Home » देश » पड़ताल » बीएसएफ जवान का आरोप, बर्बरता के बीच कई बार तो रहना पड़ता है भूखे

बीएसएफ जवान का आरोप, बर्बरता के बीच कई बार तो रहना पड़ता है भूखे

JAN 10 , 2017

बीएसएफ जवान का तेज बहादुर यादव का यह वीडियो फेसबुक पर वायरल हुआ है जिसे अब तक लाखों लोग देख चुके हैं। पुंछ के साब्जियां नियंत्रण रेखा पर तैनात जवान तेज बहादुर यादव ने वीडियो में अपने सीनियर अधिकारियों पर बड़े घोटाले का आरोप लगाया है।

अपने कैंप के खाने पीने में हो रहे कथित घोटाले के लिए तेज बहादुर केवल अपने अधिकारियों पर आरोप लगा रहा है, सरकार या सेना प्रशासन पर नहीं। वीडियो में अपनी दुर्दशा का हवाला देते हुए आरोप लगाया है कि उसे बर्फ में 11 घंटे की ड्यूटी देनी पड़ती है। वीडियो सामने आने के बाद जहां गृह मंत्रालय ने इसकी रिपोर्ट मांगी है वहीं बीएसएफ ने भी सफाई दी है।

जवान ने फेसबुक पर डाले अपने वीडियो में आरोप लगाया है कि उन्‍हें अच्‍छा खाना तक नसीब नहीं होता है। जवान ने कहा है कि देशवासियों मैं आपसे एक अनुरोध करना चाहता हूं। हम लोग सुबह 6 बजे से शाम 5 बजे तक, लगातार 11 घंटे इस बर्फ में खड़े होकर ड्यूटी करते हैं। कितना भी बर्फ हो, बारिश हो, तूफान हो, इन्‍हीं हालातों में हम ड्यूटी कर रहे हैं। 

Advertisement

जवान ने यह भी दावा किया है कि वो किसी सरकार के खिलाफ आरोप नहीं लगाना चाहता क्‍योंकि सरकार हर चीज और हर सामान हमें देती है लेकिन वरिष्‍ठ अधिकारी सब बेचकर खा जाते हैं और हमें कुछ नहीं मिल पाता। 

वीडियो सामने आने के बाद सरकार हरकत में आ गई और मामले की जांच भी शुरू कर दी है। गृहमंत्री ने गृह सचिव को आदेश दिए हैं कि वो बीएसएफ से रिपोर्ट तलब कर जरूरी कार्रवाई करे। वहीं एक डीआईजी स्‍तर के अधिकारी को जम्‍मू भी भेजा गया है जहां यह जवान तैनात हैं।

वीडियो को लेकर बीएसएफ ने सफाई में कहा है कि हम अपने जवानों की जरूरतों का पूरा ध्‍यान रखते हुए उन्‍हें पूरा करने के लिए तत्‍पर रहते हैं। अगर किसी को कोई परेशानी हुई है तो इसकी जांच होगी। सोशल मीडिया पर अपने संदेश को डालते हुए तेज बहादुर ने अपील की है कि उसके दर्द को देश समझे।

दूसरी ओर, खुद वीडियो बनाने वाले जवान तेज बहादुर यादव के जीवन को लेकर भी कई सनसनीखेज जानकारी सामने आई है। सूत्रों के अनुसार बीएसएफ के जवान तेज बहादुर का करियर विवादों में रहा है, 20 साल की सेवा में 4 बार कड़ी सजा मिल चुकी है। उस पर अपने कमांडेंट पर बंदूक ताने तक का संगीन आरोप लग चुका है।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.