Home देश राज्य लालू को चुपके से कपड़े पहुंचा फिर लापता हो गया इरफान, वीडियो वायरल होने के बाद से ढूंढ रही हैं पुलिस

लालू को चुपके से कपड़े पहुंचा फिर लापता हो गया इरफान, वीडियो वायरल होने के बाद से ढूंढ रही हैं पुलिस

आउटलुक टीम - NOV 29 , 2020
लालू को चुपके से कपड़े पहुंचा फिर लापता हो गया इरफान, वीडियो वायरल होने के बाद से ढूंढ रही हैं पुलिस
लालु को चुपके से कपड़े पहुंचा फिर लापता हो गया इरफान, वीडियो वायरस होने के बाद से ढूंढ रही हैं पुलिस
FILE PHOTO
आउटलुक टीम

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद का लापता सेवादार इरफान अंसारी जिसे पुलिस ढूंढ रही होगी खुद मोबाइल ऑफ कर रिम्‍स में घूम रहा था। चेहरे पर साफा बांधे। लालू-ललन पासवान प्रकरण पर बिहार के पूर्व उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी के वायरल ऑडियो के बाद से लालू प्रसाद का सेवादार इरफान लापता है। घर पर भी नहीं रहता और मोबाइल भी ऑफ। ऑडियो वायरल होने के बाद लालू प्रसाद को रिम्‍स ( राजेंद्र आयुर्विज्ञान संस्‍थान) रांची के निदेशक के बंगला से रिम्‍स में पेईंग वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। लालू प्रसाद के जेल जाने के बाद से इरफान साये की तरह लगा रहता था। दो-तीन दिन पहले वह रिम्‍स आया था, चेहरे पर साफा लपेटे कि कोई देख न ले। फिर एक पत्रकार को पकड़ा, कपड़ों का थैला पकड़ाया और फिर लापता हो गया। सीसीटीवी कैमरे के डर से खुद भीतर नहीं गया कि कहीं पहचान न लिया जाये। मगर लालू की सुरक्षा में तैनात जवान तो इरफान और पत्रकार दोनों को पहचानता था।
खैर उम्रदराज और बीमार लालू प्रसाद के लिए जब घर की तरह साथ में पत्‍नी, बच्‍चे नहीं हों तो सेवादार से बढ़कर कोई सहारा नहीं जो खाना बनाने, खिलाने, दवा खिलाने से लेकर हर तरह का ख्‍याल रखे। वह भी समर्पण के भाव से। दिलचस्‍प घटना उस समय भी घटी जब लालू प्रसाद जेल आये थे। 2018 के जनवरी में मीडिया में यह मामला लहराया रहा। लालू की सेवा के लिए दो सेवादार पहले ही जेल पहुंच गये थे। औपचारिक स्‍वीकृति के बिना। उस समय मीडिया में खबर खूब चली कि छोटा अपराध दिखा वे जेल पहुंच गये। वे थे लक्ष्‍मण महतो और मदन यादव। लक्ष्‍मण पटना के रहने वाले तो मदन यादव रांची के। सुमित यादव नाम के व्‍यक्ति ने मदन और लक्ष्‍मण के खिलाफ मारपीट और दस हजार रुपये छीनने का आरोप लगाया था। डोरंडा पुलिस के इनकार के बाद लोअर बाजार थाने में प्राथमिकी दर्ज हुई और दोनों ने कोर्ट में सरेंडर किया उसके बाद बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा होटवार पहुंच गये। लालू प्रसाद की सेवा में हाजिर हो गये। मगर तब ये औपचारिक सेवादार नहीं थे। लक्ष्‍मण लालू प्रसाद का पुराना रसोइया रहा है। लक्ष्‍मण राबड़ी देवी का करीबी बताया जाता है। उस समय बिहार की राजनीति इस घटना पर खूब गरमाई। आरोप-प्रत्‍यारोप और सफाई का सिलसिला चलता रहा।
हाल तक लालू प्रसाद की सेवा में तीन सेवादार थे। इरफान, लक्ष्‍मण और असगर। इरफान अभी फरार है तो असगर कोरोना पॉजिटिव होने के कारण पिछले कोई दो माह से ड्यूटी पर नहीं है। लक्ष्‍मण खाना बनाता है और सेवा करता है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से