Home देश भारत दिल्ली की रैली में कांग्रेस का मोदी सरकार पर करारा हमला, कहा- हर रोज उड़ाई जा रही हैं संविधान की धज्जियां

दिल्ली की रैली में कांग्रेस का मोदी सरकार पर करारा हमला, कहा- हर रोज उड़ाई जा रही हैं संविधान की धज्जियां

आउटलुक टीम - DEC 14 , 2019
भारत बचाओ रैली में बोली सोनिया गांधी- आज देश में अंधेर नगरी, चौपट राजा है
Twitter
भारत बचाओ रैली में बोले राहुल गांधी- मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं, माफी नहीं मांगूगा
Twitter
दिल्ली के रामलीला मैदान में कांग्रेस की ‘भारत बचाओ’ रैली आज, गिरती अर्थव्यवस्था-बेरोजगारी होंगे मुद्दे
Twitter
आउटलुक टीम

कांग्रेस पार्टी ने आर्थिक मंदी, किसान विरोधी नीतियों, महिलाओं के खिलाफ हिंसा, बेरोजगारी और संविधान पर हमले को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ शनिवार को दिल्ली के रामलीला मैदान में एक बड़ी रैली की। इसमें कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी, राहुल गांधी, सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह समेत कांग्रेस के नेताओं ने मोदी सरकार पर करारा हमला बोला। सोनया गांधी ने कहा कि महिलाओं के ऊपर जो जुर्म आज हो रहा है। उसको देखकर हमारा सिर झुक जाता है। आज तो अंधेर नगरी चौपट राजा जैसा माहौल है। वहीं, राहुल गांधी ने  कहा, ‘मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं राहुल गांधी है।’ राहुल ने ये बात माफी मांगने के संदर्भ में कही थी। राहुल ने कहा, “कल मुझसे बीजेपी के लोग माफी मांगने के लिए कह रहे थे। पर मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं नाम राहुल गांधी है। मैं मर जाऊंगा लेकिन माफी नहीं मागूंगा। माफी नरेंद्र मोदी को मांगनी है, माफी अमित शाह को मांगनी है।” 

इसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि पूरा देश पूछ रहा है कि सबका साथ सबका विश्वास कहां है। रोजगार कहां चले गए। अर्थव्यवस्था क्यों तबाह हो गई। कालाधन बाहर क्यों नहीं आया। आज का माहौल ऐसा हो गया कि जब मन करे कोई धारा लगा दो, हटा दो, प्रदेश का नक्शा बदल दो, बिना बहस कोई विधेयक बदल दो। ये हर रोज संविधान की धज्जियां उड़ाते हैं। उन्होंने कहा कि देश को बचाने के लिए कठोर संघर्ष करना होगा।

'हम लोकतंत्र की रक्षा के लिए कोई भी कुर्बानी देने को तैयार हैं'

अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर सोनिया ने कहा कि ना पैसे घर में रख सकते हैं, ना बैंक में। नागरिकता कानून पर सोनिया ने कहा कि इसके चलते पूर्वोत्तर जल रहा है। उन्होंने कहा कि नाइंसाफी सहना सबसे बड़ा अपराध है, इसलिए मोदी और शाह को आवाज बुलंद कर के बताइए कि हम लोकतंत्र की रक्षा के लिए कोई भी कुर्बानी देने को तैयार हैं।

 'नागरिकता संशोधन कानून ने देश की आत्मा को तार-तार कर रहा'

सोनिया ने कंपनियों के विनिवेश पर कहा कि देश की कपंनियों को क्यों और किसके हाथ बेचा जा रहा है। देश की नौरत्न कंपनियों को बेचने का फैसला गलत है। सोनिया गांधी ने कहा कि देश को बचाना है तो हमें कठोर संघर्ष करना पड़ेगा। वहीं, नागरिकता संशोधन कानून को लेकर उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून ने देश की आत्मा को तार-तार कर रहा है।

आज चुप रहे तो संविधान नष्ट हो जाएगा

दिल्ली के रामलीला मैदान में हुई महारैली में कांग्रेस पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी जमकर सत्तारूढ़ भाजपा पर बरसीं। उन्होंने कहा कि जो लोग आज की स्थिति से नहीं लड़ेंगे वे इतिहास में कायर कहलाएंगे। यदि आप भारत से प्यार करते हैं, तो आवाज उठाएं। अगर आज हम चुप रहे, तो हमारा संविधान नष्ट हो जाएगा। देश का विभाजन शुरू हो जाएगा और हम सभी इस विभाजन के लिए भाजपा और आरएसएस की तरह जिम्मेदार होंगे। प्रियंका ने रैली में उन्नाव की बलात्कार पीड़िता का मुद्दा भी उठाया।

रैली से पहले राहुल ने किया था ट्वीट

सोनिया से पहले रैली में जाने से राहुल गांधी ने रैली के बारे में ट्वीट भी किया था। राहुल गांधी ने कहा, “ये सरकार कारोबारियों का कर्ज माफ कर रही है और लोगों के कॉल का रेट बढ़ा रही है। जब तक देश की जनता के पास पैसे नहीं होंगे, तब तक देश की अर्थव्यवस्था आगे नहीं जा सकती। नरेंद्र मोदी ने आपकी जेब से पैसा निकाल लिया है।” रैली को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी संबोधित किया। उन्होंने मोदी सरकार पर हमला बोला। प्रियंका ने कहा, “आज देश की जीडीपी पाताल में चली गई है। देश की अर्थव्यवस्था को नष्ट किया जा रहा है।”

जनता से वादा किया था कि वो देश को खुशहाल बना देंगे- मनमोहन सिंह

देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा, “मोदी जी ने देश की जनता को जो सब्जबाग दिखलाए थे, जनता से वादा किया था कि वो देश को खुशहाल बना देंगे। किसानों से वादा किया था कि उनकी आमदनी दोगुनी हो जाएगी, युवाओं से वादा किया था कि हर साल दो करोड़ रोजगार देंगे लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ।”

उठा नागरिक संशोधन कानून का मुद्दा  

रैली में कांग्रेस ने नागरिक संशोधन कानून का मुद्दा भी उठाया और मोदी सरकार को घेरने की कोशिश की। कांग्रेस ने संसद के दोनों सदनों में इस कानून का विरोध किया था और कहा था कि इस कानून जरिए धर्म के आधार पर देश को बांटने की कोशिश की गई है। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इस कानून के संसद से पास होने के दिन को इतिहास का काला दिन बताया था।

कांग्रेस शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्री भी रैली में मौजूद थे। रैली में हिस्सा लेने के लिए देश के कोने-कोने से लाखों कांग्रेस कार्यकर्ता रामलीला मैदान पहुंचे।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से