Home देश उत्तर प्रदेश यूपी चुनाव: स्वामी प्रसाद मौर्य समेत भाजपा के कई बागी सपा में हुए शामिल, अखिलेश ने पहनाई पगड़ी

यूपी चुनाव: स्वामी प्रसाद मौर्य समेत भाजपा के कई बागी सपा में हुए शामिल, अखिलेश ने पहनाई पगड़ी

आउटलुक टीम - JAN 14 , 2022
यूपी चुनाव: स्वामी प्रसाद मौर्य समेत भाजपा के कई बागी सपा में हुए शामिल, अखिलेश ने पहनाई पगड़ी
यूपी चुनाव: स्वामी प्रसाद मौर्य समेत भाजपा के कई बागी सपा में हुए शामिल, अखिलेश ने पहनाई पगड़ी
आउटलुक टीम

उत्तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री और प्रमुख ओबीसी नेता स्वामी प्रसाद मौर्य शुक्रवार को एक अन्य बागी मंत्री धर्म सिंह सैनी के साथ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। अखिलेश यादव की मौजूदगी में भाजपा के पांच विधायक और अपना दल (सोनेलाल) के विधायक अमर सिंह चौधरी भी सपा में शामिल हो गए। सपा में शामिल हुए सभी नेताओं को अखिलेश ने पगड़ी पहनाकर स्वागत किया।

सपा में शामिल होने वाले पांच भाजपा विधायक भगवती सागर (कानपुर में बिल्हौर), रोशनलाल वर्मा (शाहजहांपुर में तिलहर), विनय शाक्य (औरैया में बिधूना), बृजेश प्रजापति (बहरीच में तिंदवारी) और मुकेश वर्मा (फिरोजाबाद में शिकोहाबाद) हैं।

आपको बता दें कि चौधरी शोहरतगढ़ से विधायक हैं। उन्हें उनके कार्यालय में सपा की सदस्यता दी गई। गौरतलब राज्य के श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे से उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा को झटका लगा है।

यूपी में महत्वपूर्ण चुनावों को होने में एक महीने से भी कम का समय बचा हुआ है। राज्य में गैर-यादव ओबीसी के बीच, सपा के प्रभाव को मजबूत कर सकता है। सपा को 2024 के संसदीय चुनावों पर भी प्रभाव पड़ सकता है।

गौरतलब हो कि 10 फरवरी से उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों के लिए सात चरणों में मतदान होना है। सात चरणों तक चलने वाले इस मतदान का नतीजा 10 मार्च को निकलेगा।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने सपा में शामिल होने के साथ ही बीजेपी पर हमला बोला है। एपीबी न्यूज के अनुसार, उन्होंने कहा कि ऐसी सुनामी आएगी की बीजेपी के परखच्चे उड़ जाएंगे। स्वामी प्रसाद मौर्य ने बीजेपी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जिनको हमारी बात सुनने का समय नहीं मिलता था, अब उनको हमारे इस्तीफ़े से उनकी नींद हराम हो गई है।

खबर के अनुसार, मौर्य ने कहा कि पिछड़ों, दलितों और शोषितों की वजह से ये केशव प्रसाद मौर्य और स्वामी प्रसाद मौर्य का नाम उछालकर वो सत्ता में आए। तब बोला गया तब कि सीएम या तो केशव होंगे या स्वामी प्रसाद, लेकिन पिछड़ों को धोखा देकर गोरखपुर से लेकर सीएम बना दिया।

वहीं, अखिलेश यादव ने लखनऊ में आयोजित एक रैली में स्वामी प्रसाद मौर्य समेत भाजपा के कई बागी सपा में शामिल हुए, अखिलेश ने पगड़ी पहनाई और कहा कि मुझे लगता है कि सरकार के लोगों को पहले ही पता लग गया था कि स्वामी प्रसाद मौर्य और धर्म सिंह सैनी के साथ बड़ी संख्या में लोग आ रहे होंगे, इसलिए हमारे मुख्यमंत्री पहले ही गोरखपुर चले गए। हालांकि उनकी 11 मार्च की किसी ने टिकट बुक कर रखी है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से