Home देश भारत निजामुद्दीन में पुलिस की चूक आई सामने, हॉकर्स-दुकानदारों के खिलाफ FIR लेकिन की थी मरकज की अनदेखी

निजामुद्दीन में पुलिस की चूक आई सामने, हॉकर्स-दुकानदारों के खिलाफ FIR लेकिन की थी मरकज की अनदेखी

जीवन प्रकाश शर्मा - APR 03 , 2020
निजामुद्दीन में पुलिस की चूक आई सामने, हॉकर्स-दुकानदारों के खिलाफ FIR लेकिन की थी मरकज की अनदेखी
दिल्ली पुलिस ने निजामुद्दीन में हॉकर्स, दुकानदारों के खिलाफ दर्ज की थी FIR, लेकिन मरकज में भीड़ जुटने की अनदेखी की

दिल्ली पुलिस ने 25 मार्च को निजामुद्दीन इलाके में एक फुटपाथ पर राष्ट्रीय राजधानी के पसंदीदा स्नैक्स गोलगप्पा बेचने के आरोप में एक 68 वर्षीय हॉकर गुरबिंदर सिंह के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी। प्राथमिकी में कहा गया है कि सिंह की दुकान ने छह से सात लोगों की भीड़ को आकर्षित किया और इस प्रकार, लोगों के जुटने को प्रतिबंधित करने के सरकार के आदेश का उल्लंघन किया।

गोलगप्पा विक्रेता के अलावा, 25 से 28 मार्च के बीच, निजामुद्दीन में पुलिस ने एक गेस्ट हाउस, एक मिठाई की दुकान के मालिक और एक दुकानदार के खिलाफ तीन और एफआईआर दर्ज कीं, जिसमें सामाजिक दूरी को लेकर सरकारी आदेश का उल्लंघन करने का आरोप लगाया गया था।

एक प्रत्यक्षदर्शी का कहना है, बीट कांस्टेबलों ने उन लोगों को परेशान किया जो आवश्यक वस्तुओं को खरीद रहे थे। वहां मजबूरन दुकानों को बंद करना पड़ा। अगर वे सामाजिक दूरी को लेकर चिंतित थे, तो उन्होंने मरकज में लोगों के जुटने पर भी ऐसा ही किया होगा। ”

स्थानीय दुकानदारों और हॉकरों के खिलाफ सभी चार एफआईआर में बीट कांस्टेबल शिकायतकर्ता हैं। उन्होंने कहा है कि क्षेत्र के चक्कर लगाने के दौरान, उन्होंने इन लोगों को सामाजिक दूरी को लेकर सरकार के निर्देश का उल्लंघन करते हुए पाया।

दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता मनदीप सिंह रंधावा ने आउटलुक के कॉल का जवाब नहीं दिया।

बिना कोई वजह, पुलिस ने अलमी मरकज मस्जिद में 1,000 से अधिक लोगों के इकट्ठे होने के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। यह मरकज अब जो कोरोना वायरस विवाद के केंद्र में है और संयोग से निजामुद्दीन पुलिस स्टेशन के साथ अपनी बाउंड्री साझा करता है।

कार्रवाई करने के बजाय, 24 मार्च को एसएचओ ने मस्जिद को खाली करने के लिए नोटिस दिया।

अब, जब संकट नियंत्रण से बाहर हो गया है, तो पुलिस ने महामारी रोग अधिनियम और भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं और तबलिगी जमात के प्रमुख मौलाना साद कांधलवी और अन्य सदस्यों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। और 31 मार्च को मरकज मस्जिद के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

लेकिन अब बहुत देर हो चुकी है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से