Home » देश » भारत » इलाहाबाद के नाम बदलने को लेकर फिर गरमाई सियासत, कुंभ से पहले ‘प्रयाग’ करने की मांग

इलाहाबाद के नाम बदलने को लेकर फिर गरमाई सियासत, कुंभ से पहले ‘प्रयाग’ करने की मांग

JUL 10 , 2018

शहरों के नाम बदलने को लेकर एक बार फिर राजनीति गरमा गई है। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी इलाहाबाद का नाम ‘प्रयाग’ रखे जाने के प्रस्ताव का समर्थन किया है ।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक स्वामी ने इस मामले में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के हस्तक्षेप का आग्रह किया।

उन्होंने कहा, "जब हमारे प्रधान मंत्री मोदी मुख्यमंत्री थे, उन्होंने केंद्र को एक सिफारिश भेजी थी कि अहमदाबाद का नाम बदलकर कर्णवती रखा जाना चाहिए। आज वह प्रधान मंत्री हैं, अब  वह आसानी से नाम बदल सकते हैं। वह ऐसा क्यों नहीं कर रहे हैं?"      

स्वामी ने मांग की कि मुगलों और अंग्रेजों द्वारा दिए गए नाम बदल दिए जाएं और पुराने नाम वापस रखे जाएं।

सोमवार को उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने अगले साल कुंभ मेला से पहले इलाहाबाद का नाम प्रयाग किए जाने का गवर्नर राम नाइक से अनुरोध किया था।

 इलाहाबाद को पवित्र स्थान माना जाता है, यहां तीन नदियों का संगम होता है, अर्थात् गंगा, यमुना और सरस्वती यहां मिलती हैं। यह कुंभ मेला का भी स्थान है, जो हर 12 वर्षों में एक बार आयोजित होता है।

 कुछ मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, 2019 में आने वाले कुंभ मेला के बैनर में इलाहाबाद के बजाय प्रयागराज नाम का उल्लेख किया जा रहा है।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.