Home » देश » राज्य » गुजरात: राजकोट के शिविर में लगी भीषण आग, 3 बच्चियों की झुलसकर मौत

गुजरात: राजकोट के शिविर में लगी भीषण आग, 3 बच्चियों की झुलसकर मौत

JAN 13 , 2018

गुजरात के राजकोट स्थित स्‍वामी धर्मबंधु के शिविर में शुक्रवार रात लगी भयंकर आग में झुलसकर तीन बच्‍चों की मौत हो गई। इस घटना में 15 अन्‍य बच्‍चे भी घायल हो गए, जिन्‍हें उपचार के लिए राजकोट के अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है।

ये आग जिले के उपलेटा तहसील के प्रासला में चल रही राष्ट्र कथा शिविर में लगी है। जिस समय आग लगी उस समय शिविर में हजारों छात्र शामिल थे। हर साल इस शिविर में 50 हजार छात्र शामिल होते हैं। बताया जा रहा है कि शिविर के आखिरी दिन रात करीब 11.30 बजे ये आग लगी थी। 

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr"><a href="https://twitter.com/hashtag/SpotVisuals?src=hash&amp;ref_src=twsrc%5Etfw">#SpotVisuals</a> 3 girls dead, few others injured after fire broke out at Rashtra Katha Shibir in Pransla, last night <a href="https://twitter.com/hashtag/Gujarat?src=hash&amp;ref_src=twsrc%5Etfw">#Gujarat</a> <a href="https://t.co/e5dFo8vgF9">pic.twitter.com/e5dFo8vgF9</a></p>&mdash; ANI (@ANI) <a href="https://twitter.com/ANI/status/952016624340541440?ref_src=twsrc%5Etfw">January 13, 2018</a></blockquote>
<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

दरअसल, एक टैंट से शुरू हुई यह आग इतनी भयंकर थी कि इनसे धीरे-धीरे अन्‍य 80 टैंटों को भी अपनी चपेट में ले लिया। मौके पर मौजूद सुरक्षाबल के जवानों और राहतकर्मियों ने समय रहते रेस्क्यू ऑपरेशन के तहत शिविर से 400 से 500 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया। बताया जा रहा है कि आग में झुलसकर मारी गई बच्चियां गुजरात की हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शिविर में आग बीती रात करीब साढ़े दस बजे लगी। शिविर में मौजूद लड़कियां जब खाना खाने के बाद अपने टैंट में पहुंची, उसके बाद अचानक एक टैंट में आग लग गई, जिसने धीरे-धीरे आसपास के टैंटों को भी अपनी चपेट में ले लिया। इस आगजनी में करीब 80 टैंट जलकर खाक हो गए।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.