Home » देश » राज्य » यूपी सरकार खोलेगी नेताओं के लिए ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट

यूपी सरकार खोलेगी नेताओं के लिए ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट

OCT 11 , 2018

उत्तर प्रदेश सरकार नेताओं के लिए ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट खोलने जा रही है। योगी सरकार गाजियाबाद जिले में 51 हजार 213 वर्गमीटर भूमि पर राजनगर विस्तार मार्ग सिहानी में प्रशिक्षण संस्थान की स्थापना करेगी। इसमें प्रशिक्षण लेने वाले प्रशिक्षार्थियों से फीस, कोर्स, एडमीशन शर्तें, सब्जेक्ट मैटर आदि के लिए कमेटी का भी गठन किया गया है।

मिलेगी डिग्री, चलाए जाएंगे कई कोर्स

गाजियाबाद जिले में नगर निगम की 60 बीघा जमीन में 198 करोड़ की लागत से ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट को दो साल में तैयार किया जाएगा। राजनीति में प्रवेश करने वाले या किसी भी दल के नेता या जनप्रतिनिधि इस पॉलिटिकल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट में प्रशिक्षण ले सकेंगे। नेताओं के लिए कोर्स चलाए जाएंगे और उन्हें बाकायदा डिग्री मिलेगी। इस इंस्टीट्यूट में राजनीति से जुड़े विभिन्न पहलुओं की ट्रेनिंग दी जाएगी। फिलहाल यह तय नहीं है कि कोर्स के बाद प्लेसमेंट भी कराया जाएगा या नहीं। इस बारे में राज्य सरकार की नेशनल ओरियंटल यूनिवर्सिटी से बातचीत चल रही है।

'ऐसे संस्थानों का है अभाव'

नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना ने बताया कि जनप्रतिनिधियों को लोकतांत्रिक संस्थाओं, संगठनों के विभिन्न विधियों, परिपाटियों, नियमों और कानून की जानकारी देने और लोकतांत्रिक संस्थाओं/संगठनों की विभिन्न विधाओं और पहलुओं से भलीभांति अवगत कराने के लिए प्रशिक्षण केन्द्र की आवश्यकता है। दिल्ली के समीप होने के कारण गाजियाबाद में प्रशिक्षण के लिये अच्छे प्रवक्ताओं के साथ-साथ विजिटिंग प्रोफेसर उपलब्ध होने में सुगमता होगी। प्रशिक्षण केन्द्र में ऐसे नौजवान या इच्छुक व्यक्तियों के लिए डिप्लोमा या डिग्री पाठ्यक्रम चलाए जा सकते हैं, जो राजनीति में आना चाहते हैं। वर्तमान में इस प्रकार के पाठ्यक्रम का विश्वविद्यालयों, महाविद्यालयों और संस्थाओं में अभाव है।

उन्होंने बताया कि परियोजना की उच्च विशिष्टियों में स्ट्रक्चरल ग्लेजिंग, वुडेन फ्लोरिंग, वाल, पैनेलिंग, कारपेट फ्लोरिंग, विनायल फ्लोरिंग, फाल्स सीलिंग, सैण्ड स्टोन क्लेडिंग, पोलीकार्बोनेट शीट, साइनेज और ग्रीन रेटिंग फार इन्टीग्रेटेड हैबेटेट एसेसमेन्ट आदि सम्मिलित है। प्रशिक्षण केन्द्र के निर्माण के लिए चालू वित्तीय वर्ष 2018-19 में नगर विकास विभाग के बजट में 50 करोड़ की धनराशि का प्राविधान किया गया है।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.