Home देश सामान्य गोवा में ट्रेनिंग के दौरान मिग 29 फाइटर विमान क्रैश, दोनों पायलट सुरक्षित

गोवा में ट्रेनिंग के दौरान मिग 29 फाइटर विमान क्रैश, दोनों पायलट सुरक्षित

आउटलुक टीम - NOV 16 , 2019
गोवा में ट्रेनिंग के दौरान मिग 29 फाइटर विमान क्रैश, दोनों पायलट सुरक्षित
गोवा में ट्रेनिंग के दौरान मिग 29 फाइटर विमान क्रैश, दोनों पायलट सुरक्षित
ANI
आउटलुक टीम

ट्रेनिंग के दौरान भारतीय वायुसेना का लड़ाकू विमान मिग 29के क्रैश हो गया। दोनों पायलट सुरक्षित बाहर निकलने में कामयाब रहे। घटना शनिवार सुबह गोवा के एयरफोर्स के ट्रेनिंग कैंप के पास हुई।

नौसेना के अधिकारी ने बताया कि उड़ान भरने के तुरंत बाद ही विमान क्रैश हो गया। एयक्राफ्ट के एक पक्षी से टकरा जाने के कारण आग लग गई। पायलट कैप्टन एम. शोकंद और लेफ्टिनेंट कमांडर दीपक यादव ने सुरक्षित रूप से बाहर निकाल निकलने में कामयाब रहे। घटना में किसी के हताहत होने की खबर नहीं हैं। मिग 29 के आईएनएस हंसा डाबोलिम में तैनात मिग 29 का विमान वाहक संस्करण है।

स्थानीय निवासियों ने दी सूचना

प्रत्यक्षदर्शियों ने दुर्घटना के बाद दो पैराशूटों के साथ-साथ धुएं के विशाल ढेर को देखकर इसकी सूचना पुलिस को दी। एक आवासीय क्षेत्र में उतरने के बाद पायलटों को शुरुआत में स्थानीय निवासियों ने मदद की।

इस बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि दोनों पायलटों से बात की है। यह बहुत संतोष की बात है कि वे समय पर विमान से निकल गए और दोनों सुरक्षित हैं। मैं उनके अच्छे स्वास्थ्य और कल्याण के लिए प्रार्थना करता हूं।

इससे पहले भी हो चुके हैं हादसे

सितंबर महीने में मध्‍य प्रदेश के ग्वालियर में वायुसेना का एक मिग 21 ट्रेनर  विमान क्रैश हो गया था। इस हादसे में भी किसी की जान नहीं गई थी और समय रहते ही विमान के ग्रुप कैप्टन और स्क्वाड्रन लीडर समेत दोनों पायलटों ने खुद को सुरक्षित इजेक्‍ट कर लिया था। यह विमान भी नियमित प्रशिक्षण उड़ान पर था जो ग्‍वालियर एयरबेस के नजदीक ही हादसे का शिकार हो गया था। भारतीय वायु सेना ने इस हादसे की कोर्ट ऑफ इन्‍क्‍वायरी के आदेश दिए थे।

मार्च में राजस्थान के बीकानेर में भारतीय वायुसेना का मिग-21 बाइसन लड़ाकू विमान क्रैश हो गया था। हालांकि, पायलट ने विमान क्रैश होने से पहले ही पैराशूट के सहारे छलांग लगा दी थी। विमान ने बीकानेर के पास नल एयरबेस से उड़ान भरी ही थी कि पक्षी के टकराने के चलते हादसे का शिकार हो गया।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से