Home » देश » भारत » SC के चार जजों ने चीफ जस्टिस को लिखी थी 7 पन्नों की चिट्ठी, जानिए 4 अहम बातें

SC के चार जजों ने चीफ जस्टिस को लिखी थी 7 पन्नों की चिट्ठी, जानिए 4 अहम बातें

JAN 12 , 2018

सुप्रीम कोर्ट के चार मौजूदा  जजों ने शुक्रवार को मीडिया के सामने आकर सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की प्रशासनिक कार्यशैली पर तीखे सवाल उठाए। इस दौरान चारों जजों ने एक चिट्ठी जारी की। जजों के मुताबिक यह चिट्ठी उन्होंने चीफ जस्टिस को लिखी थी।

आइए जानते हैं इस चिट्ठी में लिखी अहम बातें...

-हमे बेहद दुख और चिंता है इसलिए यह खत लिखा है। ये सही होगा कि आपको चिट्ठी के द्वारा मामले को बताया जाए। हाल में जो आदेश पारित किये उससे न्याय प्रक्रिया पर बुरा असर पड़ा है साथ ही सीजेआई के कार्यालय और हाई कोर्ट के प्रशासन पर सवाल उठा है।

-सिद्धांत यही है कि चीफ जस्टिस के पास रोस्टर बनाने का अधिकार है। वह तय करते हैं कि कौन सा केस इस कोर्ट में कौन देखेगा। यह विशेषाधिकार इसलिए है, ताकि सुप्रीम कोर्ट का कामकाज सुचारू रूप से चल सके। लेकिन इससे चीफ जस्टिस को उनके साथी जजों पर कानूनी, तथ्यात्मक और उच्चाधिकार नहीं मिल जाता। इस देश के न्यायशास्त्र में यह स्पष्ट है कि चीफ जस्टिस अन्य जजों में पहले हैं, बाकियों से ज्यादा या  कम नहीं।

-इस देश की सभी अदालतों और सुप्रीम कोर्ट को उन मामलों पर संज्ञान नहीं लेना चाहिए, जिन्हें उपयुक्त बेंच द्वारा सुना जाना है। यह रोस्टर के मुताबिक तय होना चाहिए। जजों ने कहा हमें यह कहते हुए दुख हो रहा है कि इन नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है।

- ऐसे भी कई मामले हैं, जिनका देश के लिए खासा महत्व है। लेकिन, चीफ जस्टिस ने उन मामलों को तार्किक आधार पर देने की बजाय अपनी पसंद वाली बेंचों को सौंप दिया। इसे तुरंत रोके जाने की जरूरत है। यहां हम मामलों का जिक्र इसलिए नहीं कर रहे हैं, ताकि संस्थान की प्रतिष्ठा को चोट न पहुंचे। लेकिन इस वजह से न्यायपालिका की छवि को नुकसान हो चुका है।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.