Home » देश » भारत » ईसाई समूह की मांग, महिलाओं के कन्फेशन ननों से करवाया जाए

ईसाई समूह की मांग, महिलाओं के कन्फेशन ननों से करवाया जाए

MAR 20 , 2017
केरल में आम लोगों के एक संगठन ने मांग की है कि महिलाओं और नाबालिगों की अपराध स्वीकारोक्ति :कन्फेशन: की रस्म पादरियों के बजाय ननों से करवाने की अनुमति दी जाए।

गिरिजाघरों में सुधारों के लिए आवाज उठाने वाला केरल कैथलिक रीफॉर्मेशन मूवमेंट अपनी मांग को लेकर कोच्चि में बिशप हाउस के बाहर धरने पर बैठ गया।

Advertisement

संगठन की सदस्य इंदुलेखा जोसेफ ने कहा कि वे पादरियों की कथित संलिप्तता वाले यौन उत्पीड़न के बढ़ते मामलों को देखते हुए यह मांग उठा रहे हैं।

इस आंदोलन में महिलाओं और वरिष्ठ नागरिकों समेत कई लोगों ने हिस्सा लिया। यह धरना कोच्चि में मरीन ड्राइव पर आर्चबिशप के मकान के सामने किया गया।

धरने पर बैठे लोगों के हाथ में बैनर थे,  जिनपर लिखा था- ननों को महिलाओं की अपराध स्वीकारोक्ति की रस्म कराने दी जाए,  महिलाएं पादरियों के स्वीकारोक्ति केंद्रों से डरती हैं।

इंदुलेखा ने यह भी दावा किया कि बाइबिल में यह कहीं नहीं कहा गया है कि स्वीकारोक्ति का काम सिर्फ पादरी ही करवाएं।

केरल कैथलिक बिशप काउंसिल ने समूह के इस विरोध प्रदर्शन को खारिज करते हुए कहा कि इस समय इस मुद्दे पर चर्चा की कोई जरूरत नहीं है।

फादर वर्गीज वल्लीकट ने पीटीआई भाषा से कहा, यह आंदोलन सिर्फ मीडिया का ध्यान आकर्षित करने के लिए है और इसका आयोजन पवित्र बाइबिल के मूल सिद्धांतों को समझे बिना ही किया गया है।

उन्होंने कहा, हम उनके द्वारा उठाए गए मुद्दे को अवमानना बताकर खारिज नहीं कर रहे लेकिन उनकी मांग में गंभीरता नहीं है। उन्हें चर्च के मामलों को गंभीरता से लेना चाहिए और बाइबिल पढ़नी चाहिए।

यह आंदोलन कन्नूर जिले के कोट्टियूर में एक कैथलिक पादरी द्वारा एक नाबालिग लड़की के साथ कथित तौर पर किए गए बलात्कार की हालिया घटना की पृष्ठभूमि में किया गया है। भाषा


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.