Home देश राज्य हिमाचल: कोरोना की चपेट में पूरा गांव, इकलौता शख्स जो नहीं हुआ संक्रमित, ये है वजह

हिमाचल: कोरोना की चपेट में पूरा गांव, इकलौता शख्स जो नहीं हुआ संक्रमित, ये है वजह

अश्वनी शर्मा - NOV 21 , 2020
हिमाचल: कोरोना की चपेट में पूरा गांव, इकलौता शख्स जो नहीं हुआ संक्रमित, ये है वजह
भूषण ठाकुर

हिमाचल प्रदेश में 42 कोरोना पॉजिटिव रोगियों के गांव में वह अंतिम व्यक्ति है जिसे यह संक्रमण नहीं हुआ है। यह न तो भाग्य है और न ही दैविक चमत्कार जिसने 52 वर्षीय भूषण ठाकुर को उस वायरस से बचाया। जबकि उसके अपने ही परिवार के पांच सदस्य इस वायरस से संक्रमित हैं। उसने बस नियमों का पालन किया।

हिमाचल प्रदेश के थोरांग गाँव की आबादी 43 है। इस गांव के लोगों ने कुछ दिनों पहले एक धार्मिक मण्डली में भाग लिया था, जिसमें ग्राम देवता के आगमन की शुभकामना दी गई थी। बाद में ठाकुर को छोड़कर सभी लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए।

ठाकुर ने स्वास्थ्य अधिकारियों को बताया, “मेरी टेस्ट रिपोर्ट नेगेटिव है। मैं पूरी तरह सुरक्षित हूं और सुरक्षित महसूस कर रहा हूं। यह मजबूत प्रतिरक्षा के कारण हो सकता है लेकिन मेरा मानना है कि आत्म-सुरक्षा ने मेरे लिए अद्भुत काम किया। यह उन लोगों के लिए भी एक सबक है जो अभी तक कोविड -19 से संक्रमित नहीं हुए हैं। ”

लाहौल-स्पीति के डिप्टी कमिश्नर पंकज राय ने कहा, 'हम जिले में बढ़ते मामलों को लेकर चिंतित हैं। गोंडोला पंचायत, जिसके अंतर्गत यह गाँव पड़ता है, इसकी आबादी 166 है। यह सबसे बुरी तरह प्रभावित है क्योंकि इसने धार्मिक मण्डली की मेजबानी की थी। "

लाहौल-स्पीति और कुल्लू जिलों में, देवता संस्कृति बहुत मजबूत है। दुर्भाग्य से अधिकारियों को एक महामारी के दौरान धार्मिक कार्यों को अनुमति देने के निहितार्थ का एहसास नहीं हुआ।

राय ने कहा कि ठाकुर की कहानी काफी आश्चर्यजनक है, कि कैसे उन्होंने अत्यंत सावधानी बरतते हुए वायरस को हराया। यह जानते हुए कि घटना के दौरान सामाजिक दूरी से समझौता किया गया था, वह सबसे अलग रहे और बीमारी के लक्षण दिखाने वाले अपने परिवार के बाकी सदस्यों से मिलने से बचते रहे।

उन्होंने कहा, “मैंने सबसे अलग रहना चुना और अपना भोजन खुद पकाया। मैंने एक सख्त कोविड प्रोटोकॉल का पालन किया जैसे कि हाथ की स्वच्छता, सामाजिक दूरी, मास्क पहना और परिवार के बाकी सदस्यों के साथ शारीरिक संपर्क में नहीं आया। यह खुद को सुरक्षित करने का एक सही तरीका है। ”

बता दें कि लाहौल स्पीति में कुल 890 मामले दर्ज किए गए, जिनमें से पांच मौतों और 405 सक्रिय मामले हैं। इनमें से चार मौतें अक्टूबर-नवंबर में हुई हैं।



अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से