Home » देश » राज्य » यूपी में रेप पीड़िता के पिता की हिरासत में मौत के बाद 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड, जांच के आदेश

यूपी में रेप पीड़िता के पिता की हिरासत में मौत के बाद 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड, जांच के आदेश

APR 09 , 2018

विधायक पर रेप का आरोप लगाने वाली महिला के पिता की मौत के बाद एसपी उन्नाव ने माखी थाना प्रभारी समेत 6 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है।

एसपी पुष्पांजली देवी ने कहा कि पोस्टमार्टम के बाद हम मामले में आगे की जांच करेंगे। 2 पुलिस अधिकारी और 4 कॉन्स्टेबल निलंबित कर दिए गए हैं।

रविवार को लखनऊ स्थित मुख्यमंत्री आवास के सामने खुदकुशी की कोशिश करने वाली रेप पीड़िता के पिता की सोमवार को संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। कथित तौर पर पुलिस हिरासत में उनकी मौत हुई है।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, इस संबंध में डीआईजी (लॉ एंड ऑर्डर) ने मजिस्ट्रियल जांच की बात कही है। उन्होंने कहा, “अगर पुलिस की तरफ से कोई चूक हुई है तो कार्रवाई की जाएगी। घटना हुई तब व्यक्ति न्यायिक हिरासत में था।”

इधर जिला अस्पताल उन्नाव के डॉ. अतुल का कहना है कि पेट दर्द और उल्टी की शिकायत के बाद उन्हें कल रात अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जिसके बाद सुबह-सुबह उनका निधन हो गया।

क्या है मामला..

बता दें कि उन्नाव के माखी थाना क्षेत्र की रहने वाली युवती ने भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर आरोप लगाया कि उन्होंने उसे बंधक बनाकर कई बार रेप किया। पीड़िता के परिवार ने विधायक के खिलाफ पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप लगाते हुए रविवार सुबह मुख्यमंत्री आवास पर आत्मदाह का प्रयास किया था।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, "युवती ने आरोप लगाया कि पिछले साल जून में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने बलात्कार किया था। उन्होंने उन्नाव के गौतमपल्ली पुलिस थाने के प्रभारी विजय सेन सिंह पर शिकायत नहीं दर्ज करने का भी आरोप लगाया।

हालांकि, सेंगर ने आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि यह उनकी छवि को खराब करने की साजिश है।

उन्होंने कहा, "यह मेरे राजनीतिक विरोधियों द्वारा मेरी छवि को खराब करने और मेरी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के लिए तैयार की गई साजिश है ... मुझे किसी भी जांच से कोई समस्या नहीं है। जांच करें और दोषी को सख्त सजा दी जाए। मैं जांच का सामना करने के लिए तैयार हूं।"

 आत्मदाह के प्रयास की घटना मुख्यमंत्री निवास के गोल्फ क्लब गेट के बाहर हुई थी। हालांकि, पुलिस ने इसे नाकाम कर दिया था।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.