेने में धीमी है ...

वे भी दुविधा में हैं। यदि राज्य कांग्रेस प्रमुख दैनिक आधार पर बयान जारी करते हैं कि हम गठबंधन के लिए तैयार नहीं हैं ’तो वे क्या कर सकते हैं? उनके कांग्रेस के साथ मतभेदों के बावजूद, वे हमारे साथ गठबंधन के लिए तैयार हैं।

कांग्रेस के साथ अन्य राज्यों में गठबंधन की आपकी मांग का क्या?

यह चर्चा बाद में होगी। मैं सीट-बंटवारे की उनकी मांगों के बारे में स्पष्ट हूं। मुझे मध्यस्थों से पता चला कि वे दिल्ली में 50 -50 सीट साझा करने की व्यवस्था के लिए तैयार हैं।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से