Home देश भारत दिल्ली पुलिस ने दर्ज की दूसरी एफआईआर, जेएनयू छात्रों ने कहा- फीस वापसी तक जारी रहेगा प्रदर्शन

दिल्ली पुलिस ने दर्ज की दूसरी एफआईआर, जेएनयू छात्रों ने कहा- फीस वापसी तक जारी रहेगा प्रदर्शन

आउटलुक टीम - NOV 19 , 2019
दिल्ली पुलिस ने दर्ज की दूसरी एफआईआर, जेएनयू छात्रों ने कहा- फीस वापसी तक जारी रहेगा प्रदर्शन
JNUSU की MHRD से अपील- संकट का हो समाधान, छात्रों की करें मदद
आउटलुक टीम

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में फीस बढ़ोतरी को लेकर हंगामा जारी है। सोमवार को हुए प्रदर्शन को लेकर दिल्ली पुलिस ने आज अज्ञात छात्रों के खिलाफ दूसरी एफआईआर दर्ज की है। वहीं, इससे पहले  जेएनयू छात्रों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि जब तक मांगें नहीं मानी जातीं, प्रदर्शन जारी रहेगा। साथ ही छात्रों ने मांग की प्रदर्शन कर रहे छात्र-छात्राओं के खिलाफ कोई प्रशासनिक या कानूनी कार्रवाई ना की जाए। जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने बताया कि उन्होंने मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एचआरडी) के जॉइंट सेक्रेटरी जीएस होसुर से मुलाकात में यह मांग रखी। घोष ने कहा कि छात्रों को इन प्रदर्शनों के लिए ई-मेल मिल रहे हैं लेकिन यह प्रदर्शन एक उद्देश्य से किया जा रहा है और कोई भी छात्र एक रुपए का जुर्माना नहीं भरेगा। साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि बातचीत के लिए एचआरडी मंत्रालय द्वारा गठित पैनल से यूनिवर्सिटी रजिस्ट्रार ने बात करने से मना कर दिया। 

छात्रों की ओर से कहा गया कि हम पिछले 23 दिनों से मांग कर रहे हैं लेकिन कोई भी हमारी बात नहीं सुन रहा है। दिल्ली पुलिस के द्वारा जो लाठीचार्ज किया गया, वह बर्बरता है। छात्राओं ने पुलिस पर उत्पीड़न का आरोप लगाया। छात्रों ने कहा कि कई छात्र जो घायल हैं, वह प्रेस कॉन्फ्रेंस का हिस्सा नहीं बन पाए। अध्यक्ष आइशी घोष ने आरोप लगाया कि जिस बस में उन्हें पुलिस पकड़ कर ले गई, वो सीधा पुलिस स्टेशन नहीं ले गए बल्कि यूं ही घुमाते रहे।

दिल्ली पुलिस ने दर्ज की एफआईआर

सोमवार को छात्रों द्वारा संसद मार्च का आयोजन किया गया। इस दौरान दिल्ली पुलिस के साथ छात्रों की झड़प हुई, कई छात्र घायल भी हुए। इसे लेकर अब दिल्ली पुलिस ने अज्ञात छात्रों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की। वहीं प्रदर्शन के दौरान घायल हुए छात्रों को लेकर जेएनयू छात्र संघ मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगा। इस दौरान अपनी मांगों को लेकर बात की जाएगी और प्रदर्शन में घायल छात्रों के बारे में बताया जाएगा। इसके अलावा छात्रों ने मानव संसाधन मंत्रालय (एमएचआरडी) से जल्द निराकरण की मांग की है। छात्रों ने मंत्रालय से अपील की है कि वह जेएनयू के सभी छात्रों के परामर्श से एक नया आईएचए  मैनुअल तैयार करें। हॉस्टल और अन्य फीस में प्रस्तावित बढ़ोतरी पर पुनर्विचार करें क्योंकि यह कई छात्रों के करियर के लिए यह हानिकारक साबित होगा। 

सोमवार को संसद मार्च के लिए अड़े छात्रों और पुलिस के बीच जमकर तनाव देखने को मिला। धारा 144 होने के बावजूद सैकड़ों की संख्या में छात्र सड़कों पर उतरे थे। इस दौरान छात्रों ने लाठीचार्च का भी आरोप लगाया। छात्रों के प्रदर्शन के चलते मंगलवार को भी जेएनयू का शैक्षणिक कामकाज बंद रहा। 

जेएनयूएसयू की अध्यक्ष आइशी घोष ने एमएचआरडी में संयुक्त सचिव (जेएस) गिरीश होसुर को एक पत्र लिखा, "हम आपको हमारी दुर्दशा पर विचार करने और हमारी मांगों का समर्थन करने का आग्रह करते हैं। हम जेएनयू समुदाय की ओर से आपसे अपील करते हैं कि हमारी न्यायोचित और उचित मांगों का समर्थन करें और संकट को हल करने के लिए एमएचआरडी पर कार्यवाई करे।”

पत्र में जेएनयूएसयू ने आरोप लगाया, "प्रशासन द्वारा जिस तरह शुल्क बढ़ोतरी के रोलबैक का दावा का जा रहा है वह गलत है। बीपीएल छात्रों को किसी भी राहत के बजाय उनके दुख को बढ़ाया गया है।"

मानव संसाधन मंत्रालय ने गठित की समिति

जानकारी के अनुसार, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने तीन सदस्यीय एक समिति गठित की जो विश्वविद्यालय में सामान्य कार्यप्रणाली बहाल करने के तरीकों की सिफारिश करेगी। समिति छात्रों और विश्वविद्यालय प्रशासन से तत्काल वार्ता करेगी और उठाए जाने वाले कदमों पर सुझाव देगी। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) समिति के कामकाज के लिए आवश्यक सहयोग उपलब्ध कराएगा। विश्वविद्यालय के छात्रों का कहना है कि समिति गठित करने के बारे में मंत्रालय ने छात्रसंघ को कोई सूचना नहीं दी। प्रशासनिक अधिकारी और समिति को इस मुद्दे को सुलझाने के लिए निर्वाचित छात्रसंघ से बात करनी चाहिए।

पूर्व अध्यक्ष का आरोप, दिल्ली पुलिस ने नेत्रहीन छात्र को बूट से रौंदा

दिन भर चले हंगामे के बाद दिल्ली पुलिस ने बताया कि सोमवार को जेएनयू धरना प्रदर्शन में कम से कम 30 पुलिसकर्मी और 15 छात्र घायल हो गए। इस दौरान यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष एन साई बालाजी ने एक छात्र की बेरहमी से पिटाई को लेकर ट्वीट किया। एन साई बालाजी ने बताया कि क्रांतिकारी गायक और जेएनयूएसयू के सदस्य शशिभूषण समद को बुरी तरह से पीटा गया है। वे नेत्रहीन हैं। वे एम्स ट्रॉमा सेंटर में भर्ती हैं और उनकी हालत गंभीर बनी हुई है।

'लाठीचार्ज की होगी जांच'

दिल्ली पुलिस के पीआरओ मंदीप एस रंधावा ने कहा है, 'हम छात्रों की मांगों को लेकर उनसे बात करने की कोशिश के साथ उन्हें कानून अपने हाथ में नहीं लेने की सलाह दे रहे हैं। लाठीचार्ज के आरोपों की हम जांच करेंगे।'

छात्र इसलिए कर रहे हैं प्रदर्शन

-विश्वविद्यालय के नए नियमों के अनुसार हॉस्टल फीस में भारी भरकम बदलाव किया गया है। प्रशासन का कहना है कि पिछले 14 सालों से हॉस्टल के फ़ीस स्ट्रक्चर में बदलाव नहीं किया गया था। पहले डबल सीटर कमरे का किराया 10 रुपये थी जिसे बढ़ा कर 300 रुपये प्रति महीना किया गया। जबकि सिंगल सीटर कमरे का किराया 20 रुपये से बढ़ाकर 600 रुपये रखा गया है।

-वन टाइम मेस सेक्टोरिटी फीस 5500 रुपये से बढ़ा कर 12000 रुपये कर दिया गया है।

-रात 11 बजे या अधिकतम 11.30 बजे के बाद छात्रों को अपने हॉस्टल के भीतर रहना होगा और बाहर नहीं निकल सकेंगे। अगर कोई अपने हॉस्टल के अलावा किसी अन्य हॉस्टल या कैंपस में पाया जाता है तो उसे हॉस्टल से निकाला जाएगा।

-नए मैनुअल में ये भी लिखा गया है कि लोगों को डाइनिंग हॉल में ''उचित कपड़े'' पहन कर आना होगा।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से