Home » देश » राज्य » यूपी: लगातार दूसरे दिन रेल हादसा, गोरखपुर में ट्रेन पटरी से उतरी

यूपी: लगातार दूसरे दिन रेल हादसा, गोरखपुर में ट्रेन पटरी से उतरी

OCT 11 , 2018

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में डोमिनगढ़ स्टेशन के पास गुरुवार को काठगोदाम-हावड़ा एक्सप्रेस पटरी से उतर गई। खबर लिखे जाने तक किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। किन कारणों से ट्रेन पटरी  हुई। अभी तक पता नहीं चल पाया है। 

रायबरेली में भी हुआ हादसा, 5 की मौत

इससे पहले उत्तर प्रदेश में रायबरेली के पास बुधवार की सुबह न्यू फरक्का एक्सप्रेस के पटरी से उतरने से कम से कम 5 लोगों की मौत हो गई थी तथा करीब 24 अन्य घायल हो गए। पश्चिम बंगाल के मालदा टाउन स्टेशन से नई दिल्ली जा रही ट्रेन का इंजन और आठ डिब्बे बुधवार की सुबह करीब छह बजे उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले में हरचन्दपुर के बाबापुर के पास पटरी से उतर गए थे। इस हादसे में पांच यात्रियों अजय कुमार पुरी (45), अनीता (45), शम्भू (20), रीता (एक) तथा दिनेश (दो) की मौत हो गई। सभी मृतक बिहार के रहने वाले थे। दुर्घटना में करीब 24 अन्य लोग घायल भी हुए थे। 

सितंबर 2017 से अगस्त 2018 तक 40 लोगों की मौत

इस साल की पहली बड़ी रेल दुर्घटना 26 अप्रैल को हुई थी जब उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले में मानवरहित रेलवे क्रॉसिंग पर एक स्कूल वैन ट्रेन की चपेट में आ गई थी जिसमें 13 स्कूली बच्चे मारे गए थे। सितंबर 2017 और अगस्त 2018 के बीच हुई 75 रेल दुर्घटनाओं में 40 लोग मारे गए हैं। सितंबर 2016 और अगस्त 2017 के बीच 80 रेल दुर्घटनाएं हुईं जिनमें 249 लोग मारे गए। नवंबर 2016 में कानपुर के पास इंदौर-पटना एक्सप्रेस के पटरी से उतरने की घटना में 150 से ज्यादा यात्री मारे गए थे।

सितंबर 2017 और अगस्त 2018 के बीच रेल हादसों में 40 लोगों ने अपनी जान गंवाई। अगस्त 2017 में उत्कल एक्सप्रेस के पटरी से उतर जाने के कारण 22 लोग मारे गए थे। सितंबर 2013 और अगस्त 2014 के बीच 139 रेल हादसों में 275 लोगों ने जान गंवाई थी जबकि सितंबर 2014 और अगस्त 2015 के बीच 108 रेल हादसों में 196 लोग मारे गए थे। वर्ष 2017-18 में बाकी 36 मौतें अन्य कारणों से हुई जिनमें मानवरहित लेवल क्रॉसिंग पर दुर्घटना में 28 जानें गईं, मानवयुक्त लेवल क्रॉसिंग पर दुर्घटना में छह मौतें हुईं, एक व्यक्ति की मौत डिब्बे में आग लगने से हुई जबकि एक की मौत किसी अन्य दुर्घटना में हुई। आधिकारिक आंकड़ों से यह जानकारी मिली।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.