Advertisement
Home देश राज्य गुजरात: वीएचपी-आरएसएस नेताओं पर कार्रवाई, पुलिस ने लिया हिरासत में

गुजरात: वीएचपी-आरएसएस नेताओं पर कार्रवाई, पुलिस ने लिया हिरासत में

आउटलुक टीम - JAN 20 , 2021
गुजरात: वीएचपी-आरएसएस नेताओं पर कार्रवाई, पुलिस ने लिया हिरासत में
प्रतीकात्मक तस्वीर
आउटलुक टीम

गुजरात में पुलिस ने आदिपुर में पुलिस अधीक्षक कच्छ (पूर्व) के कार्यालय के बाहर मंगलवार को धरना देने वाले विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) और आरएसएस नेताओं को हिरासत में ले लिया। ये नेता रविवार को किदाना गांव में हिंसा के बाद कथित तौर पर गिरफ्तार वीएचपी के नौ कार्यकर्ताओं को रिहा करने की मांग कर रहे थे।

रविवार शाम को गांधीधाम शहर के निकट किदाना गांव में दो समुदायों के समूह भिड़ गए थे। यह घटना तब हुई जब विहिप नेता अयोध्या में राम मंदिर के लिए दान इकट्ठा करने के लिए रथ यात्रा निकाल रहे थे। गुजरात के संगठन महासचिव अशोक रावल की अगुवाई में वीएचपी नेताओं के एक समूह ने मंगलवार सुबह एसपी के कार्यालय में धरने पर बैठने का प्रयास किया।

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, आदिपुर पुलिस स्टेशन के एक अधिकारी ने बताया, "हमने सुबह 11:40 बजे नौ लोगों को हिरासत में लिया और एसपी के निर्देश के अनुसार, हमने उन्हें लकाडिया पुलिस स्टेशन को सौंप दिया।"  

अधिकारी ने आगे कहा कि उनके पास देर शाम तक कोई जानकारी नहीं थी कि लकाडिया पुलिस स्टेशन में बंदियों को छोड़ा जा रहा है या नहीं।  अधिकारी ने आगे कहा,"एसपी कार्यालय के पास इस तरह के विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं देने के निर्देश हैं और उन्हें बिना अनुमति के धरने पर बैठने के लिए हिरासत में लिया गया है।" 

हिरासत में लिए गए लोगों में रावल के अलावा क्रुणाल रूपार, नरन डांगर, सतीश बजाज, खुशाल खड़के और व्रजेश पवागढ़ी शामिल थे।  जबकि रूपार, डांगर और बजाज आरएसएस के नेता हैं, पावागढ़ी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के नेता हैं।

आदिपुर के पुलिस निरीक्षक बी.वी. चुडासमा ने बंदियों की पुष्टि की।  हालांकि, वीएचपी नेताओं ने कहा कि उन्हें शाम को लकाडिया पुलिस स्टेशन से रिहा कर दिया गया था।  रावल ने हालांकि दावा किया कि पुलिस ने मंगलवार को 10 लोगों को हिरासत में लिया था। रावल ने कहा, “आज, हममें से दस विहिप कार्यकर्ता किदाना गांव की हिंसा के बाद गिरफ्तार किए गए हमारे नौ कार्यकर्ताओं को तत्काल रिहा करने की मांग को लेकर मंच पर गांधीधाम स्थित एसपी कार्यालय गए।  हालांकि, एसपी ने हमें बताया कि हम वहां पर बैठ नहीं सकते हैं और एक पुलिस टीम ने हमें पकड़ लिया और शाम तक हमें हिरासत में लिया। ''

पुलिस ने कहा कि विहिप के पास रविवार को रथयात्रा निकालने की अनुमति नहीं थी और यह हिंसा तब शुरू हुई जब संगठन के नेता और समर्थकों ने धार्मिक नारे लगाना शुरू कर दिया जब रथ किदाना के मस्जिद चौक पर पहुंचा।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से

Advertisement
Advertisement