Advertisement
Home देश केरल: ट्रांसजेंडर जोड़े को मंदिर में शादी करने से रोका, विवाद बढ़ा

केरल: ट्रांसजेंडर जोड़े को मंदिर में शादी करने से रोका, विवाद बढ़ा

आउटलुक टीम - NOV 24 , 2022
केरल: ट्रांसजेंडर जोड़े को मंदिर में शादी करने से रोका, विवाद बढ़ा
केरल: ट्रांसजेंडर जोड़े को मंदिर में शादी करने से रोका, विवाद बढ़ा
ANI/प्रतीकात्मक तस्वीर
आउटलुक टीम

केरल के एक मंदिर में एक ट्रांसजेंडर जोड़े की शादी की अनुमति देने से कथित तौर पर इनकार करने के बाद जिले में विवाद पैदा हो गया है। इसको लेकर हाशिये पर रहने वाले समुदाय के कई सदस्यों ने पूजा स्थल के प्रबंधन की आलोचना की है। 

युगल, निलन कृष्णा और अद्विका, कुछ समय के लिए एक रिश्ते में थे और उन्होंने थिरु-कचमकुरिसी मंदिर में शादी करने का फैसला किया। उन्होंने अपने दोस्तों के अनुसार, महाविष्णु को समर्पित मंदिर को समारोह स्थल के रूप में दिखाते हुए शादी का निमंत्रण छपवाया।

लेकिन, मंदिर के अधिकारियों द्वारा ट्रांसजेंडर समुदाय से होने के कारण शादी की अनुमति देने से इनकार करने के बाद जोड़े को आज निर्धारित कार्यक्रम के स्थान को पास के हॉल में बदलने के लिए मजबूर होना पड़ा।

हालांकि, मालाबार देवास्वोम बोर्ड के तहत आने वाले मंदिर के अधिकारियों ने इस आरोप से इनकार किया और कहा कि उन्होंने समारोह की अनुमति देने से इनकार नहीं किया है, बल्कि उन्हें केवल इस संबंध में मंदिर बोर्ड के अधिकारियों से बात करने के लिए कहा है।

मंदिर के एक अधिकारी ने बताया, "जोड़ा नहीं, बल्कि उनसे जुड़ा कोई और व्यक्ति यहां आया और हमें मंदिर में शादी करने की योजना के बारे में बताया। तब हम यह नहीं समझ पाए कि यह जोड़ा ट्रांसजेंडर समुदाय से है।"

उन्होंने कहा कि जब उन्हें दंपति के लिंग के बारे में पता चला तो उन्होंने उनसे उच्च अधिकारियों से बात करने को कहा। मंदिर के अधिकारी ने कहा कि वे आमतौर पर मंदिर परिसर में माता-पिता और रिश्तेदारों की अनुमति के बिना होने वाले प्रेम विवाह को स्वीकार नहीं करते हैं क्योंकि ऐसी शादियां भविष्य में पुलिस मामलों और कानूनी मुद्दों को आमंत्रित कर सकती हैं।

ट्रांसजेंडर कार्यकर्ता ईशा किशोर ने कहा कि यह घटना दुर्भाग्यपूर्ण थी क्योंकि जोड़े को केवल उनके लिंग के कारण मंदिर परिसर में शादी करने की अनुमति नहीं दी गई थी।
उन्होंने कहा, ''हर मंदिर के अपने नियम और कर्मकांड होते हैं और मैं इससे पूरी तरह सहमत हूं। लेकिन यहां उन्होंने लिंग के नाम पर अनुमति देने से इनकार कर दिया।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से

Advertisement
Advertisement