Home देश सामान्य महाराष्ट्र के चंद्रपुर में आज दादाजी खोब्रागड़े के परिवार से मिले राहुल गांधी

महाराष्ट्र के चंद्रपुर में आज दादाजी खोब्रागड़े के परिवार से मिले राहुल गांधी

आउटलुक टीम - JUN 13 , 2018
महाराष्ट्र के चंद्रपुर में आज दादाजी खोब्रागड़े के परिवार से मिले राहुल गांधी
महाराष्ट्र के चंद्रपुर में आज दादाजी खोब्रागड़े के परिवार से मिले राहुल गांधी
Twitter

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार को महाराष्ट्र के चंद्रपुर जिले के एक छोटे से गांव नांदेड गए, जहां उन्होंने दिवंगत कृषि वैज्ञानिक दादाजी खोब्रागड़े की मौत के बाद उनके परिवार से मुलाकात की और खोब्रागड़े को श्रद्धांजलि दी। दादाजी खोब्रागड़े को धान की प्रजाति विकसित करने के लिए अवॉर्ड भी मिला था।

चंद्रपुर के नांदेड़ गांव पहुंचकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसानों के साथ चौपाल पर चर्चा की। चंद्रपुर रवाना होने से पहले राहुल ने मुंबई में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में बीजेपी, आरएसएस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि 2019 के लिए अब महागठबंधन जरूरी हो गया है।

खोब्रागड़े को बताया सच्चा लोकसेवक  

खोब्रागड़े को श्रद्धांजलि देने के बाद राहुल गांधी ने कहा कि वह सच्चे लोकसेवक थे। उनके निधन से खाली हुए स्थान को कभी भरा नहीं जा सकता। इस दौरान उन्होंने खोब्रागड़े के परिवार से भी मुलाकात की।

<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en"><p lang="en" dir="ltr">Dadaji Khobragade, a Dalit farmer-scientist, invented the revolutionary HMT variety of paddy. But, he died largely forgotten and in penury. <br><br>I visited his home in Nanded, Maharashtra, to condole with his family and to apologise for our apathy as a nation, to his achievements. <a href="https://t.co/DPKJjGbgxa">pic.twitter.com/DPKJjGbgxa</a></p>&mdash; Rahul Gandhi (@RahulGandhi) <a href="https://twitter.com/RahulGandhi/status/1006810800928018434?ref_src=twsrc%5Etfw">June 13, 2018</a></blockquote>
<script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

कौन थे दादाजी खोब्रागडे?

नांदेड़ गांव के रहने वाले दादाजी खोब्रागड़े ने एचएमटी धान की प्रजाति विकसित की थी। उन्होंने अपने आविष्कारों को मुफ्त में किसानों को बांटा और उसका कभी पेटेंट नहीं कराया। वह लोगों के जीवनस्तर सुधारने में जीवनभर लगे रहे।

79 साल के खोब्रागड़े लकवाग्रस्त हो गए थे। महाराष्ट्र के शोध ग्राम अस्पताल में इसी माह उनका निधन हो गया था। कौन थे दादाजी खोब्रागडे?

परिवार से मिलने नहीं गया बीजेपी का कोई मंत्री

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दादाजी खोब्रागडे की मौत के बाद चंद्रपुर जिले जहां से बीजेपी के केंद्र और राज्य के बड़े मंत्री है, उनमें से कोई भी उनके अंतिम दर्शन लेने या परिवार से मिलने नहीं गया। बाकी विधायक भी दूर रहे।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से