Home देश भारत 'चीनी सैनिक कठिनाइयों में इस्तेमाल के लिए मुश्किल': भारतीय सेना ने कहा, 'लंबे समय तक युद्ध के लिए तैयार'

'चीनी सैनिक कठिनाइयों में इस्तेमाल के लिए मुश्किल': भारतीय सेना ने कहा, 'लंबे समय तक युद्ध के लिए तैयार'

नसीर गनई - SEP 16 , 2020
'चीनी सैनिक कठिनाइयों में इस्तेमाल के लिए मुश्किल': भारतीय सेना ने कहा, 'लंबे समय तक युद्ध के लिए तैयार'
भारत-चीन सीमा पर जारी तनाव के बीच सेना का ट्रक पूर्वी लद्दाख की ओर बढ़ते हुए
PTI

भारतीय सेना ने कहा है कि भारत हमेशा बातचीत के माध्यम से मुद्दों को हल करना पसंद करता है, लेकिन युद्ध के मामले में लंबे समय तक गतिरोध के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं और एक पूर्ण युद्ध लड़ने में सक्षम हैं।

अपने एक बयान में, सेना ने कहा है कि पूरी तरह से तैयार हैं और पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में सर्दियों में भी एक पूर्ण युद्ध लड़ने में "सक्षम से अधिक" है। सेना ने कहा है कि उनके पास सियाचिन का अनुभव है, जहां चीन के साथ सीमाओं की तुलना में स्थिति बहुत अधिक है।

उन्होंने कहा कि "भारतीय सैनिक जो शारीरिक और मनोवैज्ञानिक रूप से युद्ध में कड़े होते हैं, कि तुलना में चीनी सैनिक ज्यादातर शहरी क्षेत्रों से होते हैं और क्षेत्र की परिस्थितियों में कठिनाई या लंबे समय तक तैनाती नहीं कर सकते हैं।"

सेना ने कहा, “चीन की अवधारणा हमेशा बिना लड़े युद्ध जीतने की रही है, इसलिए यदि वे युद्ध के लिए स्थितियां बनाते हैं, तो वे बेहतर प्रशिक्षित, बेहतर तैयार, आराम और मनोवैज्ञानिक रूप से कठोर भारतीय सैनिकों के बीच आएंगे। ये चिंताएं चीनी सैनिकों के दिमाग में घर कर रही हैं और चीनी मीडिया में दिखाई भी दे रही हैं।

सेना के उत्तरी कमान का कहना है, “लद्दाख में अत्यधिक ऊँचाई है और यहाँ बहुत बर्फबारी होती है। नवंबर के महीने के बाद 40 फीट तक बर्फ होता है। इसके साथ हीं न्यूनतम तापमान नकारात्मक 30-40 डिग्री नीचे तापमान होता है। विंड चिल फैक्टर सैनिकों के लिए मुश्किलात पैदा करता है। बर्फ के कारण सड़कें भी बंद हो जाती हैं। लेकिन इस सब के बावजूद, भारत के लिए सबसे उत्साहजनक हिस्सा यह है कि भारतीय सैनिकों के पास शीतकालीन युद्ध का बड़ा अनुभव है और सेना मनोवैज्ञानिक रूप से सक्षम होते हैं।“

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से