Home » देश » मुद्दे » डीयू चुनाव परिणाम पर सोशल मीडिया का तंज, तकनीकी वजहों से हारी एबीवीपी

डीयू चुनाव परिणाम पर सोशल मीडिया का तंज, तकनीकी वजहों से हारी एबीवीपी

SEP 13 , 2017

दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) में मंगलवार को हुए छात्र संघ चुनाव के नतीजे आ गए हैं। अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद पर एनएसयूआई ने जीत हासिल की है। जबकि सचिव और संयुक्त सचिव पद पर आरएसएस के छात्र संगठन एबीवीपी ने जीत दर्ज की है। एनएसयूआई के रॉकी तूसीद दिल्ली विश्वविद्यालय छात्रसंघ (डूसू) के अध्यक्ष चुने गए हैं उन्होंने एबीवीपी के रजत चौधरी को हराया। 

चार साल बाद डूसू चुनाव में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद पर कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई को बड़ी कामयाबी मिली है। पिछले कई वर्षों से डीयू में जीत हासिल करती आ रही एबीवीपी के लिए यह बड़ा झटका है। इससे पहले जेएनयू में भी एबीवीपी सेंट्रल पैनल की चारों सीटों पर दूसरे स्थान पर रही थी।

पिछले साल एनएसयूआई चार सीटों में से सिर्फ संयुक्त सचिव पर ही जीत सकी थी। लेकिन इस बार एनएसयूआई ने बड़ी वापसी की है। एबीवीपी और एनएसयूआई के बीच कांटे के मुकाबले में एक समय एनएसयूआई चार में से तीन सीटों पर आगे चल रही थी। 

Advertisement

कौन-कौन जीते 

अध्यक्ष – रॉकी तूसीद- एनएसयूआई 

उपाध्यक्ष- कुनाल शहरावत- एनएसयूआई 

सचिव- महामेधा नागर- एबीवीपी 

संयुक्त सचिव- उमा शंकर- एबीवीपी

कांग्रेसी नेताओं में खुशी की लहर

हालांकि, यह छात्रसंघ चुनाव था लेकिन कांग्रेस के बड़े-बड़े नेताओं ने अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद पर एनएसयूआई की जीत पर खुशी जाहिर की है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता संजय निरुपम ने भाजपा पर निशाना साधत हुए ट्वीट किया, ”बोल कि लब आज़ाद हैं तेरे! एनएसयूआई की शानदार जीत, बीजेपी और एबीवीपी को बड़ा झटका.” उन्होंने आगे लिखा कि राष्ट्रवाद के नाम पर गुंडागर्दी को खारिज किया गया है। 


कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरेजवाला समेत कई नेताओं ने एनएसयूआई के छात्रों को डीयू की जीत की बधाई दी है। उन्होंने कहा कि राजस्थान,पंजाब और अब दिल्ली के छात्रसंघ में कांग्रेस-NSUI की जीत ने साबित किया है कि युवा मोदीजी के अच्छे दिन के झूठे वादों को नकार चुका है। 

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने भी एनएसयूआई को जीत की बधाई दी है।

लोगों की प्रतिक्रियाएं

वहीं कई लोगों ने एबीवीपी की हार पर तंज भी कसे। एक ने अमित शाह के बयान के आधार पर कहा कि तकनीकी वजहों से डीयू में एबीवीपी की हार हो गई है। बता दें कि अमित शाह ने पिछले दिनों कहा था कि तकनीकी वजहों से जीडीपी में गिरावट आई है।



अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.