Home देश राज्य मदरसों की प्रकृति गोडसे और प्रज्ञा जैसी शख्सियत पैदा करने की नहीं: सपा सांसद आजम खान

मदरसों की प्रकृति गोडसे और प्रज्ञा जैसी शख्सियत पैदा करने की नहीं: सपा सांसद आजम खान

आउटलुक टीम - JUN 12 , 2019
मदरसों की प्रकृति गोडसे और प्रज्ञा जैसी शख्सियत पैदा करने की नहीं: सपा सांसद आजम खान
मदरसों की प्रकृति गोडसे और प्रज्ञा जैसी शख्सियत पैदा करने की नहीं: सपा सांसद आजम खान
File Photo
आउटलुक टीम

समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता और रामपुर से सांसद आजम खान एक बार फिर अपने बयानों की वजह से चर्चा में आ गए हैं। मदरसों को लेकर मोदी सरकार के फैसले के बाद आजम खान ने सरकार और आरएसएस पर जोरदार हमला बोला है। उन्होंने मदरसों की शिक्षा प्रणाली में कम्प्यूटर और गणित को शामिल कर उन्हें मुख्यधारा में लाने के फैसले पर विवादास्पद बयान दिया। आजम खान ने कहा कि मदरसों की प्रकृति नाथूराम गोडसे या प्रज्ञा सिंह ठाकुर जैसी शख्सियत नहीं पैदा करने वाली नहीं है। अगर सरकार मदरसों की मदद करना चाहती है तो उनकी बिल्डिंग बनवाए और सुविधाएं बढ़ाई जाएं।

आजम खान ने कहा, मदरसों में हमेशा से यही शिक्षा दी जाती रही है

आजम खान ने अपना बयान जारी करते हुए कहा, 'मदरसों में धार्मिक शिक्षा दी जाती है इसी के साथ यहां अंग्रेजी, हिंदी और गणित भी पढ़ाया जाता है। मदरसों में हमेशा से यही शिक्षा दी जाती रही है। यदि आप (सरकार) कोई मदद करना चाहते हैं तो पहले मदरसे की स्थिति को ठीक कीजिए। मदरसे की बिल्डिंग का निर्माण कराए और उन्हें फर्नीचर, मिड डे मील जैसी सुविधा मुहैया कराएं।'

आजम खान ने आरएसएस पर साधा निशाना

इसके साथ ही आजम खान ने आरएसएस पर निशाना साधते हुए कहा, 'मदरसे में नाथूराम गोडसे के विचार वाले या प्रज्ञा ठाकुर जैसे लोग नहीं बनाते हैं। सबसे पहले इसकी घोषणा करें कि नाथूराम गोडसे के विचारों को फैलाने वाले को लोकतंत्र का दुश्मन घोषित किया जाएगा। साथ ही आतंकी गतिविधियों के लिए दोषी करार वालों को पुरुस्कृत नहीं किया जाएगा।'

मोदी सरकार ने 'मदरसा' शिक्षा को आधुनिक बनाने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाया

बता दें कि दूसरे कार्यकाल के लिए सत्ता संभालने के कुछ दिनों बाद ही  मोदी सरकार ने 'मदरसा' शिक्षा को आधुनिक बनाने और इसे औपचारिक शिक्षा के साथ जोड़ने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाया है। अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मंगलवार को ऐलान किया कि अगले महीने मुसलमानों के ऐसे अनौपचारिक संस्थानों के शिक्षकों को प्रशिक्षित करने के साथ यह कार्यक्रम शुरू किया जाएगा।

उन्होंने ये भी कहा कि सरकार इस योजना पर भी काम कर रही है कि मदरसों से बाहर निकलने वाले छात्र जामिया मिलिया इस्लामिया और दिल्ली विश्वविद्यालय जैसे संस्थानों से औपचारिक शिक्षा प्राप्त करें।

मदरसों के शिक्षकों को औपचारिक शिक्षा का प्रशिक्षण दिया जाएगा

मदरसा एक ऐसा अनौपचारिक शिक्षा संस्थान होता है, जहां प्राय: इस्लामिक अध्ययन पर जोर दिया जाता है। कुछ अनुमान के अनुसार, देशभर में ऐसे लाखों संस्थान फैले हुए हैं। मदरसा शिक्षा का आधुनिकीकरण करने की योजना को विस्तार से बताते हुए नकवी ने कहा था कि पहला कदम यह है कि मदरसों के शिक्षकों को औपचारिक शिक्षा का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

साध्वी ने गोडसे को राष्ट्रभक्त बताया था

साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर मालेगांव ब्लास्ट केस में आरोपी हैं, उन्होंने भोपाल से कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज की है। प्रचार अभियान में प्रज्ञा ने गांधीजी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को राष्ट्रभक्त बताया था। इसके लिए उन्हें काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कहा था कि वे प्रज्ञा ठाकुर को मन से कभी माफ नहीं कर पाएंगे।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से