Home » देश » राज्य » अहमदाबाद में पीएम मोदी-शिंजो आबे का रोड शो, कल करेंगे बुलेट ट्रेन का शिलान्यास

अहमदाबाद में पीएम मोदी-शिंजो आबे का रोड शो, कल करेंगे बुलेट ट्रेन का शिलान्यास

SEP 13 , 2017

अपनी पत्नी के साथ भारत के दो दिवसीय दौरे पर अहमदाबाद पहुंचे जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे का पीएम नरेंद्र मोदी ने गले लगाकर स्वागत किया। इस दौरान शिंजो आबे को एयरपोर्ट पर ही गॉर्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इसके बाद पीएम नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम शिंजो आबे का जॉइंट रोड शो किया।

Advertisement

रोड शो को दौरान लोगों ने दोनों देश की दोस्ती का स्वागत किया

आठ किलोमीटर लंबे जॉइंट रोड शो में खुली जीप में सवार होकर पीएम नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम शिंजो आबे ने यात्रा की। इस रोड शो के लिए तीन-स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गई है और इस दौरान 15 हजार सुरक्षाकर्मी तैनात थे। 8 किलोमीटर लंबे रोड शो के दौरान सड़क के दोनों ओर करीब 1 लाख लोग उपस्थित रहे। इस दौरान पूरे रास्ते में 19 स्टेज बनाए गए, जहां अलग-अलग राज्यों की झांकियां को प्रस्तुति हुई। लोगों ने भारत और जापान का झंडा लेकर दोनों देश की दोस्ती का स्वागत किया।  

आबे अपने इस दौरे में पीएम मोदी के साथ मिलकर बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की नींव रखेंगे। थोड़ी ही देर में मोदी आबे को 500 साल पुरानी मस्जिद ‘सिद्दी सैयद की जाली’ भी लेकर जाएंगे। इस दौरान सिक्युरिटी के लिए गुजरात पुलिस के 9000 जवान तैनात किए गए हैं।

भारतीय परिधान में नज़र आए जापान के पीएम

रोड शो के बाद पीएम मोदी, जापान के पीएम शिंजो आबे, उनकी पत्नी साबरमती आश्रम गए। रोड शो के लिए आबे ने खासतौर पर नीले रंग की नेहरू जैकेट पहनी। रोड शो के दौरान गुजरात के रंग आबे को दिखाए गए। इस दौरान जापान के पीएम और उनकी पत्नी ने भारतीय परिधान पहने थे।

साबरमती आश्रम में महात्मा गांधी को अर्पित की पुष्पांजिल

आठ किलोमीटर लंबा रोड शो अहमदाबाद हवाई अड्डे से होकर साबरमती आश्रम पर खत्म हुआ। साबरमती आश्रम पहुंचने के बाद तीनों ने महात्मा गांधी जी को पुष्पांजिल अर्पित की। इसके बाद तीनों महात्मा मंदिर में बनी दांडी कुटीर पहुंचे, जो महात्मा गांधी को समर्पित संग्रहालय है। साबरमती आश्रम पहुंचने के बाद दोनों नेताओं ने वहां पर महात्मा गांधी से जुड़ी हुई चीजों को देखा। जापान के पीएम ने साबरमती आश्रम विज़िटर बुक में अपना और अपनी पत्नी का नाम लिखा और उसके ऊपर लव और थैंक यू लिखा।

हैरिटेज होटल में खास डिनर

मोदी शिंजो आबे के सम्मान में अगाशिए हैरिटेज होटल में डिनर देंगे, जहां आबे और उनकी पत्नी को गुजराती पकवान परोसे जाएंगें। इसके बाद आबे हयात होटल लौट जाएंगे, जहां आबे के सम्मान में जापानी मंदिर के दरवाजे जैसा मॉडल बनाया गया है।

जापान के प्रधानमंत्री के भारत दौरे की दो अहम वजहें

पहली- 2022 तक शुरू होने वाली अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन के प्रोजेक्ट का भूमिपूजन।

दूसरी- इंडिया-जापान एनुअल समिट। इस समिट में चीन को घेरने के लिए एशिया-अफ्रीका ग्रोथ कॉरिडोर पर चर्चा से लेकर सिविल न्यूक्लियर कोऑपरेशन और सी-प्लेन डील पर चर्चा हो सकती है।

भारत दौरे के दूसरे दिन गुरुवार को आबे साबरमती स्टेडियम ग्राउंड जाएंगे, जहां बुलेट ट्रेन के भूमिपूजन का प्रोग्राम चलेगा। इस दौरान दोनों पीएम सिम्युलेटर में बैठकर दिखाएंगे कि बुलेट ट्रेन कैसी होगी। इसके बाद महात्मा गांधी मंदिर में दोनों नेताओं के बीच समिट होगी। यह जुलाई 2001 में पाकिस्तान के प्रेसिडेंट परवेज मुशर्रफ के साथ आगरा में हुई समिट के बाद संभवत: दूसरा मौका होगा जब किसी देश के नेता के साथ दिल्ली से बाहर किसी शहर में समिट होगी। इस समिट के दौरान 5 लाख करोड़ रुपए के करार हो सकते हैं।

गुरुवार को मोदी और आबे की ज्वाइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस होगी। दोनों नेता डेलिगेशन लेवल के लंच में हिस्सा लेंगे। इसके बाद भारत-जापान के इंडस्ट्रियलिस्ट्स के साथ इंटरेक्टिव सेशन होगा। मोदी-आबे इंडिया-जापान बिजनेस प्लानिंग पर चर्चा करेंगे और फिर आबे हयात होटल लौट जाएंगे। वहीं, इसके बाद साइंस सिटी में गुजरात के सीएम आबे के सम्मान में डिनर देंगे और आबे अहमदाबाद से रवाना हो जाएंगे।

बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट 

- प्रोजेक्ट की कॉस्ट: मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की कॉस्ट 1.20 लाख करोड़ रुपए है। जापान महज 0.1 इंट्रेस्ट रेट पर 50 साल के लिए करीब 88 हजार करोड़ रुपए का कर्ज दे रहा है। यानी ये बहुत सस्ता कर्ज है। मेक इन इंडिया के तहत देश में 2025 तक सस्ती बुलेट ट्रेनें बनेंगी। इससे इम्पोर्ट का पैसा बचेगा।

- कितनी दूरी, कितनी रफ्तार: यह बुलेट ट्रेन 2022 तक चलाई जानी है। 508 किमी के मुंबई-अहमदाबाद रूट पर बुलेट ट्रेन की मैक्जिमम स्पीड 320 किमी/घंटा होगी। यह 12 स्टेशनों से गुजरकर तीन घंटे में मुंबई से अहमदाबाद पहुंचेगी।

- कैसा होगा रूट: 508 किमी में से 468 किमी लंबा ट्रैक एलिवेटेड रहेगा। 7 किमी का हिस्सा समुद्र के अंदर होगा। 25 किमी का रूट सुरंग से गुजरेगा। बुलेट ट्रेन 70 हाईवे, 21 नदियां पार करेगी। 173 बड़े और 201 छोटे ब्रिज बनेंगे।

- कितने कोच, कितने पैसेंजर्स: शुरुआत 10 कोच वाली ट्रेन के साथ होगी। इसमें 750 लोग बैठ सकेंगे। बाद में 1200 लोगों के लिए 16 कोच हो जाएंगे। ट्रेन में हर दिन 36,000 पैसेंजर्स सफर करेंगे। यह ट्रेन रोजाना 35 फेरे लगाएगी।

- दोनों देशों की जरूरत: जापान इंडोनेशिया में इसी तरह का प्रोजेक्ट हासिल करना चाहता था, लेकिन वहां यह प्रोजेक्ट चीन को मिल गया। लिहाजा, जापान के लिए मुंबई-अहमदाबाद प्रोजेक्ट अहम है। भारत के लिए यह माना जा रहा है कि बुलेट ट्रेन 160 साल पुरानी भारतीय रेल में नया रिवॉल्यूशन लाएगी।

- कितना किराया: मुंबई-अहमदाबाद के बीच अभी हवाई किराया 3500 से 4000 रुपए के आसपास है। बुलेट ट्रेन में यह किराया 2700 से 3000 रुपए के बीच हो सकता है।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.