Home देश राज्य स्पाइस जेट के टेक्नीशियन की लैंडिंग गियर में फंसने से मौत, जानें कैसे हुआ हादसा

स्पाइस जेट के टेक्नीशियन की लैंडिंग गियर में फंसने से मौत, जानें कैसे हुआ हादसा

आउटलुक टीम - JUL 10 , 2019
स्पाइस जेट के टेक्नीशियन की लैंडिंग गियर में फंसने से मौत, जानें कैसे हुआ हादसा
स्पाइस जेट के टेक्नीशियन की लैंडिंग गियर में फंसने से मौत, जानें कैसे हुआ हादसा
File Photo
आउटलुक टीम

पश्चिम बंगाल की राजधानी में नेताजी सुभाष चंद्र बोस अतंरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर बेहद ही दर्दनाक हादसा देखने को मिला है। एयरपोर्ट पर नियमित मेंटनेंस काम के दौरान हुए स्‍पाइस जेट के एक तकनीशियन की जान चली गई। यह 'हादसा' उस वक्‍त हुआ, जब वह स्‍पाइस जेट से जुड़े एक विमान के मेंटनेंस कार्य में लगा था।

दरअसल, स्पाइस जेट के टेक्नीशियन की देर रात करीब 1 बजे मौत हो गई। बताया जा रहा है कि टेक्नीशियन विमान में लैंडिग गियर के दरवाजे में फंस गया था। जिस वजह से उसकी जान चली गई। फायर ब्रिगेड की मदद से उसके शरीर को लैंडिंग गियर से बाहर निकाला गया। पुलिस मामले की जानकारी लेने में जुटी हुई है। मरने वाले टेक्नीशियन का नाम रोहित पांडे है।

स्पाइस जेट ने इस घटना पर शोक जताते हुए कहा कि कोलकाता के हवाई अड्डे पर एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना में हमारे टेकनीशियन रोहित पांडे का कल रात निधन हो गया। वह एक क्यू400 विमान के दाहिने हाथ मुख्य लैंडिंग गियर व्हील वेल एरिया में रख-रखाव का काम कर रहा था, जिसे एयरपोर्ट पर नंबर 32 में पार्क किया गया था।  

दरअसल अनजाने में, मुख्य लैंडिंग गियर हाइड्रोलिक डोर बंद हो गया और वह हाइड्रोलिक डोर फ्लैप के बीच फंस गया। पांडे को बचाने के लिए हाइड्रोलिक दरवाजे तोड़े गए लेकिन, उनकी मौत हो गई। स्पाइस जेट ने कहा कि इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना में पूरा स्पाइसजेट परिवार दुःख में साथ खड़ा है।

लैंडिंग गियर डोर किसी भी विमान का वह मैकेनिज्‍म होता है, जो उड़ान के दौरान लैंडिंग गियर को कवर करता है। इसके तीन हिस्‍से होते हैं, हाइड्रॉलिक ओपनिंग सिस्‍टम, ग्रैविटैशनल ओपनिंग सिस्‍टम और हाइड्रॉलिक क्‍लोजिंग सिस्‍टम। लैंडिंग गियर डोर का मकसद लैंडिंग गियर को सुरक्षा प्रदान करने के साथ-साथ विमान के एयरोडायनमिक शेप को बरकरार रखना भी होता है। ये डोर विमान के नीचे होते हैं, जो सुरक्षित लैंडिंग के लिए लैंडिंग गियर के फैलने के दौरान न्‍यूनतम स्‍पेस खुलना सुनिश्चित करते हैं।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से