Home » देश » राज्य » शिवराज सरकार में पानी की किल्लत, जान जोखिम में डालकर मिलता है एक बाल्टी पानी

शिवराज सरकार में पानी की किल्लत, जान जोखिम में डालकर मिलता है एक बाल्टी पानी

MAY 26 , 2018

मध्‍य प्रदेश की शिवराज सरकार में पानी की किल्लत से जूझ रहे लोगों का एक दर्दनाक वीडियो सामने आया है। यह वीडियो राज्य के मशाहपुरा के एक गांव का है जहां लोगों को जान जोखिम में डालकर पानी के लिए कुएं में उतरना पड़ रहा है।

देश के अलग-अलग हिस्सों में भीषण गर्मी का प्रकोप जारी है लेकिन मध्य प्रदेश में लोगों को इस तपा देने वाली गर्मी के साथ-साथ पानी की किल्लत का भी सामना करना पड़ रहा है। शिवराज सरकार में हाल यह है कि पानी की किल्‍लत से परेशान लोग कहीं गंदा पानी पीने को मजबूर हैं तो कहीं-कहीं कई किलोमीटर दूर जाकर पानी लाना पड़ा रहा है।

यहां देखें वीडियो- 

सामने आए इस वीडियो में देखा जा सकता है कि किस तरह लोग मजबूरन अपनी जान जोखिम में डालकर कुएं में पानी के लिए उतर रहे हैं। यहां के लोग पानी के लिए दर-दर भटकते हैं। गांव में तीस फीट गहरा कुआ हैं जिसमें पानी कम है। इसलिए लोग कुएं में उतरकर पानी निकालते हैं। एक व्यक्ति सबसे नीचे फिर दूसरा व्यक्ति बीच में और तीसरा व्यक्ति कुएं के बाहर खड़ा रहता है जो पानी के बर्तन को पकड़ता जाता है।

पानी के लिए ये कुआं ही एकमात्र सहारा है

पिछले कई सालों से इस समस्या का सामना करने वाले लोगों का कहना है कि पानी के लिए कुआं ही एकमात्र सहारा है लेकिन उसके लिए भी एक किमी दूर चलना पड़ता है।

इस समस्या पर क्या बोले मजिस्ट्रेट-

इस मामले में शाहपुरा के सब-डिविजनल मैजिस्ट्रेट ने कहा, “शाहपुरा से लोग हमारे पास पानी की शिकायत को लेकर आ चुके हैं। वे लोग गंभीर जल संकट की समस्या का सामना कर रहे हैं। इसलिए हमने पंचायत को निर्देश दिया है कि रोज वहां पर दो टैंकर पानी उपलब्ध कराए जाएं।”

पानी की समस्या को देखते हुए 70 साल के बुजुर्ग ने खोदा कुआं

गौरतलब है कि छतरपुर के हदुआ गांव से पिछले दिनों एक ऐसा ही मामला सामने आया था, जहां एक 70 साल का बुजुर्ग गांव में पानी की समस्या को देखते हुए खुद ही कुआं खोद रहे हैं। वहीं, लोगों का कहना है कि इस गांव में पिछले ढाई साल से पानी की समस्या बनी हुई है लेकिन सरकार की तरफ से यहां कोई मदद मुहैया नहीं कराई गई है।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.