Home देश पंजाब हरियाणा हिमाचल कैप्टन अमरिंदर की नाराजगी खत्म? सिद्धू के पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालने के दौरान रहेंगे मौजूद

कैप्टन अमरिंदर की नाराजगी खत्म? सिद्धू के पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालने के दौरान रहेंगे मौजूद

आउटलुक टीम - JUL 22 , 2021
कैप्टन अमरिंदर की नाराजगी खत्म? सिद्धू के पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालने के दौरान रहेंगे मौजूद
कैप्टन अमरिंदर की नाराजगी खत्म? सिद्धू के पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालने के दौरान रहेंगे मौजूद
पीटीआइ
आउटलुक टीम

पंजाब कांग्रेस के अंदर पिछले काफी समय से चल रही खींचतान के बीच अब ऐसा लगता है कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू को राज्य कांग्रेस का 'कैप्टन' मान लिया है। बताया जा रहा है कि अमरिंदर सिंह ने सिद्धू के आमंत्रण को स्वीकार कर लिया है और शुक्रवार को जब सिद्धू औपचारिक रूप से पार्टी प्रदेश अध्यक्ष की कमान संभालेंगे तब अमरिंदर सिंह भी वहां मौजूद रहेंगे।

न्यूज एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले बताया है कि शुक्रवार को जब पंजाब कांग्रेस के नए चीफ नवजोत सिंह सिद्धू औपचारिक रूप से प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालेंगे तब वहां मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह भी मौजूद रह सकते हैं।

वहीं, पंजाब कांग्रेस के नवनिर्वाचित अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू पर बोलते हुए हरीश रावत ने कहा कि सब ठीक है, कल आप देखेंगे कि पूरी कांग्रेस आपको कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में एक साथ खड़ी दिखाई देगी और नए अध्यक्ष (नवजोत सिंह सिद्धू) का स्वागत करेगी।

इससे पहले नवजोत सिंह सिद्धू ने सीएम अमरिंदर सिंह को 23 जुलाई को आने के लिए न्योता भेजा था। इस आमंत्रण पत्र पर पार्टी के 65 विधायकों के हस्ताक्षर थे। यह भी बताया जा रहा है कि सिद्धू ने पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत को भी कार्यक्रम में आने का निमंत्रण भेजा है। हरीश रावत के भी इस कार्यक्रम में शामिल होने की संभावना है।

जानकारी के मुताबिक, इस पदग्रहण समारोह कार्यक्रम में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथ के भी आने की संभावना है। इसके अलावा यह भी कहा जा रहा है कि इस कार्यक्रम में राहुल गांधी भी शामिल हो सकते हैं। हालांकि, इसकी अभी आधिकारिक तौर से पुष्टि नहीं की गई है। बहरहाल कैप्टन अमरिदर सिंह के नवजोत सिंह सिद्धू के पदभार ग्रहण कार्यक्रम में शामिल होने की खबर सामने आने के बाद यह कयास लगाए जा रहे हैं कि दोनों नेताओं के बीच चल रही रार सचमुच खत्म हो गई है।  

इससे पहले कांग्रेस आलाकमान के जरिए पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष की कुर्सी दिए जाने के बाद सिद्धू ने बुधवार को अमृतसर में बड़ा शक्ति प्रदर्शन किया। पंजाब कांग्रेस के 80 में से करीब 62 विधायकों के साथ सिद्धू स्वर्ण मंदिर में मत्था टेकने पहुंचे। इससे पहले शनिवार से सिद्धू 50 से ज्यादा विधायकों के घर जाकर उनसे मिल चुके हैं।  

बता दें कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के कड़े विरोध के बावजूद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रविवार को सिद्धू को पार्टी की पंजाब इकाई का नया अध्यक्ष नियुक्त किया था। गांधी ने अगले विधानसभा चुनावों में सिद्धू की सहायता के लिए चार कार्यकारी अध्यक्षों संगत सिंह गिलजियां, सुखविंदर सिंह डैनी, पवन गोयल, कुलजीत सिंह नागरा को भी नियुक्त किया था। मुख्यमंत्री के दफ्तर ने यह ऐलान किया था कि कैप्टन सिद्धू से तब तक नहीं मिलेंगे जब तक सिद्धू उन पर की गई व्यक्तिगत टिप्पणियों के लिए सार्वजनिक रूप से माफी नहीं मांगते।

 

 

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से