Home » देश » सामान्य » अब ड्राइविंग लाइसेंस भी होगा आधार से लिंक, ये है सरकार का प्‍लान

अब ड्राइविंग लाइसेंस भी होगा आधार से लिंक, ये है सरकार का प्‍लान

SEP 15 , 2017

मोबाइल नंबर और पैन कार्ड को आधार से लिंक करने को अनिवार्य बनाने के बाद केंद्र सरकार अब ड्राइविंग लाइसेंस को भी इससे जोड़ने की तैयारी में जुट गई है। सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर ने शुक्रवार को कहा कि वह ड्राइविंग लाइसेंस को भी आधार से लिंक करने के संबंध में उन्होंने परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से भी बात कर चुकी है।

डिजिटल गवर्नेंस ही गुड गवर्नेंस है

शुक्रवार को हरियाणा डिटिजल समित 2017 में रविशंकर ने कहा कि आधार की डिजिटल आइडेंटिटी से लोगों की फिजिकल आइडेंटिटी आसानी से पता लगाई जा सकती है। डिजिटल गवर्नेंस ही गुड गवर्नेंस है। डिजिटल टेक्नोलॉजी के जरिए कई मामलों में धोखाधड़ी पर लगाम लगेगी।

Advertisement

देश की डिजिटल इकोनॉमी दुनिया के लिए उदाहरण बनेगी

आधार की जरूरतों पर रविशंकर ने कहा कि हमारा बायोमैट्रिक कार्ड सेफ और सिक्योर है। ये गुड गवर्नेंस और डेवलपमेंट के लिए एक टूल है। पैन को आधार से लिंक कर हमनें मनी लॉन्ड्रिंग पर लगाम लगाई। डिजिटल गवर्नेंस ईमानदार, ट्रांसपेरेंट और कारगर है। देश की डिजिटल इकोनॉमी दुनिया के लिए उदाहरण बनेगी।  

80 देशों के 200 शहरों में हमारा दबदबा है

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री ने कहा, मुझे खुशी है कि आज देश की आईटी इंडस्ट्री ने दुनियाभर में अपना झंडा बुलंद किया है। 80 देशों के 200 शहरों में हमारा दबदबा है।

 ‘शराबियों पर कसेंगे शिकंजा

इससे पहले मई में भी रविशंकर ने ड्राइविंग लाइसेंस को आधार कार्ड से जोड़ने की बात कही थी> उस समय रविशंकर प्रसाद ने कहा था कि ऐसा इसलिए किया जाएगा ताकि डुप्लीकेट लाइसेंस की संख्या कम की जा सके। इसका एक फायदा यह भी होगा कि जो डुप्लीकेट लाइसेंस लेने के बाद शराब पीकर गाड़ी चलाते हैं, उन पर शिकंजा कसना आसान हो जाएगा।

इन चीजों के लिए अनिवार्य हो चुका है आधार

ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से लिंक करने की योजना बनाने से पहले सरकार ने पैन कार्ड और आपके मोबाइल नंबर को आधार से लिंक करना अनिवार्य कर दिया है। वहीं, पैन से आधार को लिंक करने को अनिवार्य किया। अगर आपने पैन कार्ड को आधार से लिंक नहीं किया तो आपके लिए आईटीआर फाइल करने में दिक्कत हो सकती है।

बता दें कि सरकार ने पैन को आधार से लिंक करने के सीमा 31 दिसंबर तक बढ़ा दी है। ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग पैन और आधार को जोड़ सकें।  


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.