Home देश मुद्दे जय श्री राम के नारे नहीं लगाने पर मदरसे के बच्चों की पिटाई, बजरंग दल पर लगे आरोप

जय श्री राम के नारे नहीं लगाने पर मदरसे के बच्चों की पिटाई, बजरंग दल पर लगे आरोप

आउटलुक टीम - JUL 12 , 2019
जय श्री राम के नारे नहीं लगाने पर मदरसे के बच्चों की पिटाई, बजरंग दल पर लगे आरोप
उन्नाव जामा मस्जिद के इमाम
आउटलुक टीम

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के एक मदरसे में बच्चों की कुछ लोगों ने केवल इस बात पर क‌थित तौर पर सिर्फ इस‌लिए पिटाई कर दी ‌कि बच्चों ने ‘जय श्री राम’ के नारे लगाने से मना कर ‌दिया था। इस घटना में कई बच्चे जख्मी हो गए। आरोप है कि हमला करने वाले लोग बजरंग दल  के थे।

खबरों के अनुसार, जब बच्चे दोपहर की नमाज के बाद क्रिकेट खेलने के लिए एक मैदान में गए तब उनके कपड़े फाड़ दिए गए और उनकी साइकिल को समूह द्वारा तोड़ दिया गया। पीड़ित सभी नाबालिग हैं।

बताया गया कि चार लोगों का एक समूह मैदान में आया और क्रिकेट खेलने को लेकर बहस के बाद  उन्होंने कथित तौर पर बच्चों की पिटाई शुरू कर दी और यहां तक कि उन्हें "जय श्री राम" का नारा लगाने के लिए मजबूर किया।

घटना के बाद बच्चे वापस मदरसे में आए और इसके बारे में बताया। इसके बाद पुलिस पहुंची और मामले का संज्ञान लिया।

बजरंग दल पर आरोप

जामा मस्जिद के इमाम के अनुसार, गुरुवार को हुई घटना में बजरंग दल के लोगों का एक समूह शामिल था। पुलिस ने इस घटना के संबंध में एक मामला दर्ज किया है और तीन आरोपियों की पहचान उनके फेसबुक अकाउंट को ट्रेस करके भी की है। आरोपियों ने अपने सोशल मीडिया खातों में बजरंग दल के सदस्यों के रूप में अपनी पहचान बताई है।

‘जय श्री राम’ के नाम पर कई घटनाएं

सर्किल अधिकारी उमेश कुमार त्यागी ने कहा कि मामले में जांच जारी है। यह पहली बार नहीं है कि उत्तर प्रदेश में इस तरह की घटना सामने आई है। 4 जुलाई को ऐसी ही एक घटना में जहां एक ऑटो चालक मोहम्मद आतिब ने आरोप लगाया था कि कुछ लोगों के एक समूह ने उसे एक वॉशरूम में बंद कर दिया और "जय श्री राम" का जाप करने से मना करने पर पथराव कर दिया। इससे पहले, एक मुस्लिम युवक, जो टोपी पहने हुए था उसके कथित तौर पर "जय श्री राम" का जाप करने से मना करने पर कुछ अज्ञात व्यक्तियों द्वारा कानपुर में उसकी पिटाई की गई और उसका अपमान किया गया। यह हमला तब हुआ जब ताज मोहम्मद नाम का युवक एक स्थानीय मदरसे से बर्रा इलाके में अपने घर लौट रहा था।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से